मुख्य समाचार
राम मंदिर का जल्द से जल्द निर्माण है अयोध्या आने का मकसद: उद्धव ठाकरे सीतापुर में भीषण सड़क हादसा, ट्रक की चपेट में आकर बाइक सवार दो युवकों की मौत न्यूजीलैंड में आया 7.2 तीव्रता का शक्तिशाली भूकंप भारत ने दक्षिण अफ्रीका को 5-1 से हराकर FIH सीरीज़ का फाइनल जीता Air India में नौकरी का सुनहरा मौका, नहीं देनी होगी लिखित परीक्षा इस दिन जारी होंगे UP Polytechnic के परीक्षा परिणाम पति करता था परेशान, पत्नी ने प्रेमी संग मिलकर उठाया खौफनाक कदम पश्चिम बंगालः डॉक्टर्स की हड़ताल खत्म होने के आसार एक्सप्रेस वे पर भीषण सड़क हादसा, 6 लोगों की मौत पाकिस्तान ने दी पुलवामा में संभावित आतंकी हमले सूचना, घाटी में हाई अलर्ट भारत-पाक महामुकाबले पर बारिश का खतरा बरकरार मिस इंडिया 2019: सुमन राव ने जीता खिताब, शिवानी रहीं फर्स्ट रनर अप रेल यात्रियों को सफर में मसाज सेवा देने की योजना पर लगा ग्रहण, जानिए क्या रही वजह
 

नाटक कोर्ट मार्शल से उजागर की सेना में ऊंच नीच की समस्या


JAGDISH KUMAR 18/02/2019 14:53:56
84 Views

Lucknow. अन्तराष्ट्रीय बौध शोध संस्थान गोमती नगर में इनोवेशन फॉर चेंज ने जम्मू कश्मीर के पुलवामा में हुए आतंकी हमले में शहीद हुए जवानों को श्रद्धांजलि दी। साथ ही स्वदेश दीपक द्वारा लिखे गए नाटक “कोर्ट मार्शल” का मंचन किया। जिसका निर्देशन शिल्पी मारवाह द्वारा किया गया।

Problem of high downfall in the army exposed from drama "Court Marcel"

यह नाटक 'कोर्ट मार्शल' स्वदेश दीपक जी द्वारा  लिखित नाटकों में से एक प्रसिद्ध नाटक है। 'कोर्ट मार्शल'  नाटक एक ऐसा  नाटक है जिसे हिंदी रंगमंच में मील का पत्थर माना जाता है। इस नाटक में सुखमंच थिएटर  के सभी कलाकारों ने अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन किया। जिसमे मुख्या किर्दार में तुषार शर्मा , शिल्पी मरवाहा ,प्रदीप  मालिक  ,सौमीब्रता  भट्टाचार्य  , राहुल  सिंह , ईशान  चतुर्वेदी  , दीपंत  कंदोई  ,ज़ीशान  खान ,अजय सत्यनामि  , हिमांशु शर्मा , जसप्रीत  सिंह ,रुपाली  शर्मा ,रेयान  सिंह निशांत. आदि लोगो ने अभिनय किया। कार्याक्रम की संचालन टीम में हर्षित सिंह , विशाल कन्नोजिया , आशीष , ज्योति ,दीपक , रोहित , नशरा , विशाल , ऋषब ,प्रज्ञा ,प्रभात , आदि लोग रहें।  

Problem of high downfall in the army exposed from drama "Court Marcel"
 
कोर्ट मार्शल की कहानी 

जब एक व्यक्ति की गरिमा को सिर्फ़ इसलिए ध्वस्त कर दिया जाए , क्यूँकि उसने नीची जाति में जन्म लिया हो , तो इसे महज़ सामाजिक हिंसा कहना ही काफ़ी नहीं है। ये पूरी मानवता और समाज के प्रति व्यापक तौर पर हो रही हिंसा की ओर संकेत करता है। जहां परिस्तिथियां मारने वाले को विजेता और पीड़ित को दोषी में बदल देती है। जहां समाज उस व्यक्ति को अपराधी घोषित कर उसे क़ानून सज़ा दिलवाने में भूमिका अदा करता है।

स्वदेश दीपक द्वारा लिखित ‘कोर्ट मार्शल’ कहानी है फ़ौजी रंगरूट रामचंदर की , जिस पर अपने सीनियर अफ़सरों की हत्या और हमला करने का मुक़दमा चल रहा है। कोर्ट मार्शल शुरू होता है युद्ध के वयोंवृद्ध कर्नल सूरत सिंह की अध्यक्षता में , जो अपने जीवन में कई बार से ज़िंदगी और मौत से रूबरू हो चुके हैं।

परंतु इस कोर्ट मार्शल ने उन्हें एक ऐसे दोराहे पर ला खड़ा किया है , जिससे वो ख़ुद अनभिज्ञ हैं। ट्रायल के दौरान खुलती परतों में उन्हे ये एहसास होता है कि दांव पर लगी वास्तविकता असल में जितनी दिखती है उससे बहुत बड़ी और अलग है। इस तथ्य के साथ के भारतीय सेना अकेला ऐसा सरकारी संस्थान है जहाँ जाति आधारित आरक्षण लागू नही है, ‘कोर्ट मार्शल’ नाटक क़ानूनी और काव्यात्मक न्याय का संयोजन प्रभावी ढंग से प्रस्तुत करता है ।

यह भी पढें...Terror terrorizes Kashmir again : 37 CRPF men are martyred

Web Title: Problem of high downfall in the army exposed from drama "Court Marcel" ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया