पादरी का विवादित बयान, पर्रिकर की मौत भगवान का क्रोध था


NAZO ALI SHEIKH 15/04/2019 17:29:41
72 Views

Goa. लोकसभा चुनाव के दौरान नेताओं के विवादित बोल लगातार सुनने को मिल रहे हैं। यहां तक कि आचार संहिता को भी नेताओं ने ठेंगे पर रख लिया है, लेकिन इस बीच एक पादरी ने बीजेपी सरकार में सीएम रहे मनोहर पर्रिकर के कैंसर की बीमारी से निधन को लेकर विवादित बयान जारी किया है। पादरी अपने विवादित बयान के कारण चर्चा में तो आ गया, लेकिन उसकी मुसीबतें भी बढ़ गई हैं। बीजेपी ने चुनाव आयोग से पादरी के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की है। 

यह भी पढ़ें... UPSC 2018 का परिणाम जारी, यहां देखें अपने मार्क्स

Pastor

दरअसल, पादरी ने बयान जारी करते हुए कहा कि गोवा के सीएम रहे पर्रिकर की कैंसर से मौत नहीं हुई। यह 'भगवान का क्रोध' था। कैंसर तो भगवान की दी हुई सजा थी। तर्क देते हुए पादरी ने कहा कि पर्रिकर ने तटीय राज्य में स्थित एक कस्बे में कोयला प्रदूषण पर शिकायतें मिलने के बावजूद गंभीरता से नहीं लिया था।

गौरतलब है कि लगभग 1 वर्ष तक कैंसर की बीमारियों से लड़ते हुए गोवा के सीएम पद रहते हुए ही पर्रिकर का निधन हो गया। एक साल तक कैंसर से लड़ने के बाद 14 मार्च, 2019 को पर्रिकर का 14 मार्च, 2019 को निधन हो गया था। उपचार के लिए उनको अमेरिका और भारत के कई बड़े अस्पतलों में भर्ती कराया गया था।

यह भी पढ़ें... सहवाग ने कहा, भारत-पाक क्रिकेट मैच किसी जंग से कम नहीं

पादरी का बयान सोशन मीडिया पर वायरल भी हो गया है। इस वीडियो में फादर कॉन्सिकाओ दा सिल्वा का बयान यह कहते हुए सुना जा सकता है कि "जो भगवान को अपने कामों से क्रोधित करता है, उसे सजा देते हैं।" इसके साथ ही पदारी ने गामा शहर स्थित कोयले की राख मामले में दो वर्षों से चलने वाले विरोध प्रदर्शन का मुद्दा भी उठाया है। कोयले का काम जिस तरीके से जारी रखा गया वह परिकर के दर्द का कारण था। 

Pastor

वह यह भी कहते जा रहे हैं कि प्रदूषण को लेकर लोगों ने विरोध जताया, बैठकें आयोजित की। इसके बाद भी परिकर ने इस ओर ध्यान नहीं दिया। इसके बाद भगवान ने परिकर को कैंसर दे दिया। उन्होंने बहुत से लोगों को परेशान करने का काम किया। इस वजह से कैंसर के दर्द में उनका निधन हो गया। पादरी के बयान पर बीजेपी ने आपत्ति जताई है।

बीजेपी ने शिकायत दर्द कराते हुए चुनाव अयोग से कहा कि पादरी "दा सिल्वा ने विवादित बयान दिया है। उनके खिलाफ एक विशेष राजनीतिक दल और एक विशिष्ट धर्म के खिलाफ डर का माहौल बनाने की कोशिश की गई। ऐसे में पादरी के खिलाफ जांच की जाए। साथ ही नफरत और धार्मिक सद्भाव को अस्थिर पहुंचाने के मामले में कार्रवाई हो। 

Web Title: Pastor's disputed statement, Parrikar's death, God's wrath ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)

कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया