मुख्य समाचार
सोनभद्र: सीएम के दौरे को पुलिस ने कसा शिकंजा, पूर्व विधायक समेत कार्यकर्ताओं की गिरफ्तारी  सोशल मीडिया पर कहर ढा रहीं हॉट एक्ट्रेस ईशा गुप्ता, देखें सिजलिंग तस्वीरें लखनऊ: मुठभेड़ में टिंकू नेपाली सरगना समेत तीन गिरफ्तार, दो सिपाही जख्मी मलाइका की सिजलिंग फोटो देख खुद पर काबू नहीं रख पाए आर्जुन कपूर, कर दिया ऐसा कमेंट... यूपी में बदमाशों के हौसले बुलंद, भाजपा नेता को गोलियों से भूना दो पुलिस कर्मियों की हत्या कर भागे कैदियों में एक को मुठभेड़ में पुलिस ने किया ढेर बाढ़ और बारिश से बेस्वाद हुई दाल, टमाटर हुआ लाल, इन सब्जियों के बढ़े 50 फीसदी दाम मॉब लिंचिंग पर सपा सांसद का बड़ा बयान, कहा- पाकिस्तान न जाने की सजा भुगत रहे हैं मुसलमान अब इस दिग्गज ने की प्रियंका के नाम की वकालत बाढ़ से बेहाल असम-बिहार, ताजा तस्वीरों में देखें तबाही का मंजर पीड़ितों ने कौन सा अपराध किया जो उन्हें मुझसे मिलने से रोका जा रहा : प्रियंका AKTU : यूपीएसईई – 2019 की काउंसलिंग का तीसरा चरण आज से शुरु ICC के फैसले से सदमे में जिम्बाब्वे की टीम प्लेसमेंट ड्राइव में 5 से 7 लाख के पैकेज के साथ आई कंपनी, 120 छात्र-छात्राओं ने किया प्रतिभाग मंचीय कविता के आखिरी स्तम्भ थे नीरज : लक्ष्मी नारायण चौधरी एजाज खान के अरेस्ट होने के बाद ट्वीटर पर छाए मीम्स- यूजर्स बोले... ग्रामीण क्षेत्रों में भी किया जाना चाहिए मैंगो फूड फेस्टिवल का आयोजन : डिप्टी सीएम दिनेश शर्मा तेजबहादुर की याचिका पर पीएम मोदी को नोटिस
 

बड़ी खबर: मातृ भाषा में फेल हुए यूपी बोर्ड परीक्षा के लाखों परीक्षार्थी


DEEP KRISHAN SHUKLA 28/04/2019 11:52:53
99 Views

Lucknow. इस समय देश के सियासी माहौल में जहां राष्ट्रवाद की बयार बह रही है, वहीं दूसरी ओर यूपी बोर्ड के नतीजों में एक चौंकाने वाला तथ्य सामने आया है। हिन्दी भाषी सूबे की बोर्ड परीक्षा में शामिल हुए परीक्षार्थियों में तकरीबन दस लाख छात्र छात्राएं अनिवार्य विषय के रूप में पढ़ाई जाने वाली मातृभाषा हिन्दी में फेल हो गए। हाईस्कूल और इंटरमीडिएट को मिला कर हिन्दी विषय में फेल होने वाले छात्रों का आंकड़ा 998250 है। हाईस्कूल में 574409 तो इंटरमीडिएट में 423841 परीक्षार्थी अपनी मातृ भाषा की परीक्षा ही नहीं उत्तीर्ण कर सकें जो स्वयं में गंभीर चिंता का विषय है। 

Big news, lakhs of test takers of U.P. Board exam failed in mother board 

मालूम हो कि उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा परिषद में 10वीं और 12वीं का परीक्षाफल शनिवार को जारी किया था। हाईस्कूल की परीक्षा में शामिल होने वाले 80.07 प्रतिशत और इंटरमीडिएट में 70.06 फीसदी परीक्षार्थियों ने सफलता प्राप्त की है।

रिजल्ट जारी होने के बाद किसी के चेहरे पर खुशी है तो किसी के चेहरे पर मायूसी। इन सबके बीच एक ऐसी जानकारी निकल कर आयी है ​जो समूची शिक्षा व्यवस्था को सवालों के कटघरें में खड़ा करती नजर आती है। 

Big news, lakhs of test takers of U.P. Board exam failed in mother board 

आंकड़ों के मुताबिक दोनों ही परीक्षाओं में 998250 परीक्षार्थी ऐसे रहें जो मातृ भाषा कहे जाने वाले अनिवार्य विषय हिन्दी की परीक्षा पास नहीं कर पाएं। 

इनमें सबसे ज्यादा संख्या हाई स्कूल के परीक्षार्थियों की है। हाईस्कूल के 574409 परीक्षार्थी इस विषय में फेल रहें। जबकि इं​टरमीडिएट में यह आंकड़ा 4223841 रहा। 

Big news, lakhs of test takers of U.P. Board exam failed in mother board 

अब सवाल यह उठता है कि हिन्दी भाषी प्रदेश में आखिर क्या ऐसी बड़ी वजह है कि इस विषय में इतनी बड़ी संख्या में छात्र फेल हुए। 

यह मुद्दा वर्तमान के राजनैतिक परिदृश्य में उस वक्त और अहम हो जाता है जब​कि पूरे देश में राष्ट्रवाद की बयार बह रही है। 

इस माहौल के बीच यह बड़ा सवाल खड़ा हो गया है कि मातृ भाषा में परीक्षार्थियों के पिछड़ने के पीछे अहम वजह क्या है। इस पर अगर समय रहते ध्यान न दिया गया तो इसके दुष्परिणाम देखने को मिल सकते हैं। 
  
यह भी पढ़े...यूपी बोर्ड: रिजल्ट आने के बाद यहां नौकरी का सुनहरा मौका

Web Title: Big news, lakhs of test takers of U.P. Board exam failed in mother board  ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया