मुख्य समाचार
बाढ़ और बारिश से बेस्वाद हुई दाल, टमाटर हुआ लाल, इन सब्जियों के बढ़े 50 फीसदी दाम मॉब लिंचिंग पर सपा सांसद का बड़ा बयान, कहा- पाकिस्तान न जाने की सजा भुगत रहे हैं मुसलमान अब इस दिग्गज ने की प्रियंका के नाम की वकालत बाढ़ से बेहाल असम-बिहार, ताजा तस्वीरों में देखें तबाही का मंजर पीड़ितों ने कौन सा अपराध किया जो उन्हें मुझसे मिलने से रोका जा रहा : प्रियंका AKTU : यूपीएसईई – 2019 की काउंसलिंग का तीसरा चरण आज से शुरु ICC के फैसले से सदमे में जिम्बाब्वे की टीम प्लेसमेंट ड्राइव में 5 से 7 लाख के पैकेज के साथ आई कंपनी, 120 छात्र-छात्राओं ने किया प्रतिभाग मंचीय कविता के आखिरी स्तम्भ थे नीरज : लक्ष्मी नारायण चौधरी एजाज खान के अरेस्ट होने के बाद ट्वीटर पर छाए मीम्स- यूजर्स बोले... ग्रामीण क्षेत्रों में भी किया जाना चाहिए मैंगो फूड फेस्टिवल का आयोजन : डिप्टी सीएम दिनेश शर्मा तेजबहादुर की याचिका पर पीएम मोदी को नोटिस हंगामे की भेंट चढ़ा विधानसभा के मानसून सत्र का पहला दिन  प्रियंका को लेकर चुनार पहुंची पुलिस; सैकड़ों की संख्या में कांग्रेस समर्थक मौजूद नारेबाजी जारी लखनऊ में शिवसेना का सदस्यता अभियान शुरू  जिला पंचायत सदस्य पर प्लाट कब्जाने का आरोप, एंटी भूमाफिया पोर्टल पर शिकायत  टैंपो चालकों ने किया हंगामा, भाजपा सांसद के पुत्र के करीबियों और पुलिस पर लगा वसूली का आरोप  फोरम के आदेश की नाफरमानी लखनऊ डीएम को पड़ी भारी, वेतन रोकने के आदेश अजय कुमार लल्लू बोले - जमीनी विवाद नहीं, सामूहिक नरसंहार है घोरावल कांड जमीनी विवाद नहीं, सामूहिक नरसंहार है घोरावल कांड : अजय कुमार लल्लू सुरक्षा प्रबंध सराहनीय हैं, लेकिन मेरी सुरक्षा का दायरा कम से कम रखें : प्रियंका वाड्रा
 

मंत्री बनते ही डॉ. हर्षवर्धन की निपाह वायरस से शुरू हुई जंग


DEEP KRISHAN SHUKLA 04/06/2019 13:17:39
46 Views

New Delhi. खतरनाक निपाह वायरस ने भारत में कदम रख दिए हैं। केरल राज्य में इस वायरस का पहला मामला सामने आने के बाद स्वास्थ्य महकमा चौकन्ना हो गया है। राज्य के स्वास्थ्य मंत्री केके शैलजा द्वारा दिमागी बुखार के विशेष वायरस वाले इस पहले मामले की पुष्टि के बाद केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन की प्रतिक्रिया भी सामने आई है, जिसमें उन्होंने इस वायरस निपटने में राज्य सरकार को पूर्ण सहयोग का आश्वासन दिया है। 

Dr. Harshvardhan

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने केरल में निपाह वायरस के पहले मामले पर कहा कि हम वायरस के परीक्षण की मदद के लिए वन्यजीव विभाग के संपर्क में हैं। उन्होंने कहा कि घबराने की आवश्यकता नहीं है। स्वास्थ्य सचिव समेत तमाम विभागीय अधिकारियों संग अपने आवास पर बैठक के बाद 6 अधिकारियों का दल केरल भेजा गया है। 

मालूम हो कि सोमवार को ही पीएम मोदी के मंत्रिमंडल में बतौर स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री उन्होंने कार्यभार ग्रहण किया था। वर्ल्ड साइक्लिंग डे पर लोगों को स्वास्थ्य के प्रति जागरूक करने के लिए वह अपने सरकारी आवास से निर्माण भवन स्थित अपने दफ्तर तक साइकिल चलाकर गए।

मालूम हो कि निपाह से संक्रमित छात्र केरल के एर्नाकुलम जिले का रहने वाला है और इडुक्की जिले में स्थित थोडुपुज़ा के कॉलेज में पढ़ता है। 

Dr. Harshvardhan

वह हाल में शिविर के संबंध में त्रिशूर में था जहां वह चार दिन रहा। वहां की जिला चिकित्साधिकारी डॉ. रीना ने बताया कि उसके साथ 16 अन्य छात्र में जिनमें 6 सीधे तौर पर उसके संपर्क में थे। ऐहतिहात के तौर पर उन छात्रों की भी निगरानी की जा रही है। 

  जानिए क्या है निपाह वायरस, कब हुई इसकी पहचान?

निपाह वायरस एक तरह से दिमागी बुखार है, जो बहुत तेजी से फैलता है। यह इतना घातक है कि संक्रमण के 48 घंटे में संबंधित व्यक्ति को कोमा में पहुंचा देता है। इस वायरस से संक्रमित व्यक्ति को तेज दर्द के साथ बुखार आता है। 1998 में इस वायरस की पहचान सबसे पहली बार मलेशिया में हुई थी। उस दौरान इस जानलेवा बीमारी की चपेट में आने वाले 250 में सौ से अधिक लोगों की मौत हो गयी थी। 

यह भी पढ़े...विडियो कांफ्रेंसिंग में चलने लगा पॉर्न विडियो, अधिकारी रह गए दंग

Web Title: Dr. Harshvardhan's war started with nip ah virus as he became minister ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया