मुख्य समाचार
IPL को लेकर हुआ बड़ा खुलासा, मुंबई पुलिस ने IPL में मुहैया कराई सुरक्षा, नहीं मिला पैसा सीआईएसएफ ने दो सूडान मूल के नागरिकों से बरामद की लाखों की विदेशी करेंसी प्रेम नारायण मेहरोत्रा के 'भजन संग्रह' का विमोचन लड़कियों के लिए सुनहरा मौका, बालों से होगी कमाई, करना होगा ये काम राजधानी में टेंट कारोबारी की राह चलते गोली मारकर हत्या से मची सनसनी वोटर लिस्ट में तेजस्वी की जगह इस शख्स की तस्वीर, मचा हड़कंप आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस वे पर वॉल्वो बस पलटी, पांच की मौत, दो दर्जन घायल चुनाव आयोग पीएम मोदी के इशारे पर कर रहा पक्षपातपूर्ण बर्ताव : कांग्रेस आयोग में आंतरिक घमासान के निपटारे के लिए सीईसी ने मंगलवार को बुलाई बैठक मायावती ने कहा- क्या वाराणसी 1977 के रायबरेली को दोहराएगा कान फिल्म फेस्टिवल 2019 में जलवा बिखेरकर लौटीं दीपिका पादुकोण, एयरपोर्ट पर वायरल हुईं तस्वीरें समीक्षा अधिकारी पर्चा लीक मामले में सीबीसीआईडी ने कोर्ट को भेजी अंतिम रिपोर्ट भाजपा ने चुनाव आयोग से की मायावती-अखिलेश की शिकायत  दो अलग अलग घटनाओं में जहरीला पदार्थ खाने से युवती और किशोरी की मौत नोबेल पुरस्कार विजेता ने कहा- साध्वी को पार्टी से निकालकर राजधर्म निभाए भाजपा युवक और युवती के शव एक साथ फंदे पर झूलते मिले, हत्या और आत्महत्या के बीच उलझी गुत्थी दो रोटी के लिए नौकर ने की मालकिन की हत्या, ऐसे खुला राज 48 मेगापिक्सल वाला Oppo A9x लॉन्च, जानें कीमत मिशन गठबंधन पर चंद्रबाबू नायडू, विभिन्न दलों के नेताओं से मुलाकातों का दौर जारी भाजपा राज में नहीं हुआ गरीब, मुसलमान, किसान, दलित का विकास: मायावती चौराहों पर लगी महापुरूषों की प्रतिमाएं झेल रही उपेक्षा का दंश चौथे नंबर पर बल्लेबाजी करने को तैयार केएल राहुल राबड़ी देवी के सुरक्षा गार्ड ने इस वजह से खुद को मारी गोली भारत के इस खिलाड़ी पर पत्नी ने लगाया दहेज और शोषण का आरोप कांग्रेस ने लखनऊ में किया मौन विरोध प्रदर्शन जिस सीट से ममता ने सोमनाथ को हराया था, वहां इस बार होगी ग्लैमर और अनुभव में भिडंत एक्सप्रेस वे पर भीषण हादसा: यात्रियों से भरी बस पलटी, 5 की मौत, दो दर्जन से अधिक घायल इससे तो अच्छा आप अमिताभ बच्चन को प्रधानमंत्री बना देते : प्रियंका गांधी डीजीपी कार्यालय द्वारा जसवीर सिंह निलंबन पर सूचना देने से इंकार
 

ड्रैगन का प्लान, आतंकी एक फायदे अनेक 


DEEP KRISHAN SHUKLA 14/03/2019 10:20:54
76 Views

New Delhi. पाकिस्तान के आतंकवादी को संयुक्त राष्ट्र संघ में लगातार चौथी बार बचाने वाले चीन ने यह साबित कर दिया है कि वह शांति और आतंक के खात्मे के लिए प्रयासरत देशों के साथ नहीं है। चीन की इस हरकत से भारत के साथ संयुक्त राष्ट्र संघ के अन्य देश भी निराश हुए है। लगातार आतंकवादी की ढाल बनने वाले चीन की इस हरकत की आखिर वजह क्या है आइए समझते हैं। 

dragon ka plan, aatanki ek fayde anek
बता दें कि पिछले दस सालों में चीन 2009, 2016 और 2017 में और अब 2019 में मसूद अजहर को ग्लोबल आतंकी घोषित करने के प्रयासों पर पानी फेर चुका है। 2016 में अमेरिका ने 2017 में ब्रिटेन और फ्रांस ने, तो इस बार सभी देशों ने मिल कर संयुक्त रूप से यूएन में प्रस्ताव रखा था। बावजूद इसके चीन ने हर बार की तरह इस बार भी अपने वीटो का प्रयोग कर मसूद अजहर को वैश्विक आतंकी घोषित करने के प्रयासों पर पानी फेर दिया। चीन की इस हरकत के पीछे वजहों को तलाशें तो तमाम ऐसे कारण है जो यह बतातें कि आतंकवादी की तरफदारी करके चीन अपने तमाम तरह के उल्लू सीधे कर रहा है। 

dragon ka plan, aatanki ek fayde anek
  पाकिस्तान में लम्बा चौड़ा निवेश 
चीन ने पाकिस्तान में 7 लाख करोड़ का निवेश कर रखा है। वहां चीन की 77 कंपनियां चल रही हैं। पाकिस्तान में चीन सीपैक में 55 बिलियन डॉलर तकरीबन 3.8 लाख करोड़ रुपए का निवेश की योजना बनना रखी है। इसके अलावा कई प्रस्तावों में 46 बिलियन डॉलर यानि तकरीबन 3.2 लाख करोड़ रुपए खर्च कर चुका है। 

dragon ka plan, aatanki ek fayde anek
  भारत को उलझाए रखने का इरादा 
भारत को चीन अपना सबसे बड़ा प्रतिद्वंदी मानता है। भारत का ध्यान दक्षिण एशिया के महत्वपूर्ण मुद्दों से भटका रहे इसके लिए पाकिस्तान का साथ देकर चीन भारत को घरेलू उलझनों में फंसाए रखना चाहता है। अगर वह मसूद के खिलाफ जाएगा तो निश्चित रूप से भारत मजबूत होगा यह बात उसे बाखूबी मालूम है।  

dragon ka plan, aatanki ek fayde anek
  इस्लामिक मोर्चा भी है बड़ी वजह
चीन ने अपने देश में उईगर मुसलमानों पर तमाम प्रतिबंध लगा रखें है। ऐसे कठोर प्रतिबंधों के कारण दुनिया के तमाम मुस्लिम देश चीन से नाराजगी रखते हैं। इस्लामिक सहयोग संगठनन के देशों में अकेला पाकिस्तान ही ऐसा देश है जो चीन में मुस्लिमों पर लगे प्रतिबंधों और मुस्लिमों पर होने वाले अत्याचारों को अनदेखा कर रहा है। लिहाजा इस मोर्चे पर पाकिस्तान के साथ की चीन को सख्त जरूरत है। 

dragon ka plan, aatanki ek fayde anek
  दलाई लामा और अमेरिका भी है बड़ी वजह 
भारत और अमेरिका के संबंध चीन की आंखों में सबसे ज्यादा खरकते हैं। जिसकी वजह यह है कि चीन और अमेरिका विश्व की दो बड़ी अर्थ व्यवस्थाएं हैं और भारत को आर्थिक मामलों में चीन अपना प्रतिद्वंदी मानता है। एक और कारण दलाई लामा भी हैं। मसूद अजहर की ढाल बन कर वह भारत से इस बात की खुन्नस निकालता है कि भारत ने दलाई लामा को शरण दे रखी है। 

यह भी पढ़े... करतारपुर गलियारे पर भारत-पाक के बीच होगी बातचीत

 

 

 

 

 

 

Web Title: dragon ka plan, aatanki ek fayde anek ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया