मुख्य समाचार
बाढ़ और बारिश से बेस्वाद हुई दाल, टमाटर हुआ लाल, इन सब्जियों के बढ़े 50 फीसदी दाम मॉब लिंचिंग पर सपा सांसद का बड़ा बयान, कहा- पाकिस्तान न जाने की सजा भुगत रहे हैं मुसलमान अब इस दिग्गज ने की प्रियंका के नाम की वकालत बाढ़ से बेहाल असम-बिहार, ताजा तस्वीरों में देखें तबाही का मंजर पीड़ितों ने कौन सा अपराध किया जो उन्हें मुझसे मिलने से रोका जा रहा : प्रियंका AKTU : यूपीएसईई – 2019 की काउंसलिंग का तीसरा चरण आज से शुरु ICC के फैसले से सदमे में जिम्बाब्वे की टीम प्लेसमेंट ड्राइव में 5 से 7 लाख के पैकेज के साथ आई कंपनी, 120 छात्र-छात्राओं ने किया प्रतिभाग मंचीय कविता के आखिरी स्तम्भ थे नीरज : लक्ष्मी नारायण चौधरी एजाज खान के अरेस्ट होने के बाद ट्वीटर पर छाए मीम्स- यूजर्स बोले... ग्रामीण क्षेत्रों में भी किया जाना चाहिए मैंगो फूड फेस्टिवल का आयोजन : डिप्टी सीएम दिनेश शर्मा तेजबहादुर की याचिका पर पीएम मोदी को नोटिस
 

यहां तो स्वच्छ भारत मिशन को निगल गया भ्रष्टाचार का दानव


DEEP KRISHAN SHUKLA 18/04/2019 13:58:37
81 Views

Unnao.चुनावी माहौल में विकास के बड़े बड़े दावों और वादों के बीच उन्नाव जिले के हिलौली विकास खण्ड का विशम्भर खेड़ा (गड़रियन खेड़ा) मजरा खानपुर के बाशिंदे स्वयं को ठगा सा महसूस कर रहे हैं। देश व्यापी स्वच्छ भारत मिशन भी इस गांव में कोई खासा प्रभाव नहीं डाल सका। यहां मिशन पर भ्रष्टाचार के दीमक इस लगे कि पूरी योजना को ही चट कर गए जिसका नतीजा यह है कि लाखों रुपए खर्च कर बनवाए गए तकरीबन आधा सैकड़ा शौचालयों में से एक भी प्रयोग के लायक नहीं है। गांव के गलियारों का हाल तो बस पूछिए ही मत। गांव की इस दयनीय दशा पर लोगों में खासी नाराजगी व्याप्त है। 

Here the Swach Bharat Mission is swallowed by the demon of corruption
राजधानी से सटे उन्नाव जिले के हिलौली विकास खण्ड का विशम्भर खेड़ा (गड़रियन खेड़ा) मजरे खानपुर प्रधानमंत्री के स्वच्छ भारत मिशन को मुंह चिढ़ाता नजर आ रहा है।

ऐसा नहीं है कि यहां पर मिशन के तहत कोई काम नहीं हुआ बशर्ते कराए गए कार्यों में भ्रष्टाचार का घुन कुछ इस तरह लगा कि योजनाएं खोखली हो गयी।

Here the Swach Bharat Mission is swallowed by the demon of corruption

गांव में स्वच्छ भारत मिशन के तहत तकरीबन आधा सैकड़ा से अधिक शौचालयों का निर्माण कराया गया। पर अफसोस यह है कि इन शौचालयों में एक भी इस स्थिति में नजर नहीं आया जिसका प्रयोग किया जा सके। तमाम शौचालय तो बनने के बाद टूट भी गए लेकिन उनका प्रयोग नहीं हो पाया।

Here the Swach Bharat Mission is swallowed by the demon of corruption

शौचालय लाभार्थियों में गया लाल पुत्र संकठा, छेदीलाल पुत्र शंकर, प्रभू देवी पत्नी रामपाल, राम विलास पुत्र शीतल, रामअधीन पुत्र सुखलाल, बोधलाल पुत्र रामऔतार, कल्लू पुत्र जगन्नाथ, राम प्रसाद पुत्र सत्य नारायण, राम नारायण पुत्र बंत, दिनेश पुत्र गया प्रसाद समेत तमाम लाभार्थियों के शौचालयों की कमोबेस यही स्थिति है। 

ग्रामीणों से शौचालयों की स्थिति के बाबत जानकारी करने पर बताया गया कि आधे अधूरे शौचालय बनाए गए है जिससे उनका प्रयोग नहीं हो सका।

Here the Swach Bharat Mission is swallowed by the demon of corruption

जितना निर्माण कराया गया है उसमें भी निम्न गुणवत्ता की निर्माण सामग्री प्रयोग की गयी है जिसके चलते बिना प्रयोग में आए ही शौचालय ध्वस्त होने की कगार पर पहुंच गए। ग्रामीणों ग्राम प्रधान और पंचायत मंत्री पर शौचालय निर्माण में धांधली और भ्रष्टाचार के आरोप लगाए है।

Here the Swach Bharat Mission is swallowed by the demon of corruption
ग्राम प्रधान का कहना है कि गांव विशम्भर खेड़ा में बने लगभग 75 शौचालय बनवाए गए हैं जो प्रयोग हो रहे हैं। जबकि खण्ड विकास अधिकारी हिलौली से इस संबंध में हुई बातचीत पर उन्होंने कहा कि एडीओ पंचायत से मामले की जांच कराई जाएगी। 

 

यह भी पढ़े...बड़ी खबर: प्रधानमंत्री मोदी के हेलीकॉप्टर की जांच करने वाला अधिकारी निलंबित,कांग्रेस ने किया हमला

 

 

 

 

 

 

 

Web Title: Here the Swach Bharat Mission is swallowed by the demon of corruption ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया