मुख्य समाचार
अखिलेश यादव ने योगी सरकार पर बोला करारा हमला, कहा- नौजवानों की जिन्दगी में ... फतेहपुर में प्रतिबंधित मांस मिलने पर बवाल, मदरसे पर पथराव साक्षी मामले पर मालिनी अवस्थी का बड़ा बयान, लड़कियां जीवन सथी चुनें लेकिन... यूपी पुलिस को मिली बड़ी सफलता, दो इनामी बदमाश किए ढेर वरिष्ठ पत्रकार बरखा दत्त ने कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल पर लगाए गम्भीर आरोप, मचा घमासान अंतिम संस्कार की चल रही थी तैयारी, अचानक युवक की खुली आंखे और फिर जो हुआ... सरकारी आवास के मोह पॉश में जकड़े दो पूर्व मंत्रियों को गहलोत सरकार ने दिया जुर्माने का झटका सलमान संग फिल्मों में डेब्यू कर सुपरस्टार बनीं कटरीना का नहीं है कोई क्राइम रिकॉर्ड 149 साल बाद बन रहा गुरू पूर्णिमा पर चंद्र दुर्लभ योग सपा नेता अखिलेश यादव की गोली मारकर हत्या, सियासत में भूचाल बच्चों में गुणवत्तापरक शिक्षा के साथ अच्छे संस्कार भी जरूरी : ब्रजेश पाठक  रवि किशन ने राहुल को दी नसीहत, सीरियस नहीं हुए तो राजनीति से करियर खत्म योगी सरकार शिक्षा के क्षेत्र में सरकारी नहीं असरदार कार्य कर रही है : उप मुख्यमंत्री जय श्रीराम न बोलने पर बागपत में मौलाना की पिटाई सावन की पूर्णिमा व अमावस्या पर होगी भव्य गंगा आरती पहले दूसरे जाति की लड़की से की शादी, फिर बेइज्जती के डर से पत्‍नी की करवा दी हत्या
 

भूपेन हजारिका, नानाजी देशमुख व प्रणव मुखर्जी को मिलेगा भारत रत्न


DEEP KRISHAN SHUKLA 26/01/2019 08:14 AM
107 Views

New Delhi. देश के सर्वोच्च सम्मान पुरस्कार भारत रत्‍न से नवाजे जाने वाले नामों की घोषणा हो गयी है। इस बार तीन लोगों को यह पुरस्कार दिया दिया जा रहा है, जिसमें नानाजी देशमुख व भूपेन हजारिका व पूर्व राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी के नाम शामिल है। नानाजी देशमुख व भूपेन हजारिका को यह पुरस्कार मरणोपरांत दिया जाएगा। 

bhupen hajarika, nanaji deshmukh v pranav mukhrji ko milega bharat ratna
चार साल के बाद केन्द्र की मोदी सरकार तीन विभूतियों को भारत रत्न से अलंकृत करने जा रही है। इससे पहले वर्ष 2015 में नरेन्द्र मोदी सरकार ने पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी और बनारस हिंदू विश्वविद्यालय के संस्थापक मदन मोहन मालवीय को इस पुरस्कार से सम्मानित किया था। इस बार की तीन हस्तियों को मिला कर भारत रत्न सम्मान पाने वालों की संख्या 48 पहुंच जाएगी। 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट कर कहा कि प्रणब दा हमारे समय के एक शानदार नेता हैं।  उन्‍होंने निस्‍वार्थ और बिना थके दशकों तक देश की सेवा की है, इसने देश की विकास की दिशा पर एक मजबूत निशान छोड़ा है। उनके जैसे बुद्धिमान और बुद्धिजीवी काफी कम लोग है।

वहीं प्रधानमंत्री ने हजारिका के बारे में ट्वीट किया कि उनके संगीत न्याय, सौहार्द और भाइचारे का संदेश प्रसारित होता है। उन्होंने दुनियाभर में भारतीय संगीत परंपराओं को लोकप्रिय कराया।

नानाजी देशमुख के बारे में मोदी ने कहा कि देश में ग्रामीण विकास के क्षेत्र में उनका उत्कृष्ट योगदान गांवों में रहने वाले लोगों को सशक्त करने का नया प्रतिमान दर्शाता है। उनके अनुसार वह सही मायने में भारत रत्न के हकदार हैै। 
   भारत रत्न से नवाजे जाने वाली तीनों विभूतियों पर एक नजर 

bhupen hajarika, nanaji deshmukh v pranav mukhrji ko milega bharat ratna
प्रणव मुखर्जी- प्रणब मुखर्जी कई दशकों तक कांग्रेस के मजबूत स्तंभ रहे उन्होंने इंदिरा गांधी के साथ भी काम किया है। प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के कार्यकाल में वे वित्त मंत्री रहे। इसके बाद वर्ष 2012 से 2017 तक देश सर्वोच्च पद राष्ट्रपति बने। वह आजाद भारत के 13 राष्ट्रपति थे। 

bhupen hajarika, nanaji deshmukh v pranav mukhrji ko milega bharat ratna

नानाजी देशमुख- आरएसएस विचारक नानाजी देशमुख संघ से जुड़ने से पूर्व भारतीय जनसंघ से जुड़े थे। 1977 में जनता पार्टी की सरकार बनने के बाद उन्होंने मंत्री पद स्वीकार नहीं किया और जीवन पर्यन्त दीनदयाल शोध संस्थान के अन्तर्गत चलने वाले विविध प्रकल्पों के विस्तार हेतु कार्य करते रहे। अटल बिहारी वाजपेयी के कार्यकाल में भारत सरकार ने उन्हें शिक्षा, स्वास्थ्य व ग्रामीण स्वालम्बन के क्षेत्र में अनुकरणीय योगदान के लिये पद्म विभूषण भी प्रदान किया। 2012 में 94 साल की उम्र में उनका निधन हो गया था। इसके अलावा वह यूपी की बलरामपुर सीट से सांसद और बाद में राज्य सभा सदस्य भी रहे। 

bhupen hajarika, nanaji deshmukh v pranav mukhrji ko milega bharat ratna

भूपेन हजारिका- असम के रहने वाले हजारिका महान गायक और संगीतकार थे। उनका 2011 में देहांत हुआ था। अपनी मूल भाषा असमिया के अलावा भूपेन हजारिका ने हिंदी, बंगला समेत कई अन्य भारतीय भाषाओं में गीत गाए। उन्होने फिल्म "गांधी टू हिटलर" में महात्मा गांधी का पसंदीदा भजन "वैष्णव जन" गाया था। हजारिका ने राजनीति के क्षेत्र में भी हाथ आजमाए। वह 1967-72 के दौरान असम में निर्दलीय विधायक भी रहे थे। इसके बाद वर्ष 2004 में भाजपा के टिकट पर गुवाहाटी से लोकसभा चुनाव लड़ा, लेकिन उन्हें जीत नहीं मिली। संगीतकार होने के साथ ही भूपेन हज़ारिका प्रशंसित और सम्मानित फिल्मकार भी रहे, असमिया की कम से कम दो क्लासिक फिल्में 'शकुंतला' और 'प्रतिध्वनि' के लिए उन्हें हमेशा याद किया जाता रहा है और रहेगा। इसके अलावा रुदाली, मिल गई मंज़िल मुझे, दरमियान, जैसी फिल्में भी चाहने वालों को याद आती रही हैं। उन्हें तीन बार बेस्ट फिल्ममेकर का प्रेसिडेंट नेशनल अवॉर्ड से नवाजा गया। इसके अलावा फिल्मों में संगीत के लिए उन्हें कई बार राष्ट्रीय, क्षेत्रीय और अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कारों से सम्मानित किया गया। 

यह भी पढ़े...गणतंत्र दिवस पर दक्षिण अफ्रीका के राष्ट्रपति सीरिल रामफोसा होंगे मुख्य अतिथि

Web Title: bhupen hajarika, nanaji deshmukh v pranav mukhrji ko milega bharat ratna ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया