मुख्य समाचार
UPTET : हाईकोर्ट के आदेश को सुप्रीम कोर्ट ने किया निरस्त, 1 लाख से ज्यादा शिक्षकों को मिली राहत अखिलेश यादव ने योगी सरकार पर बोला करारा हमला, कहा- नौजवानों की जिन्दगी में ... फतेहपुर में प्रतिबंधित मांस मिलने पर बवाल, मदरसे पर पथराव साक्षी मामले पर मालिनी अवस्थी का बड़ा बयान, लड़कियां जीवन साथी चुनें लेकिन... यूपी पुलिस को मिली बड़ी सफलता, दो इनामी बदमाश किए ढेर वरिष्ठ पत्रकार बरखा दत्त ने कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल पर लगाए गम्भीर आरोप, मचा घमासान अंतिम संस्कार की चल रही थी तैयारी, अचानक युवक की खुली आंखे और फिर जो हुआ... सरकारी आवास के मोह पॉश में जकड़े दो पूर्व मंत्रियों को गहलोत सरकार ने दिया जुर्माने का झटका सलमान संग फिल्मों में डेब्यू कर सुपरस्टार बनीं कटरीना का नहीं है कोई क्राइम रिकॉर्ड 149 साल बाद बन रहा गुरू पूर्णिमा पर चंद्र दुर्लभ योग सपा नेता अखिलेश यादव की गोली मारकर हत्या, सियासत में भूचाल बच्चों में गुणवत्तापरक शिक्षा के साथ अच्छे संस्कार भी जरूरी : ब्रजेश पाठक  रवि किशन ने राहुल को दी नसीहत, सीरियस नहीं हुए तो राजनीति से करियर खत्म योगी सरकार शिक्षा के क्षेत्र में सरकारी नहीं असरदार कार्य कर रही है : उप मुख्यमंत्री जय श्रीराम न बोलने पर बागपत में मौलाना की पिटाई सावन की पूर्णिमा व अमावस्या पर होगी भव्य गंगा आरती पहले दूसरे जाति की लड़की से की शादी, फिर बेइज्जती के डर से पत्‍नी की करवा दी हत्या
 

एस-400: अमेरिका ने भारत को चेताया,कहा गंभीर होंगे नतीजे


RAGHVENDRA CHAURASIA 01/06/2019 12:28 PM
23 Views

Washington.अमेरिका ने रूस के साथ सबसे दूरी की मिसाइल एस-400 रक्षा प्रणाली खरीदने के फैसले पर भारत को चेतावनीदी है कि ऐसा करने से रक्षा संबंधों पर गंभीर असर पड़ेगा। एस -400 सतह से हवा में मार करने वाली रूस की अत्याधुनिक मिसाइल रक्षा प्रणाली है। जिस पर चीन 2014 में सबसे पहले रूस के साथ समझौता कर चुका है। अमेरिकी रक्षा मंत्रालय ने ऐसी ही चेतावनी तुर्की को भी दी है। 

S-400- America warned India, said serious results

भारत ने रूस के साथ अक्टूबर 2018 में यह सौदा 40 हजार करोड़ रूपये (5 अरब डॉलर) में किया था। अमेरिकी विदेश मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि मॉस्को से एस-400 वायु रक्षा प्रणाली खरीदने का नई दिल्ली का निर्णय महत्वपूर्ण था। अधिकारी इस दृष्टिकोण से भी असहमत दिखाई दिए कि भारत रूस से एस-400 सौदे का असर तब तक नहीं हो सकता है जब तक भारत अमेरिका से सैन्य खरीद को बढ़ाता रहता है। भारत से पहले रूस के एस-400 सिस्टम की आपूर्ति चीन को पिछले साल जुलाई में ही हो चुकी है। चीन-रूस के बीच 2014 में इसके लिए तीन अरब डॉलर में यह समझौता हुआ था।

भारत की चिंताएं दूर करने को तैयार है यएस 

यह पूछने पर कि भारत ने रूस से यह सौदा इसलिए किया क्योंकि अमेरिका इस तरह के हथियारों का उसके साथ साझा करने के लिए तैयार नहीं था।,अधिकारी ने कहा,अमेरिका के पास ऐसी प्रणालियां है जो प्रभावी हैं। मुझे लगता है कि एक बहुत ही सकारात्मक संदेश है कि अमेरिका भारत की चिंताओं को दूर करने के लिए उपलब्ध उपकरणों की चर्चा को तैयार है।

काटसा कानून के तहत लगा सकता है प्रतिबंध

अधिकारी ने कहा कि रूस के हथियारों की खरीद रोकने के लिए अमेरिका में काटूसा कानून है जिसके तहत वह प्रतिबंध लगा सकता है। यदि भारत रूस से एस-400 मिसाइल रक्षा प्रणाली खरीदने के अपने फैसले पर आगे बढ़ा,तो इसका भारत—अमेरिकी रक्षा रिश्तों पर गंभीर प्रभाव पड़ेगा। अधिकारी ने कहा रूस की उन्नत प्रौद्योगिकी खरीदने से रूस को गलत संदेश जाएगा क्योंकि वह अब भी आक्रामक रूख अपनाए हुए है।

 

Web Title: S-400- America warned India, said serious results ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया