मुख्य समाचार
लोन लेने से पहले जान लें ये खास बातें, ईएमआई भरने में नहीं होगी परेशानी सपा के पूर्व जिलाध्यक्ष सहित 5 लोगों को फर्जीवाड़े में सात साल की सजा राबड़ी का केन्द्र पर गंभीर आरोप, लालू को जहर देकर मारना चाहती है सरकार सलमान ने शादी न करने की बताई यह खास वजह, जानकर रह जाएंगे हैरान कांग्रेस प्रत्याशी आचार्य प्रमोद कृष्णम् पहुचे कैथेड्रल चर्च #IPL2019 : पंजाब को पांच विकेट से हराकर दिल्ली के दिलवालों की जीत झोपड़ी में लगी आग, वृद्ध जिन्दा जला यूपी में सपा को लगा बड़ा झटका, दिग्गज नेता और उसके समर्थक कांग्रेस में शामिल स्मृति ईरानी के खिलाफ डिग्री मामले में कांग्रेस नेता ने की चुनाव आयोग में शिकायत विदेश सचिव दो दिवसीय चीन के दौरे पर लखनऊ के 37 उम्मीदवारों के चुनाव लड़ने के मंसूबों पर फिरा पानी
 

निजी स्कूल मांग रहे 81,260 रुपये एडवांस फीस, अभिभावकों की बढ़ी परेशानी


NAZO ALI SHEIKH 10/02/2019 10:29:58
100 Views

New Delhi. योगी सरकार ने आते ही स्कूलों को लेकर कहा था कि प्राइवेट स्कूलों में ज्यादा फीस और नर्सरी दाखिले को लेकर नकेल कसी जाएगी। बावजूद इसके सरकार के सभी आदेशों को ठेंगे पर रखते हुए निजी स्कूलों की मनमानी जारी है। पहले नर्सरी स्कूलों में दाखिले के आवेदन की परेशानी थी, लेकिन उसके बाद अब एक नई परेशानी आ खड़ी हुई है जिससे अभिभावक बहुत परेशान हैं। 

यह भी पढ़ें...  जन्मदिन के काफी दिनों बाद सामने आया उर्मिला का ये विडियो

Private school demands Rs 81260 advance fee, parents worry

 

  फीस वापस करने से इंकार

फीस रिफंड पॉलिसी के तहत किसी भी स्कूल को तीन माह तक की फीस लौटाने का प्रवधान है। ऐसे में कई स्कूलों ने 6 महीने की फीस एक साथ जमा करने का आदेश दिया है। इसके साथ ही स्कूल मालिकों ने यह भी कहा कि किसी अन्य स्कूल में एडमिशन कराने पर फीस की वापसी नहीं होगी,वहीं नियमों के मुताबिक कोई स्कूल फीस वापस करने से इंकार नहीं कर सकता है।

  6 माह की एडवांस फीस

बता दें कि कई स्कूलों ने दूसरी जगह एडमिशन पर पहली फीस वापस करने से मना कर दिया है। वहीं, कुछ स्कूल एक साथ पूरी फीस मांग रहे हैं। जैसे, 81260 या फिर 66000 या फिर 50000 हजार रुपये जमा करने का आदेश दिया है। स्कूल मालिकों के इस आदेश से अभिभावक परेशान है, अभिभावक समझ ही नहीं पा रहे हैं कि किस आधार पर इतना पैसा मांगा जा रहा है। इस मामले की कई शिकायतें आ चुकी हैं। 

एडमिशन नर्सरी डॉट कॉम के प्रमुख सुमित वोहरा ने बताया कि उनके पास स्कूलों की मनमानी को लेकर अभिभावकों की काफी शिकायतें आ रही हैं। अभिभावक शिकायत कर रहे हैं कि स्कूल फीस में पारदर्शिता नहीं बरत रहे। उन्होंने बताया ​कि सरकार की फीस रिफंड पॉलिसी में तीन माह की फीस लेने का प्रावधान है। वहीं निजी स्कूल दाखिला लेने के एक माह के अंदर फीस वापस करने से मना भी नहीं कर सकते हैं।   

यह भी पढ़ें... काफी क्यूट है स्मृति ईरानी की बेटी का ये अंदाज़

Private school demands Rs 81260 advance fee, parents worry

फीस वापसी के नियम

यदि किसी स्कूल में दाखिला कराने के एक माह के भीतर अभिभावक अन्य जगह दाखिला लेने के लिए पहली वाली सीट छोड़ता है, तो उसकी एडमिशन फीस, रजिस्ट्रेशन फीस व एक माह की ट्यूशन फीस काटकर स्कूल बाकी फीस ही वापस करेगा। एक माह बाद यदि अभिभावक पहले वाली सीट छोड़ता है, तो स्कूल किसी प्रकार से फीस वापस करने के लिए बाध्य नहीं है।

Web Title: Private school demands Rs 81260 advance fee, parents worry ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया