मुख्य समाचार
राम मंदिर का जल्द से जल्द निर्माण है अयोध्या आने का मकसद: उद्धव ठाकरे सीतापुर में भीषण सड़क हादसा, ट्रक की चपेट में आकर बाइक सवार दो युवकों की मौत न्यूजीलैंड में आया 7.2 तीव्रता का शक्तिशाली भूकंप भारत ने दक्षिण अफ्रीका को 5-1 से हराकर FIH सीरीज़ का फाइनल जीता Air India में नौकरी का सुनहरा मौका, नहीं देनी होगी लिखित परीक्षा इस दिन जारी होंगे UP Polytechnic के परीक्षा परिणाम पति करता था परेशान, पत्नी ने प्रेमी संग मिलकर उठाया खौफनाक कदम पश्चिम बंगालः डॉक्टर्स की हड़ताल खत्म होने के आसार एक्सप्रेस वे पर भीषण सड़क हादसा, 6 लोगों की मौत पाकिस्तान ने दी पुलवामा में संभावित आतंकी हमले सूचना, घाटी में हाई अलर्ट भारत-पाक महामुकाबले पर बारिश का खतरा बरकरार मिस इंडिया 2019: सुमन राव ने जीता खिताब, शिवानी रहीं फर्स्ट रनर अप रेल यात्रियों को सफर में मसाज सेवा देने की योजना पर लगा ग्रहण, जानिए क्या रही वजह पीएम मोदी की अध्यक्षता में नीति आयोग की बैठक आज, ममता और केसीआर नहीं होंगे शामिल एनडी टीवी के खास प्रमोटरों पर सेबी ने लगाई रोक, लगा इतने साल का प्रतिबंध एयरपोर्ट पर चंद्रबाबू नायडू की ली गई तलाशी, टीडीपी ने बदले की राजनीति का लगाया आरोप यूपी को डिजिटल उत्तर प्रदेश बनाने के लिए व्यापक और मजबूत दूरसंचार नेटवर्क की आवश्यकता : उप मुख्यमंत्री बल्लेबाजी डॉट कॉम के ब्रांड एम्बेसडर बने युवराज राज्यपाल ने केन्द्रीय गृह मंत्री से भेंट की सड़क सुरक्षा समिति की बैठक : बसों में अग्निशमन यन्त्र लगाने के निर्देश बसपा सांसद के घर कुर्की का आदेश हुआ चस्पा दान के सिक्कों को लेकर परेशानी में साईं बाबा मंदिर ट्रस्ट, जानिए क्या है वजह मीसा भारती ने चुनाव में हार का लिया ऐसे बदला संभावित आतंकी हमले को लेकर अयोध्या में हाई अलर्ट स्कूल चलो अभियान में सभी बच्चों को नजदीकी स्कूलों में शत-प्रतिशत नामांकन कराये जाने के निर्देश पाकिस्तान से वीडियो कॉल कर युवक ने कहा- भाईजान बम कहां रखना है और फिर...
 

अधिकारी मस्त, गोशालाओं में जानवर पस्त


LEKHRAM MAURYA 14/05/2019 13:10:59
24 Views

LUCKNOW.  गावों में बनाए गये पशु आश्रय स्थलों का हाल कितना बुरा है यह अब किसी से छिपा नहीं है। इनमें मरने वाले गोवंश के लिए कौन जिम्मेदार है, यह कोई भी अधिकारी बताने को तैयार नहीं।

 Officers mast, animals battered in goshals

भूख, प्यास, तेज धूप से मर रहे आवारा गोवंश के लिए जिम्मेदारी लेने के बजाय जनता को गुमराह कर रहे हैं विकास खण्ड माल में करीब डेढ़ दर्जन गावों में गोशालाओं का निर्माण कराया गया था। जिनमें से ग्राम पंचायत मड़वाना की गोशाला सबसे पहले बनाई गयी थी। जहां करीब 6 सौ जानवरों के बंद किये जाने की जानकारी पशुपालन विभाग और प्रशासन को दी गयी। इसके बाद ग्राम पंचायत ससपन में भी 450 जानवरों को बंद ​कर दिया गया। यहां छाया की कोई व्यवस्था नहीं थी और दो महीने बाद छाया की व्यवस्था की भी नहीं गयी है। 

 Officers mast, animals battered in goshalsमौत का घाट बनकर रह गये पशु आश्रय केन्द्र

यहां अगर भूख, प्यास और गर्मी की वजह से अब तक डेढ़ सौ जानवर मर चुके हैं तो वहीं पारा भदराही में भी अब तक इतने ही जानवर मर चुके हैं। यहां रहने वाले संतोष ने बताया कि 350 जानवर बंद किये गये थे, जिसमें से करीब 50 जानवर निकल गये और 100 से अधिक मर चुके हैं। इसी के पास एक बबूल का जंगल है। मरने वाले सभी जानवरों को उसी में फेंक दिया जाता है, जो सड़ गल कर आस पास बीमारी फैला रहे हैं।

सोमवार को गोशाला में 4 जानवर मरे हुए पड़े थे। कोई उठाने नहीं आया था। मड़वाना में भी अब तक सैकड़ों जानवर मर चुके हैं। अब तो यह हाल हो गया है कि कोई भी अधिकारी वास्तविक आंकड़ा देने को तैयार नहीं है। 

 Officers mast, animals battered in goshals

 Officers mast, animals battered in goshalsएक दूसरे को जिम्मेदार बताकर अपना पल्ला झाड़ रहे अधिकारी

इस संबन्ध में विकास अधिकारी माल का कहना है कि उनको गोशालाओं के विषय में कोई जानकारी नहीं है। यह जिम्मेदारी पशु चिकित्सा अधिकारियों को दी गयी थी।

वहीं इसका रजिस्टर बना रहे हैं। जब पशु चिकित्साधिकारी सुरेश चन्द से बात की गयी तो उन्होंने कहा कि मार्च तक 3 हजार के करीब जानवर पंजीकृत किये गये ​थे, लेकिन अब कितने बचे हैं यह डाटा उनके पास कम्पलीट नहीं है। चुनाव में यह कार्य बंद था। उन्होंने कहा कि उनका काम इलाज करना है। खाने पीने और छाया ​की व्यवस्था करना विकास खण्ड तथा ग्राम पंचायतों का है। 

Web Title: Officers mast, animals battered in goshals ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया