मुख्य समाचार
स्पा सेंटर की आड़ में चल रहा था सेक्स रैकेट, इस तरह पुलिस ने किया पर्दाफाश मायावती का बड़ा एक्शन, इस दिग्गज नेता को पार्टी से किया बाहर मौसी के घर आयी बच्ची का तालाब में उतराता मिला शव साढ़े छह लाख की शराब के साथ एसटीएफ के हत्थे चढे़ दो तस्कर 28वीं पुण्य तिथि पर याद किए गए पूर्व पीएम राजीव गांधी BSP की जगह BJP को वोट देना महिला को पड़ा भारी, पति ने फावड़े से काटकर की हत्या पूर्व मंत्री और बसपा के कद्दावर नेता को पार्टी ने दिखाया बाहर का रास्ता पूर्व मंत्री और बसपा के कद्दावर नेता को पार्टी ने दिखाया बाहर का रास्ता  लोकसभा चुनाव खत्म होते ही बंद हुआ नमो टीवी, भाजपा ने दिए थे इतने लाख रुपए सीडीओ ने देवलान गौशाला का किया निरीक्षण बड़ा मंगल दे रहा है दस्तक, लखनऊ मेट्रो की सवारी कर बचें धूप और जाम से आजम खान के खिलाफ आचार संहिला उल्लंघन के 13 मामलों में आरोप पत्र दाखिल
 

बाल आयोग की टीम को निरीक्षण के दौरान मिलीं तमाम खामियां


RAJNISH KUMAR 21/02/2019 19:04:56
107 Views

Lucknow. राजकीय  संप्रेक्षण किशोर गृह फैज़ाबाद में गुरुवार को किए गए निरीक्षण में प्रभारी अधीक्षक के.वी. मिश्रा बाल आयोग की सदस्य सुचिता चत्रुर्वेदी को अपनी बातों से घंटों घुमाते रहे। वहीं किशोरों से बात करने पर पता चला कि कथित तौर पर दो महिलाएं आती हैं, जो उनकी काउंसलिंग करती हैं। जब बच्चों से साहित्य मांगा गया तो उन्होंने ऐसा साहित्य दिया, जो कि किसी अन्य धर्म का था। ऐसा प्रतीत होता है किशोरों के ब्रेन वाश की सुनियोजित तरह से योजना बन रही थी।

bal aayog ki team ko mili khamiyan

निरीक्षण के दौरान 6 से 7 किशोर ऐसे पाए गए, जो बहुत ही छोटे अपराधों में सजा काट रहे हैं। वहीं, जब दस्तावेजों की मांग की गई तो राजकीय संप्रेक्षण गृह के प्रभारी अधीक्षक ने स्टोर कीपर के पास चाभी होने का हवाला देकर किनारा कर लिया। 

वहीं समीक्षा बैठक में दस्तावेजों को फिर से लाने को कहा गया तो डीपीओ विकास और संप्रेक्षण गृह के प्रभारी अधीक्षक ने बैठक से बाहर जाकर आपसी सुलह कर समीक्षा की बैठक का इंतजार करते रहे और तरह-तरह की बातें बनाते रहे। उसके बावजूद भी सामान के मूल्य की सूची नहीं दी गई।

निरीक्षण में प्राथमिक विद्यालयों में ढेरों अनियमितताएं पाई गईं। निरीक्षण करने पर पता चला कि अयोध्या में 86 बच्चे-बच्चियां पंजीकृत थे, जिनमें से मात्र 26 बच्चे ही उपस्थिति पाए गए। शिक्षिका सिर्फ 4 थीं। बच्चों की कापियां जब जांची गई तो एक सप्ताह का गैप पाया गया, उस पर भी शिक्षिका कुछ बोलने के बजाय आनाकानी करती पाई गई। 

bal aayog ki team ko mili khamiyan

वहीं, दूसरी ओर पाया गया कि कक्षा 8 के बच्चों को छोटा ए बी सी डी का पाठ पढ़ाया जा रहा था। पढ़ाई के वक़्त बच्चे पढ़ने के बजाय धूल मिट्टी में खेल रहे थे और शिक्षिकाएं कक्षा में बैठे स्वेटर बुून रहीं थीं। दो और प्राथमिक विद्यालयों में जब निरीक्षण किया गया तो वहां भी अनियमितताएं पाई गईं। 

कन्या पूर्व माध्यमिक विद्यालय सहादतगंज के निरीक्षण में पाया कि एक शिक्षिका और एक कमरे के भरोसे विद्यालय चल रहे थे। एक ही कमरे कक्षा 6,7,8 के सभी बच्चे शिक्षा लेते पाए गए। प्राथमिक विद्यालय प्रथम सहादतगंज एवं अबुसरय में एक-एक शिक्षामित्र के भरोसे चलते पाए गए।

वीडियो देखें हिन्दी में -  Lucknow Samachar Video

समीक्षा बैठक में बीएसए, डिप्टी सीपीओ, अल्पसंख्यक अधिकारी, श्रम अधिकारी, पंचायतीराज अधिकारी, परियोजना अधिकारी के साथ ही अन्य अधिकारी अनुपस्थित रहे। नगर शिक्षा अधिकारी आरटीई एक्ट के विषय में कोई संतोषजनक जवाब नहीं दे पाए।

 

Web Title: bal aayog ki team ko mili khamiyan ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया