मुख्य समाचार
बिहार के पूर्व सीएम जगन्नाथ मिश्रा का निधन मायावती का आरक्षण पर बड़ा बयान, सरकार घूम-घूमकर करे ये काम.... लालू का चलना फिरना हुआ मुश्किल, डॉक्टर्स ने कहा- अब नहीं... यूजीसी ने प्लास्टिक बैन पर लिया बड़ा फैसला, विश्वविद्यालयों को लिखा पत्र शराब के नशे में फुटपाथ पर चढ़ाई कार, कई लोगों को किया घायल ताबड़तोड़ हत्याओं से दहला प्रयागराज, एक ही दिन में 6 मर्डर मिट्टी डालकर गड्ढामुक्त की जा रही डामर रोड शुद्ध जीवन जीने के लिए पेड़ लगाना जरूरी जानिए, कैसे बढ़ाएंं पलकों और होठों की खूबसूरती बिना सर्जरी ? कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एवं पूर्व सीएम की महारैली, कर सकते हैं ये बड़ा फैसला तेजस्वी के समर्थन में राबड़ी उठाया ये बड़ा कदम, परास्त हो गए सारे बागी प्लास्टिक के खिलाफ पीएम ने छेड़ी जंग, 10 लाख लोगों को करेंगे... मुख्यमंत्री से नहीं मिल सका दुनिया का सबसे लम्बा आदमी कांग्रेस पूरे प्रदेश में मनायेगी स्व0 राजीव गांधी की 75वीं जयन्ती अखिलेश ने दिया ऐसा बयान, किसान और जवान कर रहे सलाम!
 

अधिकारियों के नियंत्रण से बाहर हुए सीएचसी, पीएचसी के कर्मचारी


LEKHRAM MAURYA 14/05/2019 13:23:45
61 Views

CHC, PHC employees out of control of officers

LUCKNOW. गत माह सीएचसी माल में दो नर्सों द्वारा अवैध वसूली किये जाने की शिकायत के बाद मुख्य ​चिकित्साधिकारी ने दोनो नर्सों को माल से स्थानान्तरित कर इटौंजा और मलिहाबाद भेज दिया था। इन दोनों पर अवैध वसूली का आरोप सही साबित होने के बाद सीडीओ मनीष बंसल ने दोनों की सेवाएं समाप्त करने का आदेश सीएमओ को दिया था, लेकिन उसका पालन आज तक नहीं किया गया। इसके साथ ही अधीक्षक की लापरवाही पर उन्हें भी जिम्मेदार मानते हुए हटाने का आदेश दिया था। लेकिन वह अभी तक माल में ही अधीक्षक के पद पर विराजमान हैं।

CHC, PHC employees out of control of officers

जिम्मेदारों पर कार्रवाई न होने से हालात हुए बद से बदतर

इस कार्रवाई के बाद तो सीएचसी माल के हालात और भी बदतर हो गये हैं। सूत्रों का कहना है कि माल में तैनात डा. राघवेन्द्र सिंह ने खुद एक गोल्ड पैथ लैब अस्पताल के सामने खुलवा दी है। अब जांच के लिए वहीं भेजते हैं। इसके अलावा इस समय इंजेक्शन भी एक मेडिकल स्टोर से ही मंगवाकर लगवाए जा रहे हैं। 

CHC, PHC employees out of control of officers

डेढ़ से दो घंटे देर से आते हैं डाक्टर

अस्पतालों का समय सुबह 8 बजे से 2 बजे तक है, लेकिन माल में साढ़े नौ बजे से पहले ओपीडी में कोई डाक्टर नहीं बैठता है। मंगलवार को साढ़े नौ बजे अधीक्षक के साथ दंत चिकित्सक के अलावा आंख वाले कमरे में ही कर्मचारी थे शेष किसी कमरे में डाक्टरों का अता पता नहीं था। मरीजों की भीड़ लगी थी। यहां बाहरी लोगों को कर्मचारी बनाकर उनसे काम लिया जा रहा है। अधीक्षक का इस पर कोई प्रभाव नहीं है जो डाक्टर चाहता है वह अपने मतलब वाले लड़कों को रख लेता है।

निरीक्षण के नाम पर फर्ज अदायगी करने जाते हैं सीएमओ

गौरतलब है कि जब सैकड़ों शिकायतों के बाद भी अस्पतालों में कोई सुधार नहीं हो रहा है तो क्या सीएमओ का भी अस्पतालों पर से असर समाप्त हो गया है। या फिर सीएमओ का आदेश न मानने का मतलब दाल में कुछ काला है।

Web Title: CHC, PHC employees out of control of officers ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया