मुख्य समाचार
UPTET : हाईकोर्ट के आदेश को सुप्रीम कोर्ट ने किया निरस्त, 1 लाख से ज्यादा शिक्षकों को मिली राहत अखिलेश यादव ने योगी सरकार पर बोला करारा हमला, कहा- नौजवानों की जिन्दगी में ... फतेहपुर में प्रतिबंधित मांस मिलने पर बवाल, मदरसे पर पथराव साक्षी मामले पर मालिनी अवस्थी का बड़ा बयान, लड़कियां जीवन साथी चुनें लेकिन... यूपी पुलिस को मिली बड़ी सफलता, दो इनामी बदमाश किए ढेर वरिष्ठ पत्रकार बरखा दत्त ने कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल पर लगाए गम्भीर आरोप, मचा घमासान अंतिम संस्कार की चल रही थी तैयारी, अचानक युवक की खुली आंखे और फिर जो हुआ... सरकारी आवास के मोह पॉश में जकड़े दो पूर्व मंत्रियों को गहलोत सरकार ने दिया जुर्माने का झटका सलमान संग फिल्मों में डेब्यू कर सुपरस्टार बनीं कटरीना का नहीं है कोई क्राइम रिकॉर्ड 149 साल बाद बन रहा गुरू पूर्णिमा पर चंद्र दुर्लभ योग सपा नेता अखिलेश यादव की गोली मारकर हत्या, सियासत में भूचाल
 

माल में डॉक्टरों की लापरवाही से मरीज की मौत, हंगामा


LEKHRAM MAURYA 07/06/2019 17:09:21
30 Views

LUCKNOW. सीएचसी माल में डॉक्टरों की लापरवाही से महिला की मौत के मामले ने इतना तूल पकड़ लिया इसे मैनेज करने के लिए सीएमओ कार्यालय के दो अधिकारियों को जाना पड़ गया। दिन भर चली कवायद के बाद मामला संदिग्ध होने के बावजूद डॉक्टरों ने बिना पोस्टमार्टम के ही शव को परिजनों के घर भेज दिया। इस मामले में सीएमओ ने कहा कि हमसे कोई मतलब नहीं है। 

07-06-2019184644Duetoneglige

सरकारी अस्पताल में झोलाछाप से कराते हैं इलाज

 

बता दें कि शुक्रवार तड़के शहरून (35) पत्नी हसीब को लेकर परिजन सीएचसी माल पहुंचे। मरीज को डायरिया की शिकायत थी। इमर्जेन्सी में मौजूद डाक्टर अरूण चौधरी ने मरीज को देखने के बजाय झोला छाप कर्मचारियों से वीपी चेक करके इंजेक्शन लगाने की सलाह दे दी, जिसके फलस्वरूप डॉ. राघवेन्द्र के कमरे में मौजूद नवनीत ने दवा लिख दी और श्रीराम ने ड्रिप लगाकर इंजेक्शन दे ​दिया। 

फॉर्मेसिस्ट राजेश बजाज ने अपने चेले मनीष से कहा कि इसको दवा दे दो। इंजेक्शन देने के बाद मरीज की हालत बिगड़ती गयी और कुछ ही देर में मरीज की मौत हो गयी। इस बीच मरीज के परिजनों ने डॉक्टर की लापरवाही से मरीज की मौत का आरोप लगाया। 

परिजनों ने अस्पताल में हंगामा किया, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई। जिसकी सूचना सीएचओ को दी गयी। जहां से दो अधिकारियों को माल सीएचसी भेजा गया। जिन्होंने पूरे दिन डाक्टर को बचाने का प्रयास किया।

खास बात यह थी कि इस बीच मौका पाकर डाक्टर और फॉर्मेसिस्ट अस्पताल से गायब हो गए। जिनको मौके पर नहीं बुलाया गया। अंत में मृतक महिला के शव को घर भेज दिया। महिला के परिवार में एक लड़का और दो लड़कियां हैं। जहां एक और डिप्टी सीएमओ ने बात नहीं की, वहीं सीएमओ नरेन्द्र अग्रवाल ने कहा कि उनसे कोई मतलब नहीं है। 

Web Title: Due to negligence of doctors in the goods, death of the patient ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया