मुख्य समाचार
बाढ़ और बारिश से बेस्वाद हुई दाल, टमाटर हुआ लाल, इन सब्जियों के बढ़े 50 फीसदी दाम मॉब लिंचिंग पर सपा सांसद का बड़ा बयान, कहा- पाकिस्तान न जाने की सजा भुगत रहे हैं मुसलमान अब इस दिग्गज ने की प्रियंका के नाम की वकालत बाढ़ से बेहाल असम-बिहार, ताजा तस्वीरों में देखें तबाही का मंजर पीड़ितों ने कौन सा अपराध किया जो उन्हें मुझसे मिलने से रोका जा रहा : प्रियंका AKTU : यूपीएसईई – 2019 की काउंसलिंग का तीसरा चरण आज से शुरु ICC के फैसले से सदमे में जिम्बाब्वे की टीम प्लेसमेंट ड्राइव में 5 से 7 लाख के पैकेज के साथ आई कंपनी, 120 छात्र-छात्राओं ने किया प्रतिभाग मंचीय कविता के आखिरी स्तम्भ थे नीरज : लक्ष्मी नारायण चौधरी एजाज खान के अरेस्ट होने के बाद ट्वीटर पर छाए मीम्स- यूजर्स बोले... ग्रामीण क्षेत्रों में भी किया जाना चाहिए मैंगो फूड फेस्टिवल का आयोजन : डिप्टी सीएम दिनेश शर्मा तेजबहादुर की याचिका पर पीएम मोदी को नोटिस
 

फारेंसिक लैब की किट एक घंटे में बता देगी बीफ है या नहीं


DEEP KRISHAN SHUKLA 10/02/2019 12:22:47
147 Views

Lucknow. प्रदेश की फारेंसिक लैब सूबे के सभी जिलों के लिए सेरोलाजिकल किट खरीद रही है। लगभग तीन लाख रुपए की इस किट से मांस की पहचान करना बहुत आसान हो जाएगा। प्रदेश के होटलों व रेस्टोरेंट में लोगों को कहीं बीफ तो नहीं परोसा जा रहा है, ​इसी बात को ध्यान में रखते हुए फारेंसिक लैब यह व्यवस्था कर रही है। मालूम हो कि बीफ के चलते प्रदेश में कई हिंसक घटनाएं अब तक प्रकाश में आ चुकी है। 

forensic lab ki kit ek ghante me bata degi beaf hai ya nahi

अब होटलों और रेस्टोरेंट में ग्राहकों को गुपचुप तरीके से बीफ परोसना मुश्किल हो जाएगा, क्योंकि स्टेट फारेंसिंक लैब मांस की जांच के लिए सेरोलाजिकल किट की खरीदारी कर रही है। सूबे के सभी 75 जिलों में यह किट उपलब्ध करायी जाएगी। एलीजा विधि पर काम करने वाली इस किट से मात्र एक घण्टे में पता लगाया जा सकेगा कि मांस बीफ तो नहीं है। कच्चे मांस को पहचानने वाली इस विधि में रंग परिवर्तन के जरिए जांच की जाएगी। कच्चे मांस के अवशेष को किट में डालने के एक घंटे के अंदर अगर बदल जाता है तो यह पता चल जाएगा कि बरामद मांस बीफ है या नहीं। 

मालूम हो कि अभी तक डीएनए विधि से अवशेष की जांच कराई जाती थी, इस प्रक्रिया में लम्बा समय लगता था। बीफ डिटेक्शन मोबाइल किट का प्रयोग अभी देश के गुजरात व महाराष्ट्र प्रांतों में किया जा रहा है। तकनीकी सेवाओं के तहत उत्तर प्रदेश पुलिस ने इस किट की खरीद का प्रस्ताव शासन को भेजा था। शासन से इसकी स्वीकृति मिलने के बाद खरीददारी की प्रक्रिया शुरू हो गयी है। लैब में मांस के नमूनों की जांच की प्रक्रिया तो लम्बी है ही साथ ही इसकी रिपोर्ट को लेकर भी आरोप प्रत्यारोप लगाए जाते हैं।

forensic lab ki kit ek ghante me bata degi beaf hai ya nahi

ज्ञात हो कि दादरी के बिसहाड़ा मामले में बीफ की फरेंसिक जांच रिपोर्ट को लेकर भी काफी हंगामा हुआ था। मथुरा लैब में रिपोर्ट बदलने और गलत रिपोर्ट देने के आरोप भी लगे थे, जिसके चलते तत्कालीन सरकार की किरकिरी हुई थी। यह वजह दोबारा से सरकार की किरकिरी का कारण न बने, इसी बात को ध्यान में रखते हुए किट की खरीदारी प्रमुखता के आधार पर की जा रही है। राज्य विधि विज्ञान प्रयोगशाला की निदेशक डा. अर्चना त्रिपाठी ने बीफ डिटेक्शन मोबाइल किट खरीदारी की चल रही प्रक्रिया की पुष्टि की है।

यह भी पढ़े...अफवाह या हकीकत, नीतीश हो सकते हैं अगले प्रधानमंत्री

Web Title: forensic lab ki kit ek ghante me bata degi beaf hai ya nahi ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया