मुख्य समाचार
UPTET : हाईकोर्ट के आदेश को सुप्रीम कोर्ट ने किया निरस्त, 1 लाख से ज्यादा शिक्षकों को मिली राहत अखिलेश यादव ने योगी सरकार पर बोला करारा हमला, कहा- नौजवानों की जिन्दगी में ... फतेहपुर में प्रतिबंधित मांस मिलने पर बवाल, मदरसे पर पथराव साक्षी मामले पर मालिनी अवस्थी का बड़ा बयान, लड़कियां जीवन साथी चुनें लेकिन... यूपी पुलिस को मिली बड़ी सफलता, दो इनामी बदमाश किए ढेर वरिष्ठ पत्रकार बरखा दत्त ने कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल पर लगाए गम्भीर आरोप, मचा घमासान अंतिम संस्कार की चल रही थी तैयारी, अचानक युवक की खुली आंखे और फिर जो हुआ... सरकारी आवास के मोह पॉश में जकड़े दो पूर्व मंत्रियों को गहलोत सरकार ने दिया जुर्माने का झटका सलमान संग फिल्मों में डेब्यू कर सुपरस्टार बनीं कटरीना का नहीं है कोई क्राइम रिकॉर्ड 149 साल बाद बन रहा गुरू पूर्णिमा पर चंद्र दुर्लभ योग सपा नेता अखिलेश यादव की गोली मारकर हत्या, सियासत में भूचाल
 

कोर्ट के आदेश के बावजूद सामूहिक दुष्कर्म पीड़िता की नहीं दर्ज हुई रिपोर्ट


DEEP KRISHAN SHUKLA 16/05/2019 11:10:37
46 Views

Unnao. नाबालिग से सामूहिक दुस्कर्म के मामले में न्यायालय की ओर से पीड़िता को बड़ी राहत मिली है। कोर्ट ने मामले के आरोपी वर्तमान ग्राम प्रधान समेत पांच लोगों पर मुकदमा पंजीकृत करने के आदेश दिए है। मामला उन्नाव जिले के बारासगवर थाना क्षेत्र के गढ़ेवा गांव का है। हलांकि थानाध्यक्ष ने अभी तक ऐसा कोई आदेश प्राप्त न होने की बात कही है। 

The gang-rape victim is not got justice after the court order, case has

बारासगवर थाना क्षेत्र की रहने वाली एक नवयुवती का आरोप है आरोप है जब वह 16 वर्ष की थी तब वर्ष 2015 में गांव के वर्तमान प्रधान ने अपने साथियों के साथ उसके साथ दुष्कर्म किया। 

अपना यह पाप छिपाने के लिए उसे बांदा के तिंदवारी में एक युवक को जबरन सौंप दिया गया। जब उसकी मां ने पुलिस में शिकायत की तो आरोपी ने उसे वापस बुला लिया और अपने ही घर पर दो युवकों के साथ उससे दुस्कर्म किया। 

इतना ही नहीं, उसे कई बार बेचने का प्रयास करने का आरोप भी पीड़िता ने लगाया है। इसके बाद उसे कौशांबी के युवक को सौंप दिया गया जहां उसे दो सालों तक बंधक रहने के दौरान उसने दो बच्चों को जन्म दिया। 

कौशाम्बी से किसी तरह जब वह वापस अपने घर लौटी तो उसने पुलिस को आपबीती सुनाते हुए कार्रवाई की गुहार लगायी। पुलिस ने जब उसकी शिकायत को अनसुना कर दिया तो उसने न्यायालय की शरण ली। 
अपर सत्र न्यायाधीश अष्टम की कोर्ट में इस मामले की सुनवाई के दौरान वर्तमान ग्राम प्रधान समेत पांच लोगों पर मुकदमा दर्ज करने के आदेश दिए गए। 

आरोपियों दो बांदा जिले के तिंदवारी के रहने वाले तो एक आरोपी कौशांबी के महेवाघाट का निवासी है। 26 अप्रैल को दिए गए न्यायालय के आदेश पर भी जब पुलिस ने कोई दिलचस्पी नहीं दिखाई तो पीड़िता ने एक बार फिर न्यायालय का दरवाजा खटखटाया। 

जिसके बाद न्यायालय ने पुलिस को फटकार लगाते हुए तत्काल रिपोर्ट दर्ज करने के आदेश एक बार फिर दिए है। हलांकि इस संबंध में थानाध्यक्ष बारासगवर अजय कुमार त्रिपाठी से हुई बातचीत में उन्होंने बताया कि ऐसा कोई मुकदमा थाने में दर्ज नहीं हुआ है न ही उन्हें न्यायालय से कोई ऐसा आदेश अभी तक प्राप्त हुआ है। 

यह भी पढ़े...उन्नाव में नहर से उतराता मिला युवती का सिर विहीन शव

Web Title: The gang-rape victim is not got justice after the court order, case has't registered yet ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया