मुख्य समाचार
मायावती ने फिर उठाया ये पुराना मुद्दा, कहा- भाजपा की साजिश में शामिल थे मुलायम आम उत्पादन के क्षेत्र को विस्तारित करने पर शोध करें : राज्यपाल RBI को फिर लगा बड़ा झटका, डिप्टी गवर्नर विरल आचार्य ने अचानक दिया इस्तीफा सबके विकास से ही देश का विकास होगा : राज्यपाल पूर्व सैनिकों के लिए मेरे घर के दरवाजे 24 घंटे खुले : महापौर संयुक्ता भाटिया करणी सेना को डायरेक्टर ने दिया जवाब, दोनों पक्षों में घमासान ससुरालियों को नशीला पदार्थ खिलाकर शादी के दूसरे दिन ही अपने प्रेमी संग फरार हुई दुल्हन बच्ची की दुष्कर्म के बाद हत्या करने वाला रिश्तेदार पुलिस के हत्थे चढ़ा विराट कोहली ने विश्व कप में किया ये कमाल और कर ली इस कप्तान की बराबरी BSP सांसद के खिलाफ धोखाधड़ी का मामला दर्ज, जा सकती है लोकसभा की सदस्यता ट्रिपल मर्डर से दहली दिल्ली, बुजुर्ग दंपति और नौकरानी की हत्या फिर वायरल हुई अनोखे अंदाज में प्रिया प्रकाश की फोटो, पहचानना हुआ मुश्किल कांग्रेस पार्टी को मिला नया राष्ट्रीय अध्यक्ष, राहुल गांधी का इस्तीफा मंजूर! सुहाना का पोल डांस सोशल मीडिया पर वायरल राजस्थान की जेल से भाग निकले दुष्कर्म और हत्या के तीन आरोपी शमी ने कहा, हमारी गेंदबाजी ने जीत अपनी झोली में डाल ली इंदौर में ऑनर किलिंग का मामला आया सामने, भाई ने गर्भवती बहन को मारी गोली ईरान पर हमले का खतरा टला नहीं, नए प्रतिबंध लगाने की तैयारी में अमेरिका सतर्कता अधिष्ठान ने शुरू की मायावती शासनकाल के 45 कर्मियों की भ्रष्टाचार व संपत्ति की जांच
 

पशु आश्रय केन्द्र के नाम पर सरकारी धन का दुरूपयोग


LEKHRAM MAURYA 12/05/2019 14:59:49
29 Views

LUCKNOW.  जहां एक ओर प्रदेश सरकार ने चार माह पूर्व लेखपालों और ग्राम पंचायत सचिवों को  ग्राम पंचायत में आवारा घूमने वाले गोवंश को पशु आश्रय केन्द्रों में बंद न करने पर निलंम्बन की चेतावनी दी थी।

 Misuse of Government funds in the name of Animal Shelter Center

वहीं दूसरी ओर विकास खण्ड काकोरी की ग्राम पंचायत कुशमौरा के मजरे हलुआपुर में पशु आश्रय केन्द्र के निर्माण का काम दो माह पहले शुरू हुआ था जो आज तक अधूरा पड़ा है। जिस जगह यह केन्द्र बनाया जा रहा है वहां आधे हिस्से में ऊबड़ खाबड़ जमीन पर जंगल खड़ा है। चौथाई हिस्से में मिट्टी निकालकर करीब 20 फुट गहरा गड्ढा खोद दिया गया है जिसमें बरसात में पानी भर जाएगा। जानवरों के रूकने लायक कहीं जगह नहीं बचेगी। आसपास के ग्रामीणों ने बताया कि अभी तक एक भी आवारा पशु उसमें बंद न​हीं किया गया है। और एक माह बाद बरसात आ जाएगी। इस तरह पशु आश्रय केन्द्र के नाम पर सिर्फ सरकारी धन का दुरूपयोग ही किया गया है। 

 

Web Title: Misuse of Government funds in the name of Animal Shelter Center ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया