मुख्य समाचार
ममता के करीबी अधिकारी को आउटलुक नोटिस, एक साल तक नहीं जा सकेंगे​ विदेश राजौरी में पाकिस्तान की ओर से गोलीबारी, एक किशोर घायल ममता बोलीं, सांप्रदायिकता का जहर फैलाकर बंगाल में जीती भाजपा चुनाव के बाद कांग्रेस पार्टी में होने जा रहा बड़ा फेरबदल, राहुल लगाएंगे मुहर श्रमिक की संदिग्ध मौत: परिजनों ने मुआवजे को लेकर किया हंगामा जब क्रीज पर दर्शकों ने कहा, धोखेबाज भाग जाओ CWC की बैठक में राहुल का फूटा गुस्सा, हार के लिए इन दिग्गज नेताओं को ठहराया जिम्मेदार हाईस्कूल पास के लिए DRDO में नौकरी का सुनहरा मौका, आज अंतिम दिन जनसुविधा केन्द्रों पर भी आधार से जोड़े जाएंगे राशन कार्ड माध्यमिक विद्यालयों को 28 मई तक सम्मिट करना होगा यू-डायस प्रपत्र इस नेता ने दे डाली मोदी सरकार को चुनौती, जानिए क्या कहा पूर्व सैनिक की मृत्यु पर मिलेगी सहायता बड़ी खबर: ममता बनर्जी ने कहा, अब सीएम नहीं रहना चाहती सड़क हादसों में महिला समेत आधा दर्जन घायल जेट के पूर्व चेयरमैन नरेश गोयल थे पत्नी सहित देश छोड़ने की फिराक में, एयरपोर्ट से हुए अरेस्ट मुख्य निर्वाचन आयुक्त ने राष्ट्रपति को सौंपी जीते सांसदों की सूची
 

आज भी देश के अन्नदाता और नौजवान की समस्याओं का स्थायी समाधान नहीं : अखिलेश यादव


GAURAV SHUKLA 11/02/2019 18:53:08
101 Views

Lucknow. समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा है कि विडम्बना है कि देश को आजाद हुए सत्तर वर्ष हो गए हैं लेकिन आज भी देश के अन्नदाता किसान और देश के भविष्य नौजवान की समस्याओं के स्थायी समाधान का कोई रास्ता प्रशस्त नहीं हो सका है। कृषि अर्थव्यवस्था और अवस्थापना क्षेत्र के विकास के लिए कोई सुनियोजित व्यवस्था नहीं बन सकी है। सामाजिक न्याय की दिशा में ठोस प्रयास नहीं हो रहे हैं। स्वतंत्रता आंदोलन के जिन मूल्यों के साथ हमने भारत के संविधान को आत्मार्पित किया था, उनको भुलाये जाने की साज़िश की जा रही है।

aaj bhi annadata or naujawan ki samsyao ka koi samadhan nahi

समाजवादी पार्टी की मान्यता है कि नीति के साथ नीयत भी साफ होनी चाहिए। जनहित की जो तमाम योजनाएं समाजवादी सरकार में लागू की गई थीं, उनमें भेदभाव की दृष्टि नहीं थी। नीयत दुःखी के आंसू पोंछने और अंतिम पायदान पर खड़े व्यक्ति को भी जीवन की मूलभूत आवश्यकताएं उपलब्ध कराने की थी। समाजवादी सरकार की नीतियां बेसहारा का सहारा बनने और बेजुबान की आवाज बनने की थी। समाजवादी पार्टी-बहुजन समाज पार्टी का गठबंधन इसलिए बना है कि वह राजनीति को रचनात्मक और विकासपरक दिशा दे सकें। आज ज़हर घोलने वाले मनमानी कर रहे हैं। इन पर बंदिश लगना चाहिए। भारत ने गतवर्षों में राजनीति को कुछ निहित स्वार्थो का बंधक बनते हुए पाया है। अवसरवादिता को विस्तार मिला है। 

केन्द्र और राज्य में भाजपा सरकारों ने अब तक एक ही बात सीखी है कि समाजवादी पार्टी के कार्यों पर अपना ठप्पा लगाकर उसका श्रेय ले लो। अक्षयपात्र योजना समाजवादी सरकार ने शुरू की थी, उसे भगवा रंग देना अनैतिकता की हद है। कुम्भ की जो व्यवस्था समाजवादी सरकार में हुई थी उसकी प्रशंसा विदेशों तक में हुई थी। हार्वर्ड विश्वविद्यालय के शोधार्थी उसका अध्ययन करने आए थे। भाजपा सरकार द्वारा उसके बारे में तथ्यहीन और अपने कार्यकाल का अतिरंजित विवरण देना स्वस्थ परम्परा नहीं है। अब इन जनविरोधी और लोकशाही को कुंठित करने वाली प्रवृत्तियों के प्रतिरोध की जरूरत है। वैसे भी जीत अंततः जनता की ही होती है उसकी आशा-आकांक्षाओं से जो खिलवाड़ करेगा, जनता उसे माफ नहीं करेगी। भाजपा को सत्ता से बेदखल करना भारत के हित में सर्वोपरि है।

Web Title: aaj bhi annadata or naujawan ki samsyao ka koi samadhan nahi ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया