मुख्य समाचार
अखिलेश यादव ने योगी सरकार पर बोला करारा हमला, कहा- नौजवानों की जिन्दगी में ... फतेहपुर में प्रतिबंधित मांस मिलने पर बवाल, मदरसे पर पथराव साक्षी मामले पर मालिनी अवस्थी का बड़ा बयान, लड़कियां जीवन सथी चुनें लेकिन... यूपी पुलिस को मिली बड़ी सफलता, दो इनामी बदमाश किए ढेर वरिष्ठ पत्रकार बरखा दत्त ने कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल पर लगाए गम्भीर आरोप, मचा घमासान अंतिम संस्कार की चल रही थी तैयारी, अचानक युवक की खुली आंखे और फिर जो हुआ... सरकारी आवास के मोह पॉश में जकड़े दो पूर्व मंत्रियों को गहलोत सरकार ने दिया जुर्माने का झटका सलमान संग फिल्मों में डेब्यू कर सुपरस्टार बनीं कटरीना का नहीं है कोई क्राइम रिकॉर्ड 149 साल बाद बन रहा गुरू पूर्णिमा पर चंद्र दुर्लभ योग सपा नेता अखिलेश यादव की गोली मारकर हत्या, सियासत में भूचाल बच्चों में गुणवत्तापरक शिक्षा के साथ अच्छे संस्कार भी जरूरी : ब्रजेश पाठक  रवि किशन ने राहुल को दी नसीहत, सीरियस नहीं हुए तो राजनीति से करियर खत्म योगी सरकार शिक्षा के क्षेत्र में सरकारी नहीं असरदार कार्य कर रही है : उप मुख्यमंत्री जय श्रीराम न बोलने पर बागपत में मौलाना की पिटाई सावन की पूर्णिमा व अमावस्या पर होगी भव्य गंगा आरती पहले दूसरे जाति की लड़की से की शादी, फिर बेइज्जती के डर से पत्‍नी की करवा दी हत्या
 

गठबंधन के बाद मायावती का बढ़ा कद, पीएम वाला पोस्टर देख विरोधियों के छूटे पसीने


NAZO ALI SHEIKH 17/01/2019 12:26:17
580 Views

Lucknow. लोकसभा चुनाव से पहले समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी के गठबंधन ने विरोधी पार्टियों की नींद उड़ा दी है। वहीं, बसपा सुप्रीमो के प्रति तमाम नेताओं के नरम रवैये ने अचानक ही उनके कद को और बढ़ा दिया है। सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव भी उन्हें जिस तरह से तवज्जो दे रहे हैं। ऐसे में लोगों को लग रहा है कि बीएसपी सपा से ज्यादा ताकतवर हो गई है। हरियाणा में इंडियन नेशनल लोकदल और छत्तीसगढ़ में अजीत जोगी की पार्टी ने मायावती से हाथ मिला रखा है। वहीं, महाराष्ट्र में एनसीपी अध्यक्ष शरद पवार भी बसपा को गठबंधन में साथ लाने की बात कह चुके हैं। ऐसे में बसपा सुप्रीमो मायावती की धाक उत्तर-प्रदेश के साथ देश के कई राज्यों में नजर आ रही है। 

यह भी पढ़ें... मायावती पढ़ा रही हैं भतीजे को सियासत का पाठ, जल्द सुना सकती हैं ये बड़ा फैसला

gathbandhan ke bad mayawati ka badha kad, pm postar dekh virodhiyon ke chhoote paseene

  बिहार गठबंधन

आरजेडी नेता तेजस्वी यादव ने जिस तरह से लखनऊ आकर मायावती से आर्शीवाद लिया है, उससे साफ हो गया है कि सपा-बसपा गठबंधन के बाद बिहार में भी मायावती को खास तवज्जो मिलने वाली है। मायावती के जन्मदिन पर अजीत जोगी सहित उनसे कई नेताओं का मुलाकात करना इस बात का इशारा है कि बसपा अध्यक्ष को सियासत में काफी ऊंचाई पर देखा जा रहा है। 

  समीक्षकों का ध्यान खींचा

 

बसपा आधिकारिक रूप से तो राष्ट्रीय पार्टी नहीं है, लेकिन कर्नाटक, मध्य प्रदेश और राजस्थान में पार्टी का विधायक चुने जाने के बाद बसपा का कद और बढ़ गया है। छत्तीसगढ़ में भी बसपा सुप्रीमो मयावती ने जोगी की पार्टी से हाथ मिलाकर राजनीतिक समीक्षकों का ध्यान अपनी तरफ कर लिया है।

यूपी से हो प्रधानमंत्री

बता दें कि तीसरे मोर्चे की कोशिश में लगे चंद्रबाबू नायडू, गैर बीजेपी गैर कांग्रेस का नारा लागाने वाले तेलंगाना के मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव और अब कांग्रेस से परहेज न करने वाली ममता बनर्जी भी मायावती से पिछड़ती नजर आ रही हैं। वहीं, अखिलेश यादव पहले ही कह चुके हैं कि प्रधानमंत्री यूपी से होना चाहिए, सभी इस बात से वाकिफ हैं कि उनके पिता मुलायम सिंह यादव प्रधानमंत्री बनना चाहते हैं, लेकिन जिस तरह से अखिलेश माया को भाव दे रहे हैं, उससे बिल्कुल नहीं लगता कि वह पीएम पद के लिए मायावती के विरोध में खड़े हो पाएंगे। 

यह भी पढ़ें... इस दल ने भी माना सपा-बसपा का मजबूत गठबंधन,बीजेपी में खलबली

gathbandhan ke bad mayawati ka badha kad, pm postar dekh virodhiyon ke chhoote paseene

मायावती के जन्मदिन पर बसपा प्रवक्ता सुंधीद्र भदौरिया ने जिस तरह से ट्वीट करते हुए उन्हें बधाई दी थी और लिखा था 'भारत की भावी प्रधानमंत्री बहन मायावती जी को जन्मदिन की शुभकामनाएं'। यह ट्वीट एक पोस्टर के तौर पर किया गया है, जिसमें मायावती की फोटो के साथ मैसेज लिखा हुआ है। इस पोस्टर के सियासी मायने भी निकाले जाने लगे हैं। राजनीतिक जानकारों की मानें तो कहीं न कहीं पार्टी के जरिए मायावती के नाम को आगे बढ़ाकर बाकी दलों के रिएक्शन को देखना चाहती हैं।

  पीएम पद पर मायावती की चर्चा

ऐसा अनुमान लगाया जा रहा है कि यदि सपा-बसपा गठबंधन यूपी में कामयाब रहा और पीएम पद की बात चली तो मायावती का नाम चर्चा में आना तय है। ऐसे में मायावती के नाम पर कांग्रेस मुश्किल में पड़ सकती है, लेकिन कांग्रेस विरोध करके दलित पीएम के रास्ते का कांटा बनने का आरोप भी अपने सर नहीं लेना चाहेगी।

Web Title: gathbandhan ke bad mayawati ka badha kad, pm postar dekh virodhiyon ke chhoote paseene ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया