सिंगल यूज़ प्लास्टिक पर रोक में भारत यूएनओ के साथ


DEEP KRISHAN SHUKLA 05/06/2019 11:02:08
64 Views

New Delhi. प्रतिबंधित पालीथिन के उपयोग पर प्रतिबंध लगाने के भारत संयुक्त राष्ट्र का साथ देने की प्रतिबद्धता जाहिर की है। विश्व साइकिल दिवस पर यूएनओ मुख्यालय में सिंगल यूज प्लास्टिक को समाप्त रकने और स्वस्थ जीवन शैली को बढ़ावा देने के लिए एक कार्यक्रम आयोजित किया गया था। भारत ने इस कार्यक्रम में हिस्सा लेने के दौरान महात्मा गांधी के संदेश का जिक्र करते हुए पर्यावरणीय स्थिरता और जलवायु संबंधी कार्रवाईयों में यूएनओ का साथ देने की बात कही। 

India with UNO in stopping single use plastic
यूएनओ में भारत के स्थायी प्रतिनिधि सैयद अकबरूद्दीन ने इस संबंध में ट्वीट के जरिए जानकारी दी। उन्होंने बताया न्यूयार्क में संयुक्त राष्ट्र में एकल उपयोग वाले प्लास्टिक का प्रयोग न हो इसके लिए भारत उसके प्रयासों के समर्थन में काम कर रहा है। 


इस मौके पर नीले रंग के कपड़े के थैलों का वितरण किया गया जिन पर महात्मा गांधी का संदेश भी लिखा था। जिसमें लिखा है कि भविष्य इस बात से तय होता है कि आप आज क्या करते हैं। इसके अलावा इन थैलों पर महात्मा गांधी का चित्र और उनकी 150वीं जयंती का लोगो की छपा था। 

India with UNO in stopping single use plastic
संस्था के सभी कर्मचारियों के बीच हुए इस थैला वितरण में भारत के स्थायी प्रतिनिधि सैयद अकबरुद्दीन के साथ अवर महासचिव अतुल खरे, निकाय में भारत के स्थायी उप प्रतिनिधि नागराज नायडू और भारत के स्थायी मिशन के सभी राजनयिक शामिल रहें। 
बता दें कि देश में कानूनी रूप से सिंगल यूज पॉलीथिन पर प्रतिबंध लग चुका है। लोगों को इसके प्रति जागरूक भी किया जा रहा है। 
साथ ही साथ प्रशासनिक मशीनरी यदाकदा अभियान चला कर ऐसी पॉलीथीन प्रयोग करने वालों पर कार्रवाई भी कर रही है।बावजूद इसके अभी पूरी तरह इस प्रतिबंधित प्लास्टिक पर रोक जमीन तौर पर नजर नहीं आ रही है। 

यह भी पढ़े...बंगाल में नहीं थम रही हिंसा, टीएमसी कार्यकर्ता की गोली मार कर हत्या

Web Title: India with UNO in stopping single use plastic ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)

कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया