सरकार ने विनिवेश के जरिए हासिल की बड़ी सफलता, इन कंपनियों से वसूले करोड़ों रुपये


NAZO ALI SHEIKH 23/03/2019 12:29:32
25 Views

New Delhi. लोकसभा चुनाव से पहले मोदी सरकार ने अपने विनिवेश लक्ष्य को  हासिल कर लिया है। वित्त मंत्री ने इस बात की जानकारी देते हुए बताया कि वित्त वर्ष (2018-19) में अब तक विनिवेश के जरिए 85,000 करोड़ रुपये की वसूली कर ली है। 

यह भी पढ़ें... ईडी करेगा बड़ी कार्यवाई, आतंकी हाफिज सईद की 25 संपत्तियों को जब्त करने की तैयारी

The big success achieved by the government through disinvestment, crores of rupees collected from these companies

यह लक्ष्य से 5,000 करोड़ रुपये अधिक है, आपको बता दें कि सरकार ने सीपीएसई ईटीएफ की पांचवीं किस्त से 9, 500 करोड़ और आरईसी-पीएफसी सौदे से 14,500 करोड़ रुपये जमा किए हैं। अगले वित्त वर्ष 2019-20 के लिए विनिवेश का लक्ष्य 90,000 करोड़ रुपये तय किया है। 

  ट्विट से दी जानकारी

वित्त मंत्री ने ट्वीट कर बताया कि 80,000 करोड़ रुपये के विनिवेश लक्ष्य रखा गया था लेकिन 85,000 करोड़ रुपये की वसूली कर ली गई है। साल 2017-18 में बजट लक्ष्य 72,500 करोड़ रुपये के मुकाबले रिकॉर्ड 1 लाख करोड़ रुपये का विनिवेश जमा किया गया था। इनमें ज्यादातर ओएनजीसी और हिंदुस्तान पेट्रोलियम से वसूली गई रकम थी। 

यह भी पढ़ें... श्रद्धांजलि: एक ही साल में भगत सिंह पर बनीं थीं ये 3 फिल्में, इस एक्टर को मिला था...

  क्या है विनिवेश

विनिवेश प्रक्रिया में निवेश का उलटा होता है। निवेश यानी किसी कारोबार में, किसी संस्था में, किसी कार्य में पैसा लगाना और विनिवेश यानी उस पैसे को वापस निकालना होता है, सरकारी पार्टनरशिप को बेचने की प्रक्रिया को विनिवेश कहते हैं। 

The big success achieved by the government through disinvestment, crores of rupees collected from these companies

1- इस प्रक्रिया के तहत सरकार घाटे में चल रही कंपनियों में हिस्सेदारी को बेचती है। इस प्रक्रिया के जरिए मिलने वाले धन को सरकार उस कंपनी को बेहतर बनाने में निवेश करती है या फिर किसी दूसरी योजना में इसे लगाती है। 

2- किसी कंपनी का विनिवेश करने का मकसद कंपनी का टर्नओवर बेहतर बनाना होता है। सरकारी कंपनियों में करीब एक दर्जन ऐसे उपक्रम हैं जिनमें सरकार की हिस्सेदारी 90 फीसदी और 99 फीसदी के बीच है। 

3- विनिवेश की शुरुआत आर्थिक उदारीकरण प्रक्रिया के बाद हुई जिसके बाद सरकार ने घाटे में चल रही कंपनियों में प्राइवेट कंपनियों की पार्टनरशिप बढ़ानी शुरु कर दी। 

Web Title: The big success achieved by the government through disinvestment, crores of rupees collected from these companies ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया