मुख्य समाचार
कर्मचारियों की लापरवाही से आचार संहिता का उल्लंघन जारी रासायनिक हमलों के दौरान 24 घण्टे तक सैनिकों की रक्षा करेगा एबीसी सूट सावधान: चाय पीने से हो सकता है कैंसर  छपाक का फर्स्ट लुक जारी, दीपिका पादुकोण का ऐसा रूप कभी नहीं देखा होगा आपने आरजेडी का कांग्रेस को बड़ा झटका, दिग्गज कांग्रेसी की सीट पर उतारा अपना उम्मीदवार चुनाव ड्यूटी को सजा न समझें, बल्कि चुनौती समझकर कार्य करें बड़ी खबर : मॉर्निंग वॉक पर निकले बसपा नेता की हत्या पाकिस्तान की फायरिंग में एक जवान शहीद, भारत ने दिया मुंहतोड़ जवाब #IPL2019 : BCCI ने IPL उद्घाटन समारोह की राशि सैन्य बलों को दी भारतीय नौसेना ने मोजाम्बिक में 192 लोगों की बचाई जान इनटू लीगल वर्ल्ड की पहली वर्षगांठ सम्पन्न लोकसभा चुनाव: हेमा के खिलाफ उतरीं डांसर सपना तो ये होंगे नतीजे, मथुरा सीट में होगा... सच बोल रहे थे लालू के बेटे तेजप्रताप, सही साबित हुए ऐश्वर्या के खिलाफ आरोप! #IPL2019 : IPL में एंट्री करते ही रैना ने रचा इतिहास #IPL2019 : ओपनिंग मैच गंवाकर कोहली ने कहा, हम वापसी करेंगे मायूस शाहनवाज ने टिकट कटने की यह बताई वजह
 

राफेल विवाद: इस रिपोर्ट ने किया बड़ा खुलासा,चुनाव में कांग्रेस भुनाएगी ये मुद्दा


RAGHVENDRA CHAURASIA 19/01/2019 15:39:17
593 Views

New Delhi. देश में राफेल विवाद का मुद्दा शांत होने का नाम ही नहीें ले रहा है। राफेल मामले पर सर्वोच्च न्यायालय ने सरकार को क्लीनचिट दे दी है। इसके बावजूद विपक्ष राफेल का पीछा नहीं छोड़ना चाहता है। राफेल सौदे पर एक रिपोर्ट आई है जिससे एक बार फिर बवाल बढ़ना शुरु हो गया है।

Rafel Vivad Pr Congress Ghregi Bjp Ko

वीडियो देखे-प्रधानमंत्री पद के लिए मायावती बनीं दूसरी पसंद

  इस रिपोर्ट ने सरकार की बढ़ा दी मुश्किलें

हालिया रिपोर्ट ने मोदी सरकार की मुश्किलें बढ़ा दी है। इस रिपोर्ट के मुताबिक फ्रांस से केवल 36 लड़ाकू  विमानों का सौदा किया जबकि प्रस्तावित संख्या 126 थी। मगर सरकार ने विमानों की संख्या को कम करके प्रति विमान की कीमत 41 प्रतिशत तक बढ़ा दिया है। यानी की हर विमान अब 41 फीसदी ज्यादा की कीमत से अधिग्रहित किया जा रहा है। इसका मतलब है कि राफेल विमान यूपीए की तुलना में एनडीए सरकार ने काफी महंगा राफेल खरीदा है।

Rafel Vivad Pr Congress Ghregi Bjp Ko

  सात सदस्यीय टीम में तीन ने उंगली उठाई थी

इस रिपोर्ट के जरिए बताया गया कि दसॉल्ट भारत में बनने वाले 13 विमानों के डिजायन और विकास की फीस के तौर पर एक बार 1.4 बिलियन यूरो का मूल्य वसूल रहा था। इस राशि को नए सौदे में बातचीत करके 1.3 बिलियन यूरो पर लाया गया। हालांकि यह राशि बहुत कम विमानों के लिए दी जा रही है तो इसका मतलब है कि प्रति विमान की कीमत जो पहले 11.11 मिलियन यूरो थी। अब बढ़कर 36.11 मिलियन यूरो हो गई है। बताया गया भी गया कि मोदी सरकार के अंतर्गत सात सदस्यीय टीम में से तीन ने इस सौदे पर उंगली उठाई क्योंकि इसमें विमान की कीमत बहुत ज्यादा थी। 

यह भी पढ़ें...प्रधानमंत्री पद के लिए मायावती बनीं दूसरी पसंद, बीजेपी-कांग्रेस में खलबली

 

 

 

Web Title: Rafel Vivad Pr Congress Ghregi Bjp Ko ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया