मुख्य समाचार
पीएम मोदी की अध्यक्षता में नीति आयोग की बैठक आज, ममता और केसीआर नहीं होंगे शामिल एनडी टीवी के खास प्रमोटरों पर सेबी ने लगाई रोक, लगा इतने साल का प्रतिबंध एयरपोर्ट पर चंद्रबाबू नायडू की ली गई तलाशी, टीडीपी ने बदले की राजनीति का लगाया आरोप यूपी को डिजिटल उत्तर प्रदेश बनाने के लिए व्यापक और मजबूत दूरसंचार नेटवर्क की आवश्यकता : उप मुख्यमंत्री बल्लेबाजी डॉट कॉम के ब्रांड एम्बेसडर बने युवराज राज्यपाल ने केन्द्रीय गृह मंत्री से भेंट की सड़क सुरक्षा समिति की बैठक : बसों में अग्निशमन यन्त्र लगाने के निर्देश बसपा सांसद के घर कुर्की का आदेश हुआ चस्पा दान के सिक्कों को लेकर परेशानी में साईं बाबा मंदिर ट्रस्ट, जानिए क्या है वजह मीसा भारती ने चुनाव में हार का लिया ऐसे बदला संभावित आतंकी हमले को लेकर अयोध्या में हाई अलर्ट स्कूल चलो अभियान में सभी बच्चों को नजदीकी स्कूलों में शत-प्रतिशत नामांकन कराये जाने के निर्देश पाकिस्तान से वीडियो कॉल कर युवक ने कहा- भाईजान बम कहां रखना है और फिर...
 

नई सरकार को लेना होगा तेल खरीद पर अहम फैसला


DEEP KRISHAN SHUKLA 15/05/2019 09:39 AM
16 Views

New Delhi. ईरान से तेल की खरीद को लेकर फैसला लोकसभा चुनाव सम्पन्न होने के बाद लिया जाएगा। भारत दौरे पर आए ईरान के विदेश मंत्री जावेद जारिफ से विदेश मंत्री सुषमा स्वराज यह बात कही। उन्होंने कहा कि तेल खरीद का फैसला देश की वाणिज्यिक आवश्यकताओं, आर्थिक हितों और ऊर्जा के साथ सुरक्षा को ध्यान में रख कर लिया जाएगा। 

New government have to take important decisions on oil purchase
बता दें कि ईरान के विदेश मंत्री जावेद जारिफ ने अपनी पहल पर वर्तमान हालात, अमेरिका द्वारा लगाए गए प्रतिबंधों और द्विपक्षीय सहयोग पर चर्चा करने के लिए भारत की यात्रा पर आए हैं। बता दें कि बीते दिनों वह चीन, रूस इराक और तुर्कमेनिस्तान देशों से भी ताजा हालातों पर चर्चा कर चुके हैं।  
सूत्रों की माने तो भारत इस मुद्दे पर सभी पक्षों को शांतिपूर्ण तरीके से सहमति बनाने का अपना रूख पहले ही स्पष्ट कर चुका है। 

New government have to take important decisions on oil purchase
भारत का मानना है समस्याओं का हल बातचीत के जरिए ही निकाला जाना चाहिए। गौरतलब हो कि अमेरिका द्वारा भारत व अन्य देशों को ईरान से तेल खरीदने के लिए दी गई 6 महीने की छूट खत्म होने के 12 दिन बीत चुके हैं। 
इसके बाद भारत और ईरान के विदेश मंत्रियों के बीच यह मुलाकात इस लिहाज से और अहम हो जाती है कि ईरान सीधे तौर पर तेल खरीददारों से सम्पर्क साधना चाहता है। 
आयात के दृष्टिकोण से देखें तो भारत विश्व का तीसरा सबसे बड़ा देश है जो कच्चे तेल का आयात करता है। 
भारत में अपनी जरूरत का 80 प्रतिशत तेल आयात के जरिए ही आता है। इराक और सऊदी अरब के बाद भारत को सबसे ज्यादा तेल निर्यात करने वाला ईरान तीसरा देश है जिससे भारत अपनी जरूरत का 10 फीसदी तेज आयात करता है। 
अमेरिका ने भारत समेत 8 अन्य देशों को ईरान से तेल आयात करने के लिए 6 माह की छूट दी थी। यह छूट हाल ही में समाप्त हो चुकी है। 

New government have to take important decisions on oil purchase
दोनों विदेश मंत्रियों की मुलाकात के दौरान ईरान के चाबहार बंदरगाह पर भी बात चीत हुई। बता दें कि इस पोर्ट का विकास भारत करा रहा है। दोनों ही देशों ने इस कार्य पर संतोष जाहिर किया। 
दोनों विदेश मंत्रियों की वार्ता में तेल खरीद पर फैसला लोकसभा चुनाव के बाद होने की बात से यह स्पष्ट हो गया है कि चुनाव के बाद नई सरकार के सामने इस मसले पर फैसला लेने की बड़ी चुनौती होगी। 

यह भी पढ़े...जिले के अधिकारी मुझसे बता रहे हैं जान का खतरा: आजम खान

 

 

 

 

Web Title: New government have to take important decisions on oil purchase ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया