मुख्य समाचार
शुद्ध जीवन जीने के लिए पेड़ लगाना जरूरी जानिए, कैसे बढ़ाएंं पलकों और होठों की खूबसूरती बिना सर्जरी ? कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एवं पूर्व सीएम की महारैली, कर सकते हैं ये बड़ा फैसला तेजस्वी के समर्थन में राबड़ी उठाया ये बड़ा कदम, परास्त हो गए सारे बागी प्लास्टिक के खिलाफ पीएम ने छेड़ी जंग, 10 लाख लोगों को करेंगे... मुख्यमंत्री से नहीं मिल सका दुनिया का सबसे लम्बा आदमी कांग्रेस पूरे प्रदेश में मनायेगी स्व0 राजीव गांधी की 75वीं जयन्ती अखिलेश ने दिया ऐसा बयान, किसान और जवान कर रहे सलाम! बाबा विश्वनाथ के गर्भगृह में श्रद्धालुओं के प्रवेश पर लगी रोक, दरवाजे से ही करना होगा जलाभिषेक पहलू खां मामले में मायावती ने लिया बड़ा फैसला, सरकार से समर्थन... बड़ी खबर : हमलावर हुईं बसपा सुप्रीमो, कहा- आत्महत्या तक को मजबूर हो...  बड़ी खबर : हमलावर हुईं बसपा सुप्रीमो, कहा- आत्महत्या तक को मजबूर हो...  कर्नाटक: कांग्रेस से इस्तीफा देने वाले यह विधायक सुर्खियों में, जानिए क्या है वजह मलेशिया में आयोजित तीसरे वर्ल्ड कांग्रेस को संबोधित करेंगी एमिटी की प्रोफेसर सुनीला धनेश्वर   कश्मीर के हालात पर सच को सामने नहीं आने देना चाहती योगी-मोदी की सरकार : भाकपा (माले) यूपी में मेरठ, प्रयागराज व खीरी से अवैध शराब बरामद
 

बसपा सुप्रीमों पर कसा सीबीआई का शिकंजा, जानिए क्या है पूरा मामला


DEEP KRISHAN SHUKLA 27/04/2019 11:18 AM
36 Views

Lucknow. सीबीआई की एंटी करप्शन ने मायावती पर मुकदमा दर्ज कराया है। वर्ष 2010-11 में 7 बंद चीनी मिलों की बिक्री में हुए घोटाले के मामले में यह रिपोर्ट दर्ज करायी गयी है।

CBIइस मामले की जांच में 1179 करोड़ रुपए के राजस्व के घाटे की बात सामने आयी है। इसके अलावा 14 अन्य मिलों के मामले में भी अलग अलग कर 8 प्रारंभिक जांचे दर्ज की गयी हैं। 
मिली जानकारी के अनुसार बसपा सरकार के कार्यकाल में बंद चीनी मिलों की बिक्री में बड़ा गड़बड़ झाला हुआ था। 
इस घोटाले की सीएजी और लोकायुक्त जांचों की रिपोर्ट अखिलेश सरकार सौंपी गयी थी लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई। इसके बाद सूबे में भाजपा की सरकार बनी। 
योगी सरकार ने अप्रैल 2018 में इस मामले को गंभीरता से लेते हुए मामले की सीबीआई जांच कराने की सिफारिश की। 
एक साल का समय बीत जाने के बाद अब सीबीआई इस मामले में एक्शन मोड में नजर आयी है। सीबीआई ने धोखाधड़ी, जालसाजी के अलवा कंपनी एक्ट 1956 की धारा 629 (ए) की रिपोर्ट दर्ज कराई है। 

CBI
इस मुकदमें में दिल्ली के रोहिणी निवासी राकेश शर्मा, सुमन शर्मा, गाजियाबाद के इंदिरापुरम निवासी धर्मेंद्र गुप्ता, सहारनपुर निवासी सौरभ मुकुंद, मोहम्मद जावेद, बेहट निवासी मोहम्मद नसीम अहमद और मोहम्मद वाजिद को नामजद किया है। 
अब तक हुई जांच में जो बात सामने आयी है उसके ​मुताबिक वर्ष 2010-11 में कुल 21 चीनी मिलों की बिक्री हुई थी। 
इस दौरान मिलें खरीदने का आवेदन करने वाली दो कंपनियों नम्रता मार्केटिंग प्राइवेट लिमिटेड और गिरियाशो कंपनी प्राइवेट लिमिटेड ने फर्जी बैंक दस्तावेज दिखा कर चीनी मिलों को बहुत ही सस्ते दामों पर खरीद लिया था। 
इन कंपनियायें ने देवरिया, बरेली, लक्ष्मीगंज (कुशीनगर और हरदोई) इकाई की मिलें खरीदने के लिए आवेदन किया था। 
जांच में यह खुलासा हुआ कि किसी अधिकारी ने इन कंपनियों के दस्तावेजों की पड़ताल भी नही की थी।  
इस पूरी जांच में शासन स्तर में कई बड़े अधिकारियों पर भी गाज गिरनी तय है। जांच प्रक्रिया में शामिल 29 अधिकारियों में तमाम अधिकारी वर्तमान में केन्द्र सरकार में सचिव पर हैं। 
कुछ अधिकारी प्रमुख सचिव भी है। मामले में संबंधित जिलो के तत्कालीन जिलाधिकारियों पर भी शिकंजा कस सकता हे। 

यह भी पढ़े...शत्रुघ्न सिन्हा ने कहा, मोहम्मद अली जिन्ना की देश में स्वतंत्रता और विकास में भूमिका थी

Web Title: CBI's action on BSP supremo, know what is the whole case ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया