जैश सरगना की यूएनएससी में फिर शुरू हुई घेराबंदी, अमेरिका लाया मसौदा प्रस्ताव


DEEP KRISHAN SHUKLA 28/03/2019 11:49:12
113 Views

New Delhi. जैश सरगना मसूद अजहर को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में ग्लोबल आतंकी घोषित कराने की कोशिश एक बार फिर शुरू हो गयी हैं। अमेरिका, ब्रिटेन और फ्रांस ने इस आतंकी को ब्लैक लिस्ट कराने के फिर से यूएनएससी में प्रस्ताव दिया है। चीन ने दो सप्ताह पहले वीटो पावर लगा कर इन प्रयासों में अड़ंगा लगा दिया था। दोबारा तैयार किए गए प्रस्ताव में आतंकी मसूद अजहर की यात्रा पर बैन, संपत्ति जब्त और हथियार बंदी करने की मांग की गयी है। 

Jaish Sargana Ki UNSC me Fir shuru Hui Gherabandi, America Laya Prastav Masauda
अमेरिका ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में बुधवार को एक मसौदा प्रस्ताव भेजा जिसमें पाकिस्तान स्थित जैश-ए-मोहम्मद के सरगना अजहर मसूद को प्रतिबंधित करने की बात की गई है। 
इस महीने की शुरुआत में चीन ने इस प्रयास में अड़ंगा डाल दिया था। जिसके बाद अमेरिका अजहर को प्रतिबंधित करने के प्रस्ताव को लेकर सीधे सुरक्षा परिषद पहुंच गया। 

Jaish Sargana Ki UNSC me Fir shuru Hui Gherabandi, America Laya Prastav Masauda
मसौदा प्रस्ताव में पुलवामा के आत्मघाती हमले की निंदा करते हुए निर्णय लिया गया है कि आतंकी मसूद अजहर को संयुक्त राष्ट्र के अल-कायदा एवं इस्लामिक स्टेट प्रतिबंधों की काली सूची में रखा जाएगा। 
अभी यह तय नहीं हुआ है कि इस मसौदा प्रस्ताव में वोटिंग कब होगी। बता दें कि वोटिंग करने वाले स्थायी सदस्य देशों में ब्रिटेन, फ्रांस, रूस और अमेरिका के साथ चीन शामिल है।

Jaish Sargana Ki UNSC me Fir shuru Hui Gherabandi, America Laya Prastav Masauda
   अमेरिका की चीन के सा​थ यूएन में बनी टकराव की स्थिति
मसूद अजहर पर चीन की अड़गेबाजी और अमेरिका की कार्रवाई के बाद दोनों देशों के बीच एक बार फिर तकरार बढ़ सकती है। अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ बुधवार को ट्वीट के जरिए कहा कि दुनिया मुसलमानों के प्रति चीन के शर्मनाक पाखंड को बर्दाश्त नहीं कर सकती। अपने यहां लाखों मुसलमानों पर अत्याचार करने वाला चीन हिंसक इस्लामी आतंकवादी समूहों को संयुक्त राष्ट्र के प्रतिबंधों से बचाता है।

Jaish Sargana Ki UNSC me Fir shuru Hui Gherabandi, America Laya Prastav Masauda

पोम्पिओ ने यह आरोप भी लगाए है कि चीन 2017 से शिनजियांग प्रांत में नजरबंदी शिविरों में 10 लाख से ज्यादा उइगरों, कजाखों और अन्य मुस्लिम अल्पसंख्यकों को हिरासत में लेकर अत्याचार कर रहा है। चीन को इस दमन को रोकते हुए हिरासत में लिए गए लोगों को रिहा करना चाहिए।

यह भी पढ़े...भाजपा नेता के घर को नक्सलियों ने डायनामाइट से उड़ाया

 

 

 

 

 

Web Title: Jaish Sargana Ki UNSC me Fir shuru Hui Gherabandi, America Laya Prastav Masauda ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया