अब सिर्फ खेलिए ही नहीं बल्कि दहन भी कीजिए ईको फ्रैंडली होली


DEEP KRISHAN SHUKLA 18/03/2019 14:31:10
420 Views

Kanpur. रंगों उमंगों के पर्व होली पर आपने हर्बल रंगों का प्रयोग कर ईको फैंडली होली मनाने की बातें तो सुनी होंगी लेकिन क्या आपकों पता है कि ईको फ्रैंडली होलिका दहन भी हो सकता है? जी हां, यह संभव हुआ है लकड़ी के विकल्प के तौर पर प्रयोग किए जाने वाले बायोमस ब्रिकिट से। लगभग लकड़ी की कीमत पर मिलने वाली बायोमस ब्रिकिट के प्रयोग से जहां हरे पेड़ों की कटान पर रोक लगेगा वहीं इसके धुंंए से प्रदूषण भी कम होता है। अभी इसका प्रयोग कई फैक्ट्रियों के बायलर ​मे किया जा रहा है। 

ab sirf kheliye hi nahi balki dahan bhi kijiye eco friendly Holi
बायो सीएनजी बनाने के बाद कचरे में बायोगैस लरी निकलती है सामान्य रूप में इसका प्रयोग खाद के तौर पर किया जाता है। 
कानपुर के श्याम नगर के रहने वाले विशाल अग्रवाल ने एक अनोखी पहल करते हुए इस लरी से बायोमस ब्रिकिट बनाने की शुरूआत की है। 

ab sirf kheliye hi nahi balki dahan bhi kijiye eco friendly Holi
उनके सरसौल स्थित प्लांट में ब्रिकिट तैयार की जाती है। इस प्लांट में गोबर से बनने वाली जैविक और बायो सीएनजी तैयार की जाती है। 
बायो सीएनजी बनाने कचरे के रूप में बायो गैस लरी निकलती है। जिसे सामान्य तौर पर खाद के रूप में ही प्रयोग किया जाता है। 
पर्यावरण संरक्षण के प्रति संजीदा विशाल ने एक बार होली के त्योहार पर इस बात पर गौर किया कि होलिका दहन पर लकड़ी के लिए बड़े पैमाने पर पेड़ों की कटान होती है इसके अलावा तमाम फैक्ट्रियों में भी नियमित रूप से लकड़ी का प्रयोग किया जाता है। 

ab sirf kheliye hi nahi balki dahan bhi kijiye eco friendly Holi
इस सोंच के साथ विकल्प तलाशने के दौरान उन्हें लरी से बायोमस ब्रिकिट तैयार करने का विचार आया। उन्होने सेपरेटर मशीन से लरी को दो भागों में बांट कर उसके सूखे हिस्से को और सुखा कर उसे तने का आकार दिया और तैयार हो गयी बायोमस ब्रिकिट। 
महज 6 रुपए प्रति किलोग्राम की कीमत पर उपलब्ध इस ब्रिकिट के कई आर्डर उन्हे होलिका दहन के लिए भी मिले हैं। 

ab sirf kheliye hi nahi balki dahan bhi kijiye eco friendly Holi
अपनी कम कीमत के अलावा बायोमस ब्रिकिट की दूसरी खास बात यह है कि इसको जलाने पर लकड़ी की अपेक्षा बहुत कम मात्रा में कार्बन डाई आक्साइड और कार्बन मोनो आक्साइड निकलती है। 
इस दृष्टिकोण से प्रकृति के लिए लकड़ी का यह विकल्प सेहतमंद साबित हो सकता है। लोगों को इसके लिए जागरूक किया जाए तो पेड़ों की अंधाधुंध कटान पर भी अंकुश लगाया जा सकता है। 
 
यह भी पढ़े...होली में इन डिसेज को खाने से करें परहेज, बढ़ाएंगे मोटापा और डायबिटीज

 

 

 

 

 

Web Title: ab sirf kheliye hi nahi balki dahan bhi kijiye eco friendly Holi ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)

कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया