चीन चांद पर कपास उगा कर रचा इतिहास


DEEP KRISHAN SHUKLA 16/01/2019 08:58:47
666 Views

New Delhi. इंसानों की दुनिया से इतर चांद पर पहला पौधा पनपाने का कीर्तिमान चीन ने स्थापित कर दिया है। चीन से चांद पर भेजे गए रोवर पर कपास के बीच अंकुरित हुए यह चीन के लिए ही नहीं बल्कि सारी दुनिया के लिए खास विषय है। अगले चरण में चीनी वैज्ञानिक चांद पर आलू उपजाने की योजना बना रहे है। यह जानकारी मंगलवार चीन के वैज्ञानिकों ने दी। 

cheen ne chand pr kpaas uga kar racha itihaas
मालूम हो कि इसी महीने चीन का अंतरिक्ष यान चांग ई-4 चंद्रमा पर उतरा था। चोंककिंग विश्वविद्यालय के अडवांस्ड टैक्नालॉजी एण्ड रिसर्च इंस्टिट्यूट द्वारा चांद पर अंकुरित बीज की तस्वीरे सार्वजनिक की गयी है। चांग ई-4 से चंद्रमा पर ले जाए एक कनस्तर के भीतर जालीदार ढांचें में कपास का यह बीज अंकुरित हुआ है। 

cheen ne chand pr kpaas uga kar racha itihaas

वीडियो देखने के लिए इस लिंक पर क्लिक करें
शाइ गेंगशिन जोकि प्रयोग के डिजाइन की अगुवाई कर रहे है उनके मुताबिक ऐसा पहली बार हुआ है जब मनुष्य द्वारा चंद्रमा की सतह पर जीवविज्ञान के तहत पौधों के विकास के लिए प्रयोग किया गया हो। अंतरिक्ष के क्षेत्र में महाशक्ति बनने की महत्वाकांक्षा में चीन ने चंद्रमा के कभी न देखे गए हिस्से तक पहुंच कर इस बात को शाबित भी कर दिया है। इसके साथ ही चीन का चांग ई-4 तीन जनवरी को चंद्रमा के सबसे दूर के हिस्से में उतरने वाला पहला अंतरिक्षयान बन गया। 


   भेजे थे और भी बीज पर नहीं हुआ अंकुरण
चोंगकिंग यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों ने चंद्रमा पर भेजे गए वायु, जल और मिट्टी युक्त 18 सेंटीमीटर का एक बाल्टीनुमा डिब्बे के भीतर कपास, आलू और सरसों प्रजाति के एक एक पौधे के बीज के साथ-साथ फ्रूट फ्लाई के अंडे और ईस्ट भेजे थे। यूनिवर्सिटी के मुताबिक अंतरिक्षयान की तस्वीरों कपास के अंकुर बेहतर ढंग से विकसित होते नजर आ रहे है। लेकिन अन्य बीजों की अंकुरण प्रक्रिया अभी तक नहीं शुरू हुई है। 

यह भी पढ़े...पीएम नरेंद्र मोदी मॉरीशस व नेपाल के पीएम के साथ लगाएंगे कुंभ में डुबकी

Web Title: cheen ne chand pr kpaas uga kar racha itihaas ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया