देवा शरीफ दरगाह में हिंदु-मुस्लिम साथ खेलेंगे होली


NAZO ALI SHEIKH 18/03/2019 16:43:21
176 Views

Lucknow.  देवा स्थित सूफी संत हाजी वारिस अली शाह की मजार पर होली में गुलाल की धूम होती है। हिंदू-मुस्लिम युवक एक साथ रंग व गुलाल में डूब जाते हैं। बाराबंकी का यह बागी और सूफियाना मिजाज होली को अन्य स्थानों से अलग कर देता है। 

Holi will play with Hindus and Muslims at the Deva sharif dargah

यह भी पढ़ें... मनोहर पर्रिकर के निधन पर गोवा बोर्ड ने एचएसएससी परीक्षा रद्द की, जानें अगली तारीख

  संत ने शुरू की थी परम्परा

सूफी संत हाजी वारिस अली शाह के चाहने वाले सभी धर्म के लोग थे। इसलिए हाजी साहब हर वर्ग के त्योहारों में बराबर भागीदारी करते थे। वह अपने हिंदू शिष्यों के साथ होली खेल कर सूफी परम्परा का इजहार करते थे। 

यह भी पढ़ें... सब जूनियर जूडो प्रतियोगिता में खिलाड़ियों ने दिखाया अपना दम

उनके निधन के बाद यह परम्परा आज भी जारी है। यहां की होली में उत्सव की कमान पिछले चार दशक से शहजादे आलम वारसी संभाल रहे हैं। वह बताते हैं कि यह देश की पहली दरगाह है, जहां होली के दिन रंग गुलाल के साथ जश्न मनाया जाता है। 

Holi will play with Hindus and Muslims at the Deva sharif dargah

कौमी एकता गेट पर पुष्प के साथ चाचर का जुलूस निकाला जाता है। इसमें आपसी कटुता को भूलकर दोनों समुदाय के लोग भागीदारी करके संत के 'जो रब है, वहीं राम है' के संदेश को पुख्ता करते हैं।

Web Title: Holi will play with Hindus and Muslims at the Deva sharif dargah ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)

कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया