मुख्य समाचार
राहुल गांधी सहित 11 विपक्षी नेताओं को श्रीनगर एयरपोर्ट पर रोका, नहीं दी इजाजत मायावती ने बाबा साहब को लेकर कही ये बात, जीत लिया जनता का दिल पूरे देश में जन्माष्टमी की धूम,राष्ट्रपति व पीएम मोदी ने देशवासियों को दी बधाई शुक्रवार को घर-घर जन्में नन्दलाल बड़ा ऐलान: तेजस्वी की जगह इस नेता के नेतृत्व में आरजेडी लड़ेगी विधानसभा चुनाव चौथे दिन भी सोने के दाम ने पकड़ी रफ्तार, कीमत 39 हजार पहुंचने में 5 रुपये कम श्रीकृष्ण जन्मोत्सव पर 400 बेसहारा गौ माताओं को अर्पण किया जाएगा भोजन CBSE स्कूलों के बच्चों को अब ये काम करने पर मिलेगा ग्रेड मुलायम के अचानक सपा दफ्तर पहुंचने पर मचा हड़कंप, कार्यकर्ताओं को दे डाली ये नसीहत स्कूल बस ने युवक को मारी टक्कर हुई मौत, चालक फरार  बच्चा चोर गिरोह के शक में चार साधु वेशधारियों को ग्रामीणों ने पकड़ा कुंभ के प्रचार-प्रसार के नाम पर कारोबारी से हुई ठगी  गाड़ी से रौंदकर 2 की हत्या मामले में चौकी प्रभारी हुए लाईन हाजिर, इन जगहों पर बरती गयी लापरवाही  अलर्ट: तमिलनाडु में घुसे लश्कर के 6 आतंकी  पत्नी की हत्या के मामले में फंसा BJP के पूर्व विधायक का बेटा, हो सकती है गिरफ्तारी
 

मोबाइल मिलने के दो माह बाद दिया जा रहा प्रशिक्षण


LEKHRAM MAURYA 19/02/2019 18:41:38
72 Views

 

मलिहाबाद। आंगनबाड़ी कार्यकर्तियों को दो माह पूर्व सरकार ने मोबाइल सेट उपलब्ध करा दिये थे। परन्तु मोबाइल पर डाटा फीडिंग करने का प्रशिक्षण अब दिया जा रहा हैं। 

Training given after two months of getting mobile
सोमवार को विकास खण्ड मलिहाबाद के ग्राम मऊ रमगढ़ा मे पूनम पाण्डेय के सरकारी केंन्द्र पर कसमंडी कला,मलहा, हेमरापुर,भदवाना की आंगनबाड़ी कार्यकर्ती मौजूद थी। आंबा. कार्यकर्ती संगीता गौतम पहले प्रशिक्षण ले चुकी हैं। वह यहां प्रशिक्षण दे रही थीं।

सुपरवाइजर रश्मि को प्रशिक्षण देना था। लेकिन वह 11 बजे की जगह 2 बजे प्रशिक्षण मे पहुंची। प्रशिक्षण मे 28 केन्द्रों की 27 कार्यकर्ती उपस्थित थी। संगीता ने बताया कि प्रशिक्षण मे घर-घर जाकर सर्वे करके आंकड़े फीड करने का काम करती हैं।

बच्चों को दिया जाने वाला पोषाहार, सहित सभी प्रकार का डाटा अब मोबाइल पर फीड करना है। इस मौके पर फूड प्रतियोगिता का आयोजन किया गया।

जिसमें कार्यकर्तियों ने तरह-तरह के व्यंजन बनाये थे। इस प्रशिक्षण का आयोजन मुजासा मे होना था। अचानक सूचना आने पर यहां आयोजन किया गया। अगला प्रशिक्षण बुधवार को मुजासा मे होगा।
 

केन्दों पर बच्चे नदारद 
इस मौके पर केन्द्रों के बंद रहने की स्थिति मे सहायिकाओं को जिम्मेदार बताया। जबकि हकीकत यह है कि कार्यकर्तियां खुद भी समय का ध्यान नही रखती है चार घंटे खुलने वाले केन्द कहीं दो घंटे तो कहीं बंद ही रहते हैं। कागजों मे केन्द्र चलते हैं। शनिवार को कसमंडी कला और भदवाना के केन्द्रों पर बच्चे नदारद थे। 

Web Title: Training given after two months of getting mobile ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया