मुख्य समाचार
महिलाओं से जुड़ी समस्याओं के समाधान के लिए शिक्षा जरूरी : अनुपमा जायसवाल अवैध खनन मामले में दोषी पाए गए अधिकारी का तत्काल प्रभाव से स्थानान्तरण सड़क सुरक्षा सप्ताह के दूसरे दिन परिवहन मंत्री ने बांटे हेल्मेट, लोगों को किया जागरूक डीएम की बड़ी कार्रवाई, कानूनगो व लेखपाल सहित दो सस्पेन्ड यूपी में कमजोरों और बच्चियों की हत्याओं की आ गई है बाढ़ : अखिलेश क्रिकेट के बाद अब राजनीति की पिच पर भी पाकिस्तान को लग सकता है ये तगड़ा झटका अवैध रूप से संग्रह किये मिट्टी के तेल के साथ एक युवक गिरफ्तार निर्धनों को शिक्षा प्रदान करने के लिए होना चाहिए ह्यूमन टच : राज्यपाल पिता मुलायम को व्हील चेयर पर लेकर लोकसभा पहुंचे अखिलेश यादव
 

अब स्नातक के पांच साल बाद भी परास्नातक की रेगुलर पढ़ाई कर सकेंगे छात्र


DEEP KRISHAN SHUKLA 04/05/2019 13:18:26
35 Views

Kanpur. रेगुलर परास्नातक कोर्स करने की मंशा रखने वाले उन छात्रों के लिए एक राहत भरी खबर है, जो किन्हीं कारणों से स्नातक के बाद अपनी पढ़ाई जारी नहीं रख पाए। छत्रपति शाहू जी महाराज विश्वविद्यालय से संबंद्ध महाविद्यालयों में नए सत्र से पांच साल में परास्नातक की बाध्यता को समाप्त कर दिया है। 

Now after five years of graduation, students will be able to regularly study of post graduation

सीएसजेएम यूनिवर्सिटी में विश्वविद्यालय के नियमों के अनुसार अभी तक स्नातक उत्तीर्ण करने के पांच साल के अंदर ही छात्रों को ही संस्थागत परास्नातक कोर्स में दाखिला पाने की अनुमति थी, जिसके चलते उन छात्रों को मायूस होना पड़ता था जो किन्हीं कारणों से इस दौरान पढ़ाई जारी नहीं कर पाते थे।

ऐसे छात्रों को विश्वविद्यालय के नए नियम ने राहत पहुंचाने का काम किया है। सीएसजेएम यूनिवर्सिटी के रजिस्ट्रार डॉ. विनोद कुमार सिंह ने बताया कि प्रवेश परीक्षा समिति ने नए सत्र से यह बाध्यता समाप्त कर दी है। 

Now after five years of graduation, students will be able to regularly study of post graduation

पांच सालों की बाध्यता समाप्त कर दी गयी है नए सत्र से अब इच्छुक छात्र परास्तक की पढ़ाई स्नातक के पांच साल बाद भी बतौर रेगुलर छात्र कर सकेंगे। 

बता दें कि बीते वर्ष तकरीबन ढाई हजार ऐसे छात्र थें जिन्हें नियमों की बाध्यता के चलते परास्नातक पाठ्यक्रमों में प्रवेश नहीं मिल सका था। अब नए नियम से ऐसे छात्रों की विश्वविद्यालयों से संबंद्ध महाविद्यालयों में प्रवेश की राह आसान हो गयी है। 

Now after five years of graduation, students will be able to regularly study of post graduation

  विज्ञान विषय से इंटरमीडिएट उत्तीर्ण कर सकते हैं बीएससी कृषि

कृषि में रूचि रखने वाले उन छात्रों को भी राहत मिलेगी जिन्होंने 12वीं विज्ञान वर्ग से तो उत्तीर्ण की है, लेकिन कृषि विषय उनके पाठ्यक्रम में न रहा हो। नए नियमों के तहत विज्ञान वर्ग से 12वीं की परीक्षा उत्तीर्ण करने वालों को बीएससी एग्रीकल्चर की पढ़ाई कर सकते हैं। 

यह भी पढ़े...केन्द्रीय विद्यालय अलीगंज में कबड्डी एवं हैण्डबाल प्रतियोगिता का आयोजन

Web Title: Now after five years of graduation, students will be able to regularly study of post graduation ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया