मुख्य समाचार
बाढ़ और बारिश से बेस्वाद हुई दाल, टमाटर हुआ लाल, इन सब्जियों के बढ़े 50 फीसदी दाम मॉब लिंचिंग पर सपा सांसद का बड़ा बयान, कहा- पाकिस्तान न जाने की सजा भुगत रहे हैं मुसलमान अब इस दिग्गज ने की प्रियंका के नाम की वकालत बाढ़ से बेहाल असम-बिहार, ताजा तस्वीरों में देखें तबाही का मंजर पीड़ितों ने कौन सा अपराध किया जो उन्हें मुझसे मिलने से रोका जा रहा : प्रियंका AKTU : यूपीएसईई – 2019 की काउंसलिंग का तीसरा चरण आज से शुरु ICC के फैसले से सदमे में जिम्बाब्वे की टीम प्लेसमेंट ड्राइव में 5 से 7 लाख के पैकेज के साथ आई कंपनी, 120 छात्र-छात्राओं ने किया प्रतिभाग मंचीय कविता के आखिरी स्तम्भ थे नीरज : लक्ष्मी नारायण चौधरी एजाज खान के अरेस्ट होने के बाद ट्वीटर पर छाए मीम्स- यूजर्स बोले... ग्रामीण क्षेत्रों में भी किया जाना चाहिए मैंगो फूड फेस्टिवल का आयोजन : डिप्टी सीएम दिनेश शर्मा तेजबहादुर की याचिका पर पीएम मोदी को नोटिस
 

कुलभूषण केस: ICJ में भारत ने कहा, जाधव को प्रोपेगेंडा टूल की तरह इस्तेमाल कर रहा है पाक


ABHIMANYU VERMA 18/02/2019 16:24 PM
39 Views

New Delhi. कुलभूषण जाधव को लेकर भारत और पाकिस्तान एक बार फिर इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस (आईसीजे) में आमने-सामने हैं। नीदरलैंड के द हेग स्थित आईसीजे में सोमवार को भारत के वकील हरीश साल्वे ने कुलभूषण जाधव को लेकर अपना पक्ष रखा। उन्होंने पाकिस्तान की ओर से कुलभूषण जाधव की गिरफ्तारी को गलत ठहराया। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान इस मामले को प्रोपेगेंडा टूल की तरह इस्तेमाल कर रहा है। 

In ICJ India said that Pak is using Kulbhushan Jadhav as propaganda tool

आईसीजे में भारत के वकील साल्वे की दलील

 

भारत के वकील हरीश साल्वे ने कहा कि कुलभूषण जाधव की गिरफ्तारी पाकिस्तान की ओर से वियना कन्वेंशन का एक गंभीर उल्लंघन है। 

उन्होंने कहा कि काउंसलर एक्सेस के बिना जाधव को लंबे समय तक हिरासत रखे जाने को गैरकानूनी घोषित किया जाना चाहिए।

उन्होंने कहा कि इसमें कोई शक नहीं है कि पाकिस्तान इसका इस्तेमाल प्रोपेगेंडा के तौर पर कर रहा था। पाकिस्तान बिना देर किए काउंसलर एक्सेस देने के लिए बाध्य था।

 

In ICJ India said that Pak is using Kulbhushan Jadhav as propaganda tool

 

साल्वे ने कहा कि 30 मार्च, 2016 को भारत ने पाकिस्तान को जाधव के मामले में काउंसलर एक्सेस के अपने अनुरोध को याद दिलाया, लेकिन उसे कोई जवाब नहीं मिला। भारत की ओर से अलग-अलग तारीखों में 13 रिमाइंडर भेजे गए। 

भारत के वकील ने कहा कि 19 जून, 2017 को भारत ने जांच में सहायता के अनुरोध का जवाब दिया। जिसमें कहा गया कि न केवल जाधव को काउंसलर एक्सेस से वंचित किया गया था, बल्कि पाकिस्तान की तरफ से आतंकवाद के किसी भी कार्य में भारत की भागीदारी दिखाने के लिए कोई विश्वसनीय सबूत नहीं दिया गया है।

 

यह भी पढ़ें:-...कुलभूषण जाधव के मामले में सुनवाई आज से, आमने-सामने होंगे भारत-पाक

In ICJ India said that Pak is using Kulbhushan Jadhav as propaganda tool

 

साल्वे ने कहा कि जाधव की कथित स्वीकारोक्ति स्पष्ट रूप से सहमी हुई प्रतीत होती है। उन्होंने कहा कि भारत ने पाकिस्तान को याद दिलाया कि यह पाकिस्तान सरकार है, जिसने आपराधिक मामलों में कानूनी सहायता पर सार्क सम्मेलन की पुष्टि नहीं की है। 

उन्होंने कहा कि पाकिस्तान ने जाधव के परिवार को उनसे मिलने की अनुमति देने की पेशकश की। शर्तों पर सहमति बनी और बैठक 25 दिसंबर, 2017 को आयोजित की गई। उन्होंने कहा कि भारत ने जाधव के परिवार के साथ बैठक करने के तरीके को गलत ठहराया था और 27 दिसंबर को एक पत्र लिखकर उनके विरोध भी जताया था। 

साल्वे ने कहा कि पाकिस्तान को इस बात के लिए पर्याप्त स्पष्टीकरण प्रदान करना चाहिए कि उसे काउंसलर एक्सेस प्रदान करने के लिए 3 महीने की जरूरत क्यों पड़ी। जिस पर उसने दावा किया है कि उसने संधि बाध्यता का अनुपालन किया है।

Web Title: In ICJ India said that Pak is using Kulbhushan Jadhav as propaganda tool ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया