मुख्य समाचार
अपने बजट का पांच फीसद हिस्सा पशुओं के कल्याण में लगाएं राज्य: गिरीश रतन टाटा को हाईकोर्ट से मानहानि मामले में राहत, जानें पूरा मामला मॉब लिंचिंग पर फिर बोले नसीरुद्दीन शाह, परिजनों से मिलकर कहा- साहस को... ट्रामा में फैला खतरनाक फंगस, कारगर दवा नहीं, अलर्ट जारी समलैंगिक विवाह के लिए कोर्ट पहुंचीं दो युवतियां, मजिस्ट्रेट ने नहीं लिया आवेदन, जानें वजह 10वीं पास के लिए दो हजार से अधिक पदों पर भर्तियां, ऐसे कर सकते हैं आवेदन दिव्यांग किशोरी से रेप करते धरा गया वृद्ध और फिर जो हुआ... भारत की गोल्डन गर्ल हिमा दास, जानिये खास बातें सरकार का सख्त आदेश, एयर इंडिया नहीं करे नियुक्ति और पदोन्नति फिर विवादों में घिरीं सोनाक्षी, धोखाधड़ी मामले के बाद सेक्सोलॉजिस्ट ने भेजा नोटिस अटल के आचरण से प्रेरित होकर एक आदर्श कार्यकर्ता का होता है निर्माण : स्वतंत्र देव अनिवार्य होगा टेस्ट, नशे में मिलने पर होगा निलंबन  लाइव शो में कॉमेडियन की मौत, लोग समझते रहे परफॉर्मेंस बजाते रहे तालियां... मेयर, पार्षद और नगर पंचायत अध्यक्ष भी लगाएंगे पौधे  यूपी में औद्योगिक विकास को बढ़ावा देने के हर सम्भव किये जाये प्रयास : उपमुख्यमंत्री मायावती ने चला ये बड़ा दांव, नहीं गिरेगी कर्नाटक की सरकार!
 

बर्खास्तगी के बाद ओमप्रकाश राजभर की पार्टी में बगावत


ABHIMANYU VERMA 20/05/2019 15:57:13
1387 Views

Lucknow. लोकसभा चुनाव खत्म होते ही यूपी की योगी सरकार ने पिछड़ा वर्ग के कल्याण मंत्री ओम प्रकाश राजभर को बर्खास्त करने की सिफारिश राज्यपाल से कर दी, जिसके बाद राज्यपाल ने राजभर को मंत्रिमंडल से बर्खास्त कर दिया। वहीं, राजभर की पार्टी के 4 विधायकों और 3 अन्य सहयोगियों को भी उनके पद से हटा दिया गया है। 

Omprakash Rajbhar

सूत्रों की मानें तो राजभर की पार्टी के बर्खास्त किए गए सभी पदाधिकारी नई पार्टी बनाकर भाजपा में शामिल हो सकते हैं। हटाये गए सदस्यों में राजभर के बेटे अरविंद राजभर के अलावा राणा अजीत सिंह, सुनील अर्कवंशी, राधिका पटेल, सुदामा राजभर, गंगाराम राजभर और वीरेंद्र राजभर का नाम शामिल है।

यह भी पढ़ें:-...ओमप्रकाश राजभर और उनके करीबियों की योगी सरकार से छुट्टी

वहीं, बर्खास्तगी के बाद राजभर ने कहा कि 13,14 अप्रैल को ही ये तय हो गया था कि ये उनको साथ नहीं रखना चाहते। उन्हें अपनी एक सीट, अपना झंडा बैनर चाहिए था। उन्होंने कहा कि अभी तो है समय 3 साल अब इसी सरकार के खिलाफ अलख जगाएंगे। 

गौरतलब है कि ओम प्रकाश राजभर की पार्टी 2017 के विधानसभा चुनाव से पहले भाजपा के साथ आई थी। हालांकि, जब से सरकार बनी है तभी से राजभर सरकार के खिलाफ बयानबाजी करते रहे हैं। उनकी पार्टी की राजभर समुदाय के बीच पकड़ मजबूत है। 

वहीं, लोकसभा चुनाव राजभर ने अपनी पार्टी के लिए भाजपा से तीन सीटों की मांग की थी, जिसके बाद सीट न मिलने की संभावनाओं को देखते हुए बगावती रुख अपना लिया था। 

Web Title: Omprakash Rajbhar's party rebellion after dismissal ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया