राज्यपाल के नाते नहीं बल्कि कैंसर सर्वाइवर के नाते बात कर रहा हूँ : राम नाईक


MOHD ATHAR RAZA 04/02/2019 18:09:31
1590 Views

Lucknow. उत्तर प्रदेश के राज्यपाल राम नाईक ने विश्व कैंसर दिवस  पर क्षेत्रीय विज्ञान केन्द्र, अलीगंज में ‘इण्डियन कैंसर सोसायटी’ (लखनऊ ब्रांच) द्वारा आयोजित 31वें वार्षिक समारोह का उद्घाटन किया। इस अवसर पर प्रो. संदीप कुमार पूर्व निदेशक एम्स भोपाल, प्रो. ए.एन. श्रीवास्तव, संस्था के संरक्षक पूर्व विधायक विद्यासागर गुप्ता, संस्था के सचिव शैलेन्द्र यादव व विद्यालय के छात्र-छात्राएं उपस्थित थे। राज्यपाल ने इस अवसर पर सोसायटी द्वारा प्रकाशित न्यूज लेटर, स्मारिका व बुकलेट का विमोचन भी किया।

Not talking as governor but as cancer survivor - Governor

राज्यपाल ने कहा कि ‘विश्व कैंसर दिवस के अवसर पर मैं आज राज्यपाल के रूप में नहीं बल्कि कैंसर पर जीत हासिल करने वाले कैंसर सर्वाइवर के नाते बात कर रहा हूँ। जब कोई सर्वाइवर अपने बारे में कैंसर रोगियों को बताता है, तो विश्वास बढ़ता है। 60 वर्ष की उम्र में मुझे कैंसर हुआ था, आज 85 वर्ष का हूँ और बिल्कुल स्वस्थ हूँ। आप भी ठीक हो सकते हैं। लोग मेरे पास आते हैं, मैं अपने अनुभव से उन्हें समझाता हूँ और हिम्मत बढ़ाने का प्रयास करता हूँ।’

राम नाईक ने कहा कि यह सही है कि कैंसर घातक और गम्भीर रोग है, पर ऐसे रोग पर भी विजय प्राप्त हो सकती है। उचित समय पर जांच और इलाज से कैंसर ठीक हो सकता है। जानकारी न होने के कारण बीमारी बढ़ती है। ग्रामीण क्षेत्रों में रोग के प्रति जागरूकता बढ़ाने की आवश्यकता है। लोगों के मन से डर निकालें। कैंसर का इलाज महंगा है। प्रधानमंत्री  नरेन्द्र मोदी ने गरीबों के लिए ‘आयुष्मान योजना’ का शुभारम्भ किया है। उन्होंने कहा कि स्वयं सेवी संगठन समाज में जागरूकता लाकर लोगों के मन से डर निकालें। 

राज्यपाल ने अपने अनुभव साझा करते हुए बताया कि कैसे उनकी इच्छाशक्ति, डाक्टरों का मार्ग निर्देशन तथा परिजनों के सहयोग से उन्हें कैंसर पर विजय प्राप्त हुई। रोगी की इच्छाशक्ति, परिजनों का सहयोग, सही समय पर इलाज से रोग पर विजय प्राप्त की जा सकती है। विज्ञान की नई तकनीक काफी प्रभावी है। चिकित्सक रोगियों के मन से डर निकालकर विश्वास बढ़ायें। नये शोधों की जानकारी होना आवश्यक है। ग्रामीण क्षेत्र में शिविर लगाकर जनता में कैंसर के प्रति जागरूकता उत्पन्न की जा सकती है। उन्होंने कहा कि ‘डरो मत हिम्मत से बढ़ो, कैंसर को जीता जा सकता है’।

Not talking as governor but as cancer survivor - Governor

इस अवसर पर राज्यपाल ने सोसायटी द्वारा विधार्थियों के लिए आयोजित कैंसर जागरूकता पोस्टर प्रतियोगिता में प्रथम तीन स्थान प्राप्त करने वाले जूनियर एवं सीनियर छात्र-छात्राओं को स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया तथा सोसायटी से जुड़े डाॅ. राकेश सिंह, डाॅ. यू.एस. पाल, डाॅ. ए.एन. श्रीवास्तव, डाॅ. अर्चना मिश्रा तथा प्रो. एस.पी. जायसवार को भी सम्मानित किया। पुरस्कार प्राप्त करने वाले विधार्थियों में ई.टी.एस. की कोमल जैन, कैथीड्रल कालेज की तूलिका तथा अवध कालेज की अफसाना बानो के साथ जूनियर श्रेणी में एल.पी.एस. के लक्ष्य, सेन्ट्रल एकेडमी के अनुपम तथा रेड रोज की सानिया परवीन शामिल हैं। कार्यक्रम में प्रो. ए.एन. श्रीवास्तव ने स्वागत उद्बोधन दिया तथा संरक्षक विद्यासागर गुप्त एवं संस्था के सचिव प्रो. शैलेन्द्र यादव ने भी अपने विचार रखे।

Web Title: Not talking as governor but as cancer survivor Governor ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया