मुख्य समाचार
UPTET : हाईकोर्ट के आदेश को सुप्रीम कोर्ट ने किया निरस्त, 1 लाख से ज्यादा शिक्षकों को मिली राहत अखिलेश यादव ने योगी सरकार पर बोला करारा हमला, कहा- नौजवानों की जिन्दगी में ... फतेहपुर में प्रतिबंधित मांस मिलने पर बवाल, मदरसे पर पथराव साक्षी मामले पर मालिनी अवस्थी का बड़ा बयान, लड़कियां जीवन साथी चुनें लेकिन... यूपी पुलिस को मिली बड़ी सफलता, दो इनामी बदमाश किए ढेर वरिष्ठ पत्रकार बरखा दत्त ने कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल पर लगाए गम्भीर आरोप, मचा घमासान अंतिम संस्कार की चल रही थी तैयारी, अचानक युवक की खुली आंखे और फिर जो हुआ... सरकारी आवास के मोह पॉश में जकड़े दो पूर्व मंत्रियों को गहलोत सरकार ने दिया जुर्माने का झटका सलमान संग फिल्मों में डेब्यू कर सुपरस्टार बनीं कटरीना का नहीं है कोई क्राइम रिकॉर्ड 149 साल बाद बन रहा गुरू पूर्णिमा पर चंद्र दुर्लभ योग सपा नेता अखिलेश यादव की गोली मारकर हत्या, सियासत में भूचाल बच्चों में गुणवत्तापरक शिक्षा के साथ अच्छे संस्कार भी जरूरी : ब्रजेश पाठक  रवि किशन ने राहुल को दी नसीहत, सीरियस नहीं हुए तो राजनीति से करियर खत्म योगी सरकार शिक्षा के क्षेत्र में सरकारी नहीं असरदार कार्य कर रही है : उप मुख्यमंत्री जय श्रीराम न बोलने पर बागपत में मौलाना की पिटाई सावन की पूर्णिमा व अमावस्या पर होगी भव्य गंगा आरती पहले दूसरे जाति की लड़की से की शादी, फिर बेइज्जती के डर से पत्‍नी की करवा दी हत्या
 

अस्थायी पशु आश्रय स्थल की स्थापना के लिए मंडलीय बैठक सम्पन्न


MOHD ATHAR RAZA 14/01/2019 18:38:13
77 Views

Lucknow. मण्डलायुक्त अनिल गर्ग की अध्यक्षता में निराश्रित गौवंश के संरक्षण के लिए अस्थायी पशु आश्रय स्थल की स्थापना एवं संचालन सम्बन्धी मण्डलीय बैठक मण्डलायुक्त कार्यालय सभागार में सम्पन्न हुई। बैठक में मण्डलायुक्त ने मण्डल के सभी जनपदों के मुख्य विकास अधिकारियों को निर्देश दिए कि वह अपने-अपने जनपदों में पशु पालन विभाग, जिला पंचायत, ग्राम पंचायत स्थानीय निकाय के सहयोग से सभी निराश्रित गौवंश को चिन्हित कराकर उनमें ईयर ट्रैगिंग करवाई जाए तथा कार्य के प्रगति की सप्ताह में एक बार समीक्षा भी की जाए।

Circle meeting for establishment of temporary animal shelter site

 

उन्होंने कहा कि स्थानीय निकाय द्वारा संचालित कान्जी हाउस पशु संरक्षण केन्द्र जो बनाए गए हैं, उनमें कितने क्रियाशील हैं तथा कितने क्रियाशील नहीं है की समीक्षा कर ली जाए। इसके साथ ही जनपदों में पंजीकृत गैर पंजीकृत गौशालाओं की समीक्षा कर ली जाए कि वो क्रियाशील हैं या नहीं अगर क्रियाशील नहीं हैं तो उनकी क्या समस्या है, उसका निराकरण कराया जाए। उन्होंने कहा कि जनपदों में अधिकारियों द्वारा यह सुनिश्चित कराया जाए कि उनके जनपदों में जो कान्जी हाउस हैं उनके संचालकों द्वारा सार्वजनिक स्थलों पर घूम रहे जानवरों को पकड़कर कान्जी हाउस लाया जाए तथा जो पशु आश्रित हैं उनके स्वामियों से दण्ड वसूला जाए। जो निराश्रित हैं उनको प्रशासन द्वारा अस्थायी गौशाओं में शिफ्ट करवा दिया जाए। उन्होंने कहा कि जनपदों में वृद्ध गौसंरक्षण केन्द्र प्रस्तावित हैं उनमें शीघ्र निर्माण कार्य कराया जाए। उन्होंने कहा कि निजी क्षेत्र में संचालित गौशालाओं में निराश्रित पशुओं को रखने के लिए संचालकों को प्रेरित किया जाए। उन्होंने कहा कि ग्रामपंचायत, क्षेत्रपंचायत, जिलापंचायत एवं स्थानीय निकायों में यदि ऐसे अनुपयोगी भवन बने हुए हैं जिनका उपयोग सम्बन्धी विभाग द्वारा नही किया जा रहा है उनसे सहमत लेकर वैकल्पिक व्यवस्था के रूप में निराश्रित गौवंश को रक्खा जा सकता है। 

उन्होंने कहा कि ग्राम पंचायतों में चारागाह की जमीन को चिन्हित कर उसमें बाउण्ड्री वाल, बैरी केटिंग बिना कांटे दार तार से अथवा खांई खुदवाकर उन्हें सुरक्षित करके उनमें पशुओं को रखा जाए। उन्होंने कहा कि पशुओं के भरण पोषण के लिए जनसमुदाय के सहयोग से भूसे आदि की व्यवस्था करायी जाए। उन्होंने कहा कि निष्क्रिय निजी गौशालाओं उनके स्वामियों से विकास खण्ड स्तरीय अनुश्रवण/मुल्यांकन एवं समीक्षा समिति के सदस्य सम्पर्क करके उन्हे पुनः क्रियाशील करवायें वह किन कारणों से बन्द है उनका निराकरण करवाएं। उन्होंने कहा कि जनपदों  में कृषि एवं पशुधन परिक्षेत्र की भूमि को चिन्हित कराकर कृषि विभाग के सहयोग से उसका उपयोग पशुओं के लिए हरा चारा की व्यवस्था के लिए किया जाए। उन्होंने कहा कि अधिकारियों द्वारा जनप्रतिनिधियों से व्यक्तिगत अनुरोध कर पशुओं के भरण पोषण के लिए सहयोग लिया जाए। 

बैठक में पशु पालन विभाग के अधिकारियों द्वारा अनुरोध किया गया कि निराश्रित गौवंश में 70 से 80 प्रतिशत नर गौवंश (बछड़े/साड़) हैं। जिनकी हिंसक प्रवृत्ति एवं भविष्य में अनियन्त्रित करवाधान राकने के लिए अभियान चलाकर बधियाकरण किया जाना है। इन नर गौवंशों का बधियाकरण करने के लिए बेहोश करने हेतु ट्रैन्कुलाइजर गन की आवश्यकता होगी। जिसके लिए मण्डलायुक्त महोदय ने अपर निदेशक पशुपालन को शासन स्तर पर प्रस्ताव भेजवाने के निर्देश दिये। उन्होंने जेलों की अतिरिक्त भूमि पर भी स्थायी निराश्रित गौवंशो को रखवाने की व्यवस्था के लिए शासन को प्रस्ताव भेजने के निर्देश दिए।

बैठक में नगर आयुक्त लखनऊ इन्द्रमणि त्रिपाठी ने अवगत कराया कि नगर निगम के द्वारा तीन गौशालाओं को विकसित किया गया है जिसमें कान्हा उपवन नादरगंज जिसमें 8500 पशुओं की क्षमता के सापेक्ष 8300 पशु है, लक्षमण गौशाला जानकी पुरम में 800 पशुओं की क्षमता के सापेक्ष 750 पशु है, राधा उपवन जराहरा इन्द्रिरा नगर में 500 पशुओं की क्षमता का आश्रय स्थल है। बैठक में हरदोई जनपद की समीक्षा में ज्ञात हुआ कि हरदोई में दो अस्थायी पशु आश्रय स्थल विकसित किये गये हैं, जिसमें धूप और ठण्डक से सुरक्षा के लिए  12-12 हजार स्क्वायर फिट के टीन सेड बनाए गए हैं, जिनमें पशुओं को पानी पीने के लिए समरसेविल प्रकाश के लिए सोलर लाइट की व्यवस्था तथा जन सहयोग से चारे की व्यवस्था की जा रही है। मण्डलायुक्त ने लखनऊ व हरदोई द्वारा निराश्रित गौवंश संरक्षण के लिए सराहनीय कार्य करने के लिए उनकी प्रशंसा की। 

बैठक में अपर आयुक्त प्रशासन रणविजय यादव, संयुक्त विकास आयुक्त  आर0सी0 पाण्डेय, अपर निदेशक पशुपालन डाॅ. हरिपाल सिंह, नगर आयुक्त लखनऊ इन्द्रमणि त्रिपाठी मुख्य विकास अधिकारी लखनऊ मनीष बंसल सहित मण्डल के सभी जनपदों के मुख्य विकास अधिकारी, मुख्य पशु चिकित्सा अधिकारी, डीपीआरओ जिला पंचायत, नगर पंचायत के सम्बन्धित अधिकारी उपस्थित थे।

 

Web Title: Circle meeting for establishment of temporary animal shelter site ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया