मुख्य समाचार
राम मंदिर का जल्द से जल्द निर्माण है अयोध्या आने का मकसद: उद्धव ठाकरे सीतापुर में भीषण सड़क हादसा, ट्रक की चपेट में आकर बाइक सवार दो युवकों की मौत न्यूजीलैंड में आया 7.2 तीव्रता का शक्तिशाली भूकंप भारत ने दक्षिण अफ्रीका को 5-1 से हराकर FIH सीरीज़ का फाइनल जीता Air India में नौकरी का सुनहरा मौका, नहीं देनी होगी लिखित परीक्षा इस दिन जारी होंगे UP Polytechnic के परीक्षा परिणाम पति करता था परेशान, पत्नी ने प्रेमी संग मिलकर उठाया खौफनाक कदम पश्चिम बंगालः डॉक्टर्स की हड़ताल खत्म होने के आसार एक्सप्रेस वे पर भीषण सड़क हादसा, 6 लोगों की मौत पाकिस्तान ने दी पुलवामा में संभावित आतंकी हमले सूचना, घाटी में हाई अलर्ट भारत-पाक महामुकाबले पर बारिश का खतरा बरकरार मिस इंडिया 2019: सुमन राव ने जीता खिताब, शिवानी रहीं फर्स्ट रनर अप रेल यात्रियों को सफर में मसाज सेवा देने की योजना पर लगा ग्रहण, जानिए क्या रही वजह
 

रासायनिक हमलों के दौरान 24 घण्टे तक सैनिकों की रक्षा करेगा एबीसी सूट


DEEP KRISHAN SHUKLA 25/03/2019 11:12:22
56 Views

Kanpur. रासायनिक हमलों के दौरान सैनिक 6 घण्टे के लिए ही नहीं बल्कि 24 घण्टे तक सुरक्षित रह सकेंगे। डीआरडीओ ने इसके लिए एनबीसी वारकेयर प्रोटेक्शन सूट, जूते और दस्ताने तैयार किए गए हैं। विशेष रूप से तैयार किए गए ये न्यूक्लियर, बायोलॉजिकल, केमिकल (एनबीसी) सूट रासायनिक हमलों के दौरान निकलने वाली तमाम विषाक्त गैसों को बेअसर करेंगे। इन सूटों का प्राथमिक ट्रायल सफल रहा है अब यह अपने अंतिम दौर में है। 

Rasaynik Hamlon Ke Dauran 24 Ghante Tak Sainikon Ki Raksha Karega ABC Soot
स्थानीय राजकीय चर्म संस्थान के एक कार्यक्रम में शिरकत करने आए डीआरडीओ के तकनीकी अधिकारी मनोज सिंह ने यह जानकारी देते हुए बताया कि एनबीसी सूट का नया वर्जन मार्क-6 'एक्टिवेट कार्बन' 'फाइबर', 'पोलिस्टर' व 'फैब्रिक' से बना है। उन्होंने बताया कि परीक्षण में इस सूट के बेहतर परिणाम मिले हैं। 
इसी तरह कंप्रेशर मोल्डिंग तकनीक से तैयार मार्क टू के बूट भी अधिक क्षमता वाले हैं। ब्रोमोबुटाइल रबर से बने ये जूते हल्के भी हैं इनका वजन मात्र 900 ग्राम है। इनकी खासियत यह है कि ये जूते रसायनों व गैसों से तो बचाव करेगें ही साथ ही ये हल्की एल्फा और बीटा किरणों को भी रोकने में सक्षम हैं। इन जूतों में रबर के अलावा बूट कार्बन कंटेंट, सिल्वर पार्टिकल व नैनो पार्टिकल से बनाया गया है। 
यह बूट डीएमएस शूज के ऊपर पहना जाता है। यह फ्लेक्सिबल भी है। सूट और बूट के अलावा मार्क-2 एनबीसी दस्ताने भी बनाए गए हैं जिसमें कॉटन फैब्रिक व ब्रोमोबुटाइल रबर की दो परतों का प्रयोग किया गया है। 

Rasaynik Hamlon Ke Dauran 24 Ghante Tak Sainikon Ki Raksha Karega ABC Soot
  -40 डिग्री तापमान पर गलन से बचाएंगें जूते और दस्ताने  
डीआरडीओ ने बेहद सर्द सीमा क्षेत्रों में तैनात रहने वाले सैनिकों के लिए सफेद नापा चमड़े से दस्ताने बनाए है जो -40 डिग्री के न्यूनतम तापमान पर भी सैनिकों के हाथों को सुरक्षित रखते हैं। टेक्सटाइल, पीयू कोटेड फैब्रिक, नायलॉन व पायल फैब्रिक से यह दस्ताने बनाए गए हैं। इसके अलावा रबर फैब्रिक व कॉटन ड्रिल से बने जूते सैनिकों के पैरों को गलन से बचाने में सक्षम है। शू एंड शू के नाम से जाने जाने वाले इन जूतों की प्रतिवर्ष 125 लाख जोड़ियों की मांग है जिसे पूरा किया जा रहा है। 

यह भी पढ़े...भारतीय नौसेना ने मोजाम्बिक में 192 लोगों की बचाई जान, 1,381 लोगों को पहुंचाया अस्पताल

 

 

 

Web Title: Rasaynik Hamlon Ke Dauran 24 Ghante Tak Sainikon Ki Raksha Karega ABC Soot ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया