मुख्य समाचार
मायावती ने फिर उठाया ये पुराना मुद्दा, कहा- भाजपा की साजिश में शामिल थे मुलायम आम उत्पादन के क्षेत्र को विस्तारित करने पर शोध करें : राज्यपाल RBI को फिर लगा बड़ा झटका, डिप्टी गवर्नर विरल आचार्य ने अचानक दिया इस्तीफा सबके विकास से ही देश का विकास होगा : राज्यपाल पूर्व सैनिकों के लिए मेरे घर के दरवाजे 24 घंटे खुले : महापौर संयुक्ता भाटिया करणी सेना को डायरेक्टर ने दिया जवाब, दोनों पक्षों में घमासान ससुरालियों को नशीला पदार्थ खिलाकर शादी के दूसरे दिन ही अपने प्रेमी संग फरार हुई दुल्हन बच्ची की दुष्कर्म के बाद हत्या करने वाला रिश्तेदार पुलिस के हत्थे चढ़ा विराट कोहली ने विश्व कप में किया ये कमाल और कर ली इस कप्तान की बराबरी BSP सांसद के खिलाफ धोखाधड़ी का मामला दर्ज, जा सकती है लोकसभा की सदस्यता ट्रिपल मर्डर से दहली दिल्ली, बुजुर्ग दंपति और नौकरानी की हत्या फिर वायरल हुई अनोखे अंदाज में प्रिया प्रकाश की फोटो, पहचानना हुआ मुश्किल कांग्रेस पार्टी को मिला नया राष्ट्रीय अध्यक्ष, राहुल गांधी का इस्तीफा मंजूर! सुहाना का पोल डांस सोशल मीडिया पर वायरल राजस्थान की जेल से भाग निकले दुष्कर्म और हत्या के तीन आरोपी शमी ने कहा, हमारी गेंदबाजी ने जीत अपनी झोली में डाल ली इंदौर में ऑनर किलिंग का मामला आया सामने, भाई ने गर्भवती बहन को मारी गोली ईरान पर हमले का खतरा टला नहीं, नए प्रतिबंध लगाने की तैयारी में अमेरिका सतर्कता अधिष्ठान ने शुरू की मायावती शासनकाल के 45 कर्मियों की भ्रष्टाचार व संपत्ति की जांच
 

कई माह बाद भी चोरी का खुलासा करने में नाकाम माल पुलिस


LEKHRAM MAURYA 24/04/2019 16:55:40
23 Views

 After several months, the police failed to disclose theft

MALL. थाने से चन्द कदमों की दूरी पर पुलिस पिकेट के पास शटर तोड़कर लाखों की चोरी हो जाती है और माल पुलिस सोती रहती है। करीब दो माह पहले कस्बे में ज्वैलरी की दुकान में मुख्य चौराहे के पास चोरी के समय पुलिस के सिंपाही गायब रहते हैैं। पुलिस के अधिकारी पुलिस की लापरवाही पर कोई कार्रवाई नहीं की। जिससे जनता में आक्रोश व्याप्त है। 


इससे एक सप्ताह पहले ही माल कस्बे में ही थाने के पीछे मुकेश​ मिश्रा के घर मे चोर नकब लगाकर लाखों का सामान चुरा ले जाते हैं। और पुलिस एफ आई आर तक सीमित होकर रह जाती है।


बताते चलें कि काफी समय बाद कस्बे मे शटर तोड़कर लाखों की चोरी हो गयी और पुलिस को भनक तक नहीं लगी। जबकि  जिस जगह पर चोरी हुई, वहां पर पुलिस की हमेशा ड्यूटी रहती है। व्यापारियों ने थाने का घेराव किया, ​जिसमें पुलिस ने एक सप्ताह मे घटना का खुलासा करने का दावा किया था लेकिन कई महीने बाद भी पुलिस खाली हाथ घूम रही है। 


अवैध वाहनों से वसूली के चक्कर मे चोरी की घटना कागजों मे सिमटी

हल्के के दरोगा डग्गामार वाहनों से वसूली मे मस्त हैं। चोर चोरी मे मस्त हैं। चोरी का खुलासा करना तो दूर,पुलिस खुले आम सड़कों पर दौड़ रहे बिना नम्बर मे वाहनों को पकड़ने के बजाय उन पर मेहरबान है माल पुलिस। लोगों का कहना है कि पुलिस के न चाहने पर बिना नम्बर की गाड़िया और बिना कागजों की गाड़ियां थाने के सामने से सवारियां कैसे ढो सकती हैं। 

Web Title: After several months, the police failed to disclose theft ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया