मुख्य समाचार
कर्मचारियों की लापरवाही से आचार संहिता का उल्लंघन जारी रासायनिक हमलों के दौरान 24 घण्टे तक सैनिकों की रक्षा करेगा एबीसी सूट सावधान: चाय पीने से हो सकता है कैंसर  छपाक का फर्स्ट लुक जारी, दीपिका पादुकोण का ऐसा रूप कभी नहीं देखा होगा आपने आरजेडी का कांग्रेस को बड़ा झटका, दिग्गज कांग्रेसी की सीट पर उतारा अपना उम्मीदवार चुनाव ड्यूटी को सजा न समझें, बल्कि चुनौती समझकर कार्य करें बड़ी खबर : मॉर्निंग वॉक पर निकले बसपा नेता की हत्या पाकिस्तान की फायरिंग में एक जवान शहीद, भारत ने दिया मुंहतोड़ जवाब #IPL2019 : BCCI ने IPL उद्घाटन समारोह की राशि सैन्य बलों को दी भारतीय नौसेना ने मोजाम्बिक में 192 लोगों की बचाई जान इनटू लीगल वर्ल्ड की पहली वर्षगांठ सम्पन्न लोकसभा चुनाव: हेमा के खिलाफ उतरीं डांसर सपना तो ये होंगे नतीजे, मथुरा सीट में होगा... सच बोल रहे थे लालू के बेटे तेजप्रताप, सही साबित हुए ऐश्वर्या के खिलाफ आरोप! #IPL2019 : IPL में एंट्री करते ही रैना ने रचा इतिहास #IPL2019 : ओपनिंग मैच गंवाकर कोहली ने कहा, हम वापसी करेंगे मायूस शाहनवाज ने टिकट कटने की यह बताई वजह
 

सेना के लिए बड़ी मददगार होगी अरूणाचल की सी ला सुरंग


DEEP KRISHAN SHUKLA 10/02/2019 09:40:38
113 Views

New Delhi. चीन बार्डर पर अपनी रक्षा तैयारियों को बेहद पुख्ता बनाने की कड़ी में पतवंग से अरूणांचल प्रदेश को जोड़ने वाली सी ला सुरंग का शिलान्यास प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने शनिवार को किया। इस सुरंग के बनने से सैनिक बेहद कम समय पर बार्डर पर पहुंच सकेगें। इस सुरंग का नामकरण एक पर्वत दर्रे पर किया गया है जिससे होकर यह सुरंग निकलेगी। 

sena ke liye  badi madadgar hogi arunanchal ki si ka surang
माना जा रहा है कि यह सुरंग बन कर तैयार होने में तीन साल का समय लगेगा। 687 करोड़ की लागत से यह प्रोजेक्ट बना कर तैयार करने का लक्ष्य रखा गया है। भारत ने सीमा पर यह कदम उठा कर चीन को बता दिया है कि अरूणाचल प्रदेश भारत का अभिन्न हिस्सा है। परियोजना से जुड़े एक अधिकारी के मुताबिक यह प्रोजेक्ट 12.04 किलोमीटर के दायरे में बनकर तैयार होगा। जिसमें दो सुरंगें शामिल है जिनमें एक 1,790 मीटर तो दूसरी 475 मीटर की होगी। यह प्रोजेक्ट बन कर तैयार हो जाने पर आने जाने में मौसम की कोई बाध्यता नहीं रह जाएगी। खास बात यह है कि इस रास्ते से तेजपुर से तवांग का सफर बेहद कम समय में तय किया जा सकेगा। साथ 13,700 फुट ऊंची बर्फीले रास्ते वाली सी ला की चोटी से भी लोगों को नहीं जाना पड़ेगा। सेना के एक सीनियर अधिकारी ने बताया कि तेंगा से तवांग जाने का रास्ता बहुत कठिनाइयों भरा है क्योंकि यहां अक्सर भूस्खलन होता रहता है। हर मौसम में पहुंचने के लिए लिए आसान रास्ते की लम्बे अरसे से जरूरत थी। दो दशक पहले एलएसी परआल वेदर रोड बनाने के प्रोजेक्ट पर विचार हुआ था जिसके अन्तर्गत 61 सड़क मार्ग बनाए जाने थे। अभी तक उनमें से मात्र 34 सड़को का ही काम पूरा हो सका है। 

sena ke liye  badi madadgar hogi arunanchal ki si ka surang
  सीमा पार चीन लगातार सेना को कर रहा मजबूत
अरूणाचल प्रदेश से लगी सीमा पर पड़ोसी मुल्क चीन लगातार अपनी सेना को मजबूत कर रहा है। उसने तिब्बत के क्षेत्र में 14 एयरबेस बनाए, 58,000 किलोमीटर की सड़कों का जाल बिछाया है। चीनी सेना के 30 से 32 डिविजन यहां आसानी से पहुंच सकते हैं और उनकी रसद का इंतजाम किया जा सकता है। वर्तमान में चीन अब यहां कुछ अंडरग्राउंड हैंगर और पार्किंग भी बना रहा है। ऐसे में भारत की सी ला सुरंग चीन को रणनीतिक रूप से जवाब देने की दिशा में सराहनीय कदम है। 


यह भी पढ़े...चेन्नई के इस रेस्टोरेंट में इंसान नहीं रोबोट परोसते है खाना

 

 

Web Title: sena ke liye badi madadgar hogi arunanchal ki si ka surang ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया