मुख्य समाचार
हंगामे की भेंट चढ़ा विधानसभा के मानसून सत्र का पहला दिन  पुलिस हिरासत में प्रियंका गांधी, बोली - कहां ले जा रहे मुझे नहीं पता  लखनऊ में शिवसेना का सदस्यता अभियान शुरू  जिला पंचायत सदस्य पर प्लाट कब्जाने का आरोप, एंटी भूमाफिया पोर्टल पर शिकायत  टैंपो चालकों ने किया हंगामा, भाजपा सांसद के पुत्र के करीबियों और पुलिस पर लगा वसूली का आरोप  फोरम के आदेश की नाफरमानी लखनऊ डीएम को पड़ी भारी, वेतन रोकने के आदेश अजय कुमार लल्लू बोले - जमीनी विवाद नहीं, सामूहिक नरसंहार है घोरावल कांड जमीनी विवाद नहीं, सामूहिक नरसंहार है घोरावल कांड : अजय कुमार लल्लू सुरक्षा प्रबंध सराहनीय हैं, लेकिन मेरी सुरक्षा का दायरा कम से कम रखें : प्रियंका वाड्रा भाजपा सरकार ने जनता की सुरक्षा को अपराधियों के आगे गिरवी रख दिया है : अखिलेश जन्मदिन विशेष: शाहरुख की फिल्में हिट कराने में सुखविंदर सिंह का बड़ा योगदान हज यात्री इन्तज़ामों में कमी बतायें, दूर किया जायेगा : मोहसिन रज़ा ‘‘भूजल सप्ताह’’ के दूसरे दिन जल संरक्षण पर आधारित चित्रकला प्रतियोगिता एवं विज्ञान प्रश्नोत्तरी कार्यक्रम आयोजित जालान पैनल ने तैयार की फंड ट्रांसफर की रिपोर्ट, सरकार को मिलेगी बड़ी राहत बाढ़ राहत के कार्यों में किसी भी प्रकार की लापरवाही न बरती जाये : राहत आयुक्त राजकीय नलकूपों के यांत्रिक दोषों को 24 घंटे में दूर करें : धर्मपाल सिंह  पुलिस से परेशान व्यापारी ने खुद पर पेट्रोल छिड़क कर लगाई आग बाढ़ पीड़ितों के लिए आगे आए अक्षय, प्रियंका ने भी की अपील सोनभद्र: 90 बीघा जमीन के लिए हुआ खूनी संघर्ष, 11 की मौत
 

तो जरूरत के मुताबिक मिलने लगेगी रसोई गैस


DEEP KRISHAN SHUKLA 05/02/2019 10:25:13
169 Views

New Delhi. रसोई गैस के उपभोक्ताओं के लिए अच्छी खबर है, सब कुछ योजना के मुताबिक रहा तो जल्द ही उपभोक्ताओं को उनकी जेब के मुताबिक रसोई गैस मिल सकेगी। दरअसल उज्जवला योजना से देश में गरीबों के घर तक रसोई गैस तो पहुंचा दी गयी, लेकिन सिलेंडर भराने के लिए एकमुश्त आठ से नौ सौ रूपए की व्यवस्था करना इन गरीबों के लिए बड़ी टेढी खीर साबित हो रही थी। इसी को ध्यान में रखते हुए सरकार ने तमाम संस्थाओं से बात की। टाटा इनोवेशन ने इस मसले के समाधान का बेहतर विकल्प सुझाया है, जिसमें ग्राहकों की जरूरत व उनके बजट के मुताबिक गैस देने की व्यवस्था की बात कही गयी है। 

to jarurat ke mutabik milne lagegi rasoi gas मालूम हो कि एलपीजी सिलेण्डर 14.2 किलोग्राम व 5 किलोग्राम के ही आते हैं। नतीजे में लोगों को इन्ही दो वजन वाले सिलेण्डर खरीदने होते थे। केन्द्र की मोदी सरकार ने उज्जवला योजना के तहत घर-घर रसोई गैस पहुंचाने का काम तो किया, लेकिन गरीबों के लिए सिलेण्डर पर एक साथ आठ से नौ सौ रुपए खर्च करना काफी मुश्किल हो रहा था। जिसके चलते तमाम गरीब तबके के लोगों के घरों में ये सिलेण्डर मात्र शोपीश बन गए थे, लेकिन अब ऐसा नहीं होगा। गरीबों को उनकी जरूरत के मुताबिक गैस मिलने की दिशा में प्रयास शुरू हो गए हैं। सब कुछ ठीक ठाक रहा तो तो जल्द ही यह व्यवस्था लागू हो सकती है।

to jarurat ke mutabik milne lagegi rasoi gas

पेट्रोलियम व प्राकृतिक गैस मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने सोमवार को यह जानकारी उज्जवला पर एक अध्ययन रिपोर्ट जारी करने के दौरान दी। उन्होंने बताया कि टाटा इनोवेशन के प्रोत्साहन से उड़ीसा की राजधानी भुवनेश्वर के आईआईटी के छात्र ने एक तकनीक विकसित की है, जिससे लोगों को उनकी जरूरत के मुताबिक गैस देना संभव हो पाएगा। इस व्यवस्था पर अमल पूरी तरह तेल कंपनियों पर निर्भर है। वे इस तकनीक को प्रयोग में लाती है और इसे बड़े पैमाने पर प्रयोग की व्यवस्था करती है यह मसला कंपनियों को ही तय करना है। 

यह भी पढ़े...24 फ़रवरी को Huawei लॉन्च करेगा अपना 5G फोल्डेबल स्मार्टफोन

Web Title: to jarurat ke mutabik milne lagegi rasoi gas ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया