मुख्य समाचार
कांग्रेस ने यूपी की गोरखपुर व वाराणसी सीट के उम्मीदवारों के नाम का किया एलान PM मोदी ने कहा- पड़ोस में आतंकवाद की फैक्ट्री चल रही है और विरोधी बोलते हैं यह मुद्दा ही नहीं है सीएम ममता की बायोपिक पर रोक, दिया ये करारा जवाब कांग्रेस को यूपी में बड़ा झटका, इस प्रत्याशी का पर्चा हुआ खारिज, जानिए क्या रही वजह B.Ed डिस्टेंस अभ्यर्थियों का CET परीक्षा परिणाम जारी, यहां देखें रिजल्ट शिक्षक बनने का सुनहरा मौका, जल्द करें आवेदन दिव्यांका त्रिपाठी ने किया इस शो को छोडने का फैसला, जानें वजह पोलिंग बूथ पर पीठासीन अधिकारी से मारपीट करने वाला गिरफ्तार जन्मदिन पर सचिन को मिला नोटिस वाला तोहफा कैसरगंज के प्रेक्षकों ने चुनाव तैयारियों का लिया जायजा, कार्यवाही की चेतावनी मनचले ने तेल छिड़क कर युवती को जलाया, बेटी के साथ मां भी झुलसी हेलीकॉप्टर से गरमाया एमपी का सियासी माहौल  मोदी चौकीदार हैं या कोई शहंशाह : प्रियंका
 

विद्या और बुद्धि के लिए करें मां कुष्मांडा की उपासना


ARCHANA PANDEY 09/04/2019 09:42:10
57 Views

Lucknow. आज नवरात्र का चौथा दिन है इस दिन देवी दुर्गा के चौथे स्वरुप मां कुष्मांडा की पूजा अर्चना की जाती है। मां कुष्मांडा की पूजा से हर तरह की विद्या और बुद्धि की प्राप्ति होती। ज्योतिष में मां कुष्मांडा  का संबंध बुध ग्रह से है। इसलिए जिन लोगों की कुंडली में बुध कमजोर होता है, उन्हें विशेषतौर पर मां कुष्मांडा की पूजा करनी चाहिए, जिससे उनका बुध मजबूत हो सके। 

Worship of Mother Kushmanda for Lent and Wisdom

कहते हैं कि अपनी हल्की हंसी के द्वारा ब्रह्मांड को उत्पन्न करने के कारण इनका नाम कुष्मांडा हुआ। मां की आठ भुजाएं हैं। इसलिए मां को अष्टभुजी देवी भी कहा जाता है। वहीं, संस्कृत भाषा में मां कुष्मांडा को कुम्हड़ कहते हैं और इन्हें कुम्हड़ा बहुत  प्रिय है। 
यह भी पढ़े...सपा ने ऐन मौके पर इस उम्मीदवार का काटा टिकट

मां कुष्मांडा की पूजा विधि 

मां कुष्मांडा की पूजा हरे कपड़े पहन कर करनी चाहिए। पूजा में मां को हरी इलायची, सौंफ या कुम्हड़ा अर्पित करना चाहिए। पूजन के बाद मां के मुख्य मंत्र "ॐ कुष्मांडा देव्यै नमः" का 108 बार जाप करना चाहिए। बता दें कि मां को आज के दिन मालपुए का भोग अवश्य लगाना जाहिए। 

Worship of Mother Kushmanda for Lent and Wisdom

बुध को मजबूत करने के लिए पूजा

बुध को मजबूत करने के लिए मां कुष्मांडा को उतनी हरी इलायची अर्पित करनी चाहिए, जितनी कि आपकी उम्र है। हर इलायची अर्पित करने के साथ "ॐ बुं बुधाय नमः" मंत्र का उच्चारण करना चाहिए। इसके बाद सारी इलायचियों को एकत्र करके अगली नवरात्रि तक हरे कपड़े में बांधकर सुरक्षित रखें। 

Web Title: Worship of Mother Kushmanda for Lent and Wisdom ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया