मुख्य समाचार
UPTET : हाईकोर्ट के आदेश को सुप्रीम कोर्ट ने किया निरस्त, 1 लाख से ज्यादा शिक्षकों को मिली राहत अखिलेश यादव ने योगी सरकार पर बोला करारा हमला, कहा- नौजवानों की जिन्दगी में ... फतेहपुर में प्रतिबंधित मांस मिलने पर बवाल, मदरसे पर पथराव साक्षी मामले पर मालिनी अवस्थी का बड़ा बयान, लड़कियां जीवन साथी चुनें लेकिन... यूपी पुलिस को मिली बड़ी सफलता, दो इनामी बदमाश किए ढेर वरिष्ठ पत्रकार बरखा दत्त ने कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल पर लगाए गम्भीर आरोप, मचा घमासान अंतिम संस्कार की चल रही थी तैयारी, अचानक युवक की खुली आंखे और फिर जो हुआ... सरकारी आवास के मोह पॉश में जकड़े दो पूर्व मंत्रियों को गहलोत सरकार ने दिया जुर्माने का झटका सलमान संग फिल्मों में डेब्यू कर सुपरस्टार बनीं कटरीना का नहीं है कोई क्राइम रिकॉर्ड 149 साल बाद बन रहा गुरू पूर्णिमा पर चंद्र दुर्लभ योग सपा नेता अखिलेश यादव की गोली मारकर हत्या, सियासत में भूचाल
 

शिक्षकों की कमी से जूझ रहा प्राइमरी स्कूल


JITENDRA NISHAD 25/03/2019 19:12:22
38 Views

Lucknow. शिक्षा को बढ़ावा देने के उद्देश्य से प्रदेश सरकार प्रतिवर्ष विद्यालयों में मिड डे मिल वितरण, निशुल्क यूनिफॉर्म, स्कॉलरशिप देने का कार्य तो कर रही है, लेकिन एक बड़ा सवाल यह है कि जब विद्यालय में बच्चों को पढ़ाने के लिए पर्याप्त अध्यापक ही न हो तो ऐसे में बच्चों कैसे मिलेगी शिक्षा।

shikshako ki kami se jujh raha primery school

राजधानी लखनऊ के भारतेंदु हरिश्चंद्र वार्ड स्थित प्राथमिक विद्यालय छावनी मड़ियांव की शिक्षिका प्रतिज्ञा चतुर्वेदी ने बताया कि विद्यालय में कक्षा एक से पांच तक की सभी अलग-अलग कक्षाएं हैं। विद्यालय में 157 बच्चे पढ़ने आते हैं। अध्यापिका ने बताया कि स्कूल में मात्र 2 ही शिक्षिका हैं, जिस वजह से प्रत्येक छात्र छात्राओं को पढ़ा पाना बहुत ही मुश्किल हो जाता है। 

वहीं, स्वच्छता को लेकर उन्होंने बताया कि विद्यालय के बाहर रोड के किनारे कूड़े का ढेर लगा रहता है। यही कूड़ा विद्यालय के बाहर बनी नालियों में जमा हो जाता है, जिस वजह से नालियां पूरी तरह से जाम हो चुकी हैं।

shikshako ki kami se jujh raha primery school

जब न्यूज़ टाइम्स के संवाददाता ने विद्यालय की शिक्षिका से विद्यालय की समस्या के बारे में कैमरे के सामने बोलने के लिए कहा तो शिक्षिका कैमरे के सामने कुछ भी बोलने से इंकार करते हुए कहा कि कैमरे के सामने कोई भी समस्या नहीं बोल सकती हूं। शिक्षिका ने यह भी कहा कि सरकारी नौकरी करना है तो ये दिक्कतें भी उठानी पड़ेंगी।

अब देखना यह है कि आखिर कब मड़ियांव के प्राथमिक विद्यालय की समस्या की खबर बेसिक शिक्षा अधिकारी के कानों तक पहुंचेगी।

Web Title: shikshako ki kami se jujh raha primery school ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया