मुख्य समाचार
महिलाओं से जुड़ी समस्याओं के समाधान के लिए शिक्षा जरूरी : अनुपमा जायसवाल अवैध खनन मामले में दोषी पाए गए अधिकारी का तत्काल प्रभाव से स्थानान्तरण सड़क सुरक्षा सप्ताह के दूसरे दिन परिवहन मंत्री ने बांटे हेल्मेट, लोगों को किया जागरूक डीएम की बड़ी कार्रवाई, कानूनगो व लेखपाल सहित दो सस्पेन्ड यूपी में कमजोरों और बच्चियों की हत्याओं की आ गई है बाढ़ : अखिलेश क्रिकेट के बाद अब राजनीति की पिच पर भी पाकिस्तान को लग सकता है ये तगड़ा झटका अवैध रूप से संग्रह किये मिट्टी के तेल के साथ एक युवक गिरफ्तार निर्धनों को शिक्षा प्रदान करने के लिए होना चाहिए ह्यूमन टच : राज्यपाल पिता मुलायम को व्हील चेयर पर लेकर लोकसभा पहुंचे अखिलेश यादव
 

राजनैतिक अखाड़ा बनकर रह गया राजकीय कन्या इंटर कालेज मलिहाबाद


LEKHRAM MAURYA 15/02/2019 16:59:15
87 Views

MALIHABAD. राजनैतिक उपेक्षा का शिकार राजकीय कन्या इंटर कॉलेज मलिहाबाद की इमारत के लिए छात्राएं एवं अभिभावक पिछले बीस साल से इंटर और पैंतीस साल से हाईस्कूल की इमारत का इंतजार कर रहे हैं, लेकिन उनको अभी भी यह उम्मीद नहीं है कि यहां के राजनेता इमारत बनने देंगे, क्योंकि वर्तमान सांसद ने अपने विधायक एवं मंत्रित्व कार्यकाल में दो कमरों का पैसा देकर वापस ले लिया था। उसके बाद तत्कालीन सांसद रीना चौधरी ने एक पूर्व माध्यमिक विद्यालय का पत्थर इस इंटर कॉलेज के मैदान में लगा दिया था। उसके बाद कई सांसद और विधायक चुनाव जीत कर जनता को कोरे आश्वासन देते रहे, लेकिन किसी ने इतना प्रयास नहीं किया कि इस इंटर कालेज की इमारत बन जाती। जिसका नतीजा यह हुआ कि निजी विद्यालय छात्रों से मनमानी फीस वसूल रहे हैं और अधिकारी चुप हैं। 

 Political Akhara became the State Girl Inter College, Mallihabad

दो दशक में भी नहीं बन पाई कॉलेज की इमारत

बताते चलें कि राजकीय गर्ल्स स्कूल को हाई स्कूल की मान्यता 1983 मे दी गयी। उसके बाद 1995 मे इंटर कालेज की मान्यता दे दी गयी और किसी भी अधिकारी और जनप्रतिनिधि ने इमारत के विषय में नहीं सोचा। यह इंटर कालेज पिछले तीन दशक से राजनैतिक पार्टियों के लिए चुनावी मुद्दा बना हुआ है। बताया जाता है कि वर्तमान सांसद कौशल किशोर और भाजपा जिलाध्यक्ष रामनिवास यादव के बीच यह विद्यालय प्रतिष्ठा का केन्द्र बनने के कारण अभी तक नहीं बन पा रहा है। जबकि इसके बजट की प्रक्रिया शासन स्तर पर अटकी हुई है।

 Political Akhara became the State Girl Inter College, Mallihabad

छात्राओं एवं अभिभावकों की मांग पर जिलाधिकारी ने शासन को पहले साढ़े तीन करोड़ और फिर उसे रिवाइज्ड करके सात करोड़ 55 लाख करा दिया, लेकिन अभी तक उसकी प्रक्रिया आगे नहीं बढ़ पाई है, जिससे अभिभावकों एवं छात्राओं में क्षेत्र के जनप्रतिनिधियों के प्रति रोष बढ़ता जा रहा है।

 Political Akhara became the State Girl Inter College, Mallihabad

भाजपा नेता खलील अहमद ने बताया कि करीब पांच माह पूर्व छात्राओं ने तहसील दिवस में जिलाधिकारी कौशलराज शर्मा को एक पत्र देकर मांग की थी कि उनके विद्यालय की इमारत 1940 की बनी है, जो कक्षा 8 तक के लिए थी। इसके बाद अभिभावकों द्वारा चन्दा लगा​कर चहारदीवारी पर टीन रखवाकर कक्षा 9,10,11,12 की कक्षाएं संचालित की जाने लगीं। तमाम प्रयासों के बाद भी जनप्रतिनिधियों ने इसे अपने हाल पर छोड़ने की जैसे जिद कर रखी है। उन्होंने बताया कि क्षेत्र के आधा दर्जन विद्यालयों की इमारतें बन गयीं, इस कॉलेज की इमारत के लिए धरना प्रदर्शन भी हुए, लेकिन नतीजा ढाक के तीन पात।

Web Title: Political Akhara became the State Girl Inter College, Mallihabad ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया