मुख्य समाचार
महिलाओं से जुड़ी समस्याओं के समाधान के लिए शिक्षा जरूरी : अनुपमा जायसवाल अवैध खनन मामले में दोषी पाए गए अधिकारी का तत्काल प्रभाव से स्थानान्तरण सड़क सुरक्षा सप्ताह के दूसरे दिन परिवहन मंत्री ने बांटे हेल्मेट, लोगों को किया जागरूक डीएम की बड़ी कार्रवाई, कानूनगो व लेखपाल सहित दो सस्पेन्ड यूपी में कमजोरों और बच्चियों की हत्याओं की आ गई है बाढ़ : अखिलेश क्रिकेट के बाद अब राजनीति की पिच पर भी पाकिस्तान को लग सकता है ये तगड़ा झटका अवैध रूप से संग्रह किये मिट्टी के तेल के साथ एक युवक गिरफ्तार निर्धनों को शिक्षा प्रदान करने के लिए होना चाहिए ह्यूमन टच : राज्यपाल पिता मुलायम को व्हील चेयर पर लेकर लोकसभा पहुंचे अखिलेश यादव
 

अफवाह या हकीकत, नीतीश हो सकते हैं अगले प्रधानमंत्री


DEEP KRISHAN SHUKLA 09/02/2019 09:17:07
162 Views

New Delhi. जेडीयू व शिवसेना नेताओं की मुंबई में हुई मुलाकात के बाद राजनैतिक गलियारों में एक नई खबर हवा में तैरने लगी है। चर्चा है कि एनडीए को बहुमत न मिलने की दशा में देश के अगले पीएम के दावेदार बिहार के सीएम नीतीश कुमार हो सकते हैं। इसका सूत्राधार पार्टी उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर को माना जा रहा है। जेडीयू प्रवक्ता अरविंद निषाद के ट्वीट ने इस चिगांरी को और भड़का दिया है। 

afwah ya hakikat, Nitish ho sakte hai agle pradhanmantri
मालूम हो कि बीते मंगलवार को जेडीयू उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर ने शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे से मुम्बई में मुलाकात की थी। इसके बाद से ही राजनैतिक गलियारों में यह बयार चलने लगी कि देश के अगले पीएम के दावेदार बिहार के सीएम नी​तीश कुमार हो सकते हैं। इन हवाओं ने उस समय और तेजी पकड़ ली जब पार्टी के प्रवक्ता अरविंद निषाद का ट्वीट आया। जिसमें उन्होंने कहा कि नीतीश जी नि:संदेह प्रधानमंत्री पद के योग्य नेताओं की श्रेणी में आते हैं। हलांकि उन्होंने आगे यह भी कहा कि जेडीयू नरेंद्र मोदी को दोबारा सत्ता में लाने के लक्ष्य पर काम कर रही है, जिसमें पार्टी जी जान से जुटी है।

afwah ya hakikat, Nitish ho sakte hai agle pradhanmantri

वहीं राजनैतिक मामलों के जानकार इसे एनडीए की सोची समझी रणनीति होने की संभावना जाहिर कर रहे हैं। एक बात और साफ कर दें कि जेडीयू नेता व बिहार के मुख्यमंत्री ​नीतीश कुमार एक चैनल से बातचीत में स्पष्ट कर चुके हैं कि उन्हें दिल्ली की राजनीति में फिलहाल नहीं आना है। ऐसे में पीएम की रेस में नीतीश के नाम की चर्चा कहीं मोदी का प्लान बी तो नहीं है, क्योंकि 2014 से ही नीतीश कुमार को प्रधानमंत्री बनाने के रूप में प्रचार किया जा रहा है। एनडीए का अगर यह दांव सही बैठता है तो इसके बड़े फायदे उसे बिहार में मिल सकते हैं। बिहार के वर्तमान हालातों पर नजर दौड़ाए तो जिस तरह से राजनैतिक घटनाक्रम चल रहे हैं उससे जेडीयू या एनडीए को बहुत अच्छी स्थिति में नहीं कहा जा सकता, लेकिन अगर से बिहार से नीतीश के प्रधानमंत्री बनाए जाने की बात चलती है तो निश्चित रूप से एनडीओ को बंपर सीटें मिल सकती है।

इस मामले हो लेकर ​फिलहाल कयास ही लगाए जा रहे है हकीकत क्या है यह किसी को नहीं पता, लेकिन एक बात तो यह है कि राजनीति में अब हर हथकण्डे अपनाए जा रहे हैं। जैसे जैसे चुनाव का समय नजदीक आता जा रहा है राजनैतिक दल साम, दाम, दण्ड और भेज जैसे सभी अस़्त्र के साथ मैदान में कूदने को बिल्कुल तैयार बैठे हैं। 

यह भी पढ़े...महागठबंधन को महामिलावट कहने वाले कहां मिट जाएंगे पता नहीं चलेगा : अखिलेश यादव

Web Title: afwah ya hakikat, Nitish ho sakte hai agle pradhanmantri ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया