मुख्य समाचार
अपने बजट का पांच फीसद हिस्सा पशुओं के कल्याण में लगाएं राज्य: गिरीश रतन टाटा को हाईकोर्ट से मानहानि मामले में राहत, जानें पूरा मामला मॉब लिंचिंग पर फिर बोले नसीरुद्दीन शाह, परिजनों से मिलकर कहा- साहस को... ट्रामा में फैला खतरनाक फंगस, कारगर दवा नहीं, अलर्ट जारी समलैंगिक विवाह के लिए कोर्ट पहुंचीं दो युवतियां, मजिस्ट्रेट ने नहीं लिया आवेदन, जानें वजह 10वीं पास के लिए दो हजार से अधिक पदों पर भर्तियां, ऐसे कर सकते हैं आवेदन दिव्यांग किशोरी से रेप करते धरा गया वृद्ध और फिर जो हुआ... भारत की गोल्डन गर्ल हिमा दास, जानिये खास बातें सरकार का सख्त आदेश, एयर इंडिया नहीं करे नियुक्ति और पदोन्नति फिर विवादों में घिरीं सोनाक्षी, धोखाधड़ी मामले के बाद सेक्सोलॉजिस्ट ने भेजा नोटिस अटल के आचरण से प्रेरित होकर एक आदर्श कार्यकर्ता का होता है निर्माण : स्वतंत्र देव अनिवार्य होगा टेस्ट, नशे में मिलने पर होगा निलंबन  लाइव शो में कॉमेडियन की मौत, लोग समझते रहे परफॉर्मेंस बजाते रहे तालियां... मेयर, पार्षद और नगर पंचायत अध्यक्ष भी लगाएंगे पौधे  यूपी में औद्योगिक विकास को बढ़ावा देने के हर सम्भव किये जाये प्रयास : उपमुख्यमंत्री मायावती ने चला ये बड़ा दांव, नहीं गिरेगी कर्नाटक की सरकार!
 

कर्नाटक में दादा देवगौड़ा के पोते रेवन्ना ने की बड़े त्याग की पेशकश


DEEP KRISHAN SHUKLA 24/05/2019 14:15:41
33 Views

New Delhi. लोकसभा चुनाव के नतीजों के बाद अब जब तस्वीर साफ हो चुकी है ऐसे में कुछ ऐसे राजनीतिक घटनाक्रम हो रहे हैं जो लोगों का ध्यान अपनी ओर आकर्षित कर रहे हैं। ऐसा ही एक नाटकीय मोड़ कर्नाटक की राजनीति में देखने को मिला। जहां पूर्व प्रधानमंत्री के चुनाव हारने के बाद उनके पोते ने अपनी जीती हुई सीट से दादा के लिए इस्तीफे की पेशकश की है। 

Dada Deve Gowda
बता दें कि लोकसभा चुनाव के नतीजों में चौंकाने वाले परिणाम देखने को मिले। राजनीति में पदार्पण करने वालों को जहां जीत मिली तो वहीं किसी सीट पर वर्षों से काबिज राजनीतिक धुरंधरों को हार का मुंह देखना पड़ा। 
कुछ ऐसा ही हुआ कर्नाटक की तुमकुर लोकसभा सीट पर जहां पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवगौड़ा को हार का सामना करना पड़ा।जबकि उनके पोते प्रजवल रेवन्ना ने हसन लोकसभा सीट से अपनी निकटतम प्रतिद्वंदी ए मंजू को तकरीबन डेढ लाख मतों से हरा दिया। 
अपने दादा की हार अब पोते प्रज्वल को बर्दाश्त नहीं हो रही है। जिस पर उसने दादा के सामने अपनी जीती हुई सीट से इस्तीफे की पेशकश की है। 
बता दें कि तुमकुर की लड़ाई को कर्नाटक में लिंगायत और वोक्कालिगा दो प्रमुख समुदायों के बीच लड़ाई के रूप में देखा गया था। 

Dada Deve Gowda
इस सीट पर बसवराज और देवगौड़ा आमने-सामने थे। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक कर्नाटक लोकसभा चुनाव में जनता दल (सेक्युलर) के एकमात्र विजेता प्रज्वल रेवन्ना कथित तौर पर अपनी हसन सीट छोड़ने जा रहे हैं। 
वह ऐसा इसलिए कर रहे हैं ताकि उनके दादा, पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवगौड़ा फिर से उस सीट से चुनाव लड़कर जीत हासिल कर सके। अगर वह ऐसा करते है तो उनका यह काम भारतीय राजनीति के इतिहास में दर्ज हो जाएगा। 

यह भी पढ़े...रॉबर्ट वाड्रा की बढ़ सकती हैं मुश्किलें, ईडी ने अग्रिम जमानत निरस्त करने की मांग

Web Title: Dada Deve Gowda's grandson Revanna offered great sacrifice in Karnataka ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया