मुख्य समाचार
ममता के करीबी अधिकारी को आउटलुक नोटिस, एक साल तक नहीं जा सकेंगे​ विदेश राजौरी में पाकिस्तान की ओर से गोलीबारी, एक किशोर घायल ममता बोलीं, सांप्रदायिकता का जहर फैलाकर बंगाल में जीती भाजपा चुनाव के बाद कांग्रेस पार्टी में होने जा रहा बड़ा फेरबदल, राहुल लगाएंगे मुहर श्रमिक की संदिग्ध मौत: परिजनों ने मुआवजे को लेकर किया हंगामा जब क्रीज पर दर्शकों ने कहा, धोखेबाज भाग जाओ CWC की बैठक में राहुल का फूटा गुस्सा, हार के लिए इन दिग्गज नेताओं को ठहराया जिम्मेदार हाईस्कूल पास के लिए DRDO में नौकरी का सुनहरा मौका, आज अंतिम दिन जनसुविधा केन्द्रों पर भी आधार से जोड़े जाएंगे राशन कार्ड माध्यमिक विद्यालयों को 28 मई तक सम्मिट करना होगा यू-डायस प्रपत्र इस नेता ने दे डाली मोदी सरकार को चुनौती, जानिए क्या कहा पूर्व सैनिक की मृत्यु पर मिलेगी सहायता बड़ी खबर: ममता बनर्जी ने कहा, अब सीएम नहीं रहना चाहती सड़क हादसों में महिला समेत आधा दर्जन घायल जेट के पूर्व चेयरमैन नरेश गोयल थे पत्नी सहित देश छोड़ने की फिराक में, एयरपोर्ट से हुए अरेस्ट मुख्य निर्वाचन आयुक्त ने राष्ट्रपति को सौंपी जीते सांसदों की सूची कानपुर में पांच मंजिला इमारत में लगी भीषण आग जीत के बाद जल्द काशी पहुंचेंगे पीएम मोदी, तैयारियों में जुटा प्रशासन
 

NDA के बाद UPA के लिए सिरदर्द बने उपेंद्र कुशवाहा


ABHIMANYU VERMA 22/01/2019 12:50:56
180 Views

Patna. बिहार एनडीए में काफी समय से खींचतान के बाद उपेंद्र कुशवाहा यूपीए का हिस्सा बन चुके हैं। उनके एनडीए छोड़ने से भाजपा और उसके सहयोगियों को फर्क पड़ा हो या न पड़ा हो, लेकिन आरजेडी और कांग्रेस पर इसका साफ असर देखने को मिल रहा है। दरअसल, विपक्षी महागठबंधन में ज्यादा पार्टियों की सहभागिता हो जाने से सीटों के बंटवारे का पेंच फंस गया है। यहां तक कि इसे संभालना खुद लालू प्रसाद यादव के लिए मुश्किल हो गया है।

Upendra Kushwaha becomes headache for UPA after NDA

पहले आरजेडी 20 और कांग्रेस 10 सीटों पर चुनाव लड़ने वाली थी। वहीं, 10 सीटों पर महागठबंधन के अन्य दल चुनाव लड़ने वाले थे, लेकिन अब इस गठबंधन का हिस्सा उपेंद्र कुशवाहा की राष्ट्रीय लोक समता पार्टी के अलावा जीतन राम मांझी का हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा (हम), मुकेश साहनी की निषाद पार्टी और तीन वाम दल भी बन चुके हैं, जिसमें एनडीए छोड़कर यूपीए में शामिल हुए उपेंद्र कुशवाहा चार सीटों से कम लेने को तैयार नहीं हैं।

Upendra Kushwaha becomes headache for UPA after NDA

भाकपा बेगूसराय से वह जेएनयू के पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार को यूपीए का उम्मीदवार बनाकर चुनाव लड़ाना चाहती है। माकपा, भाकपा और भाकपा (माले) - तीनों ने ही दो-दो सीटों पर दावा ठोंका है, लेकिन लालू यादव तीनों को केवल एक-एक सीट ही देने को तैयार हैं। इसके अलावा जीतनराम मांझी और मुकेश साहनी भी दो-दो सीटें मांग रहे हैं। ऐसे में सभी सहयोगियों को संतुष्ट करना पड़ा तो कांग्रेस और आरजेडी को केवल 26 सीटों पर ही लड़ना पड़ेगा। यही वजह है लालू यादव कांग्रेस को केवल आठ सीटें देना चाहते हैं।

यह भी पढ़ें:-...BJP को धूल चटाने लिए लालू ने जेल में बनाया मास्टर प्लान, RJD में दौड़ी की खुशी की लहर

Upendra Kushwaha becomes headache for UPA after NDA

आरजेडी का कहना है कि सभी दल आमने-सामने बैठकर बात करेंगे, तो ही समस्या का हल निकलेगा। सभी पार्टियां इस बार भाजपा के खिलाफ एकजुट हो रही हैं। यदि कहीं समस्या आई भी तो केवल एक या दो सीटों पर होगी, इससे ज्यादा पर नहीं। अगर पिछले चुनाव की बात की जाये तो 2014 के चुनाव में आरजेडी 27 सीटों पर लड़ी थी और केवल चार ही सीटें जीत पायी थी। वहीं, कांग्रेस ने 12 सीटों पर उम्मीदवार खड़े किए थे, जिनमें से केवल दो ही जीत दर्ज कर पाए। ऐसे में ये देखना दिलचस्प होगा कि ये दोनों पार्टियां कैसे सहयोगियों को संतुष्ट करती हैं। 

यह भी पढ़ें:-...मोदी ने लालू के करीबी को एनडीए में आने का दिया बड़ा ऑफर, आरजेडी में मचा हड़कंप

Upendra Kushwaha becomes headache for UPA after NDA

Web Title: Upendra Kushwaha becomes headache for UPA after NDA ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया