मुख्य समाचार
पाकिस्तान: आतंकी हाफिज का कानूनी पैतरा, कोर्ट को बताया लश्कर से नहीं कोई वास्ता  जापानी इंसेफलाइटिस पर योगी सरकार ने हासिल की बड़ी कामयाबी : भाजपा लखनऊ: HDFC बैंक का कारनामा, अवैध तरीके से ग्राहकों से वसूल रहा रुपए मुख्यमंत्री ने बाल श्रम से मुक्ति के लिए जनप्रतिनिधियों से मांगा सहयोग हरियाणा की बेटी बनेगी इस पाक क्रिकेटर की दुल्हन... एयरस्ट्राइक के समय ही पूरे युद्ध के लिए तैयार थी भारतीय सेना जनता की समस्याओं का किया जाए त्वरित गति से निदान : केशव प्रसाद वृक्षारोपण के साथ ही पौधों को सुरक्षित एवं संरक्षित करना सभी की जिम्मेदारी : मंत्री  मिशन चंद्रयान-2: भारत को मिली बड़ी उपलब्धि शुरू होने जा रहा देश का पहला वैदिक शिक्षा बोर्ड, रामदेव होंगे अध्यक्ष यूपी में बढ़े पेट्रोल-डीजल के दाम, जानें कितना हुआ महंगा अगस्ता वेस्टलैंड केस: कमलनाथ के भांजे को ED ने किया गिरफ्तार सफारी से टक्कर 2 दोस्तों की हत्या : 3 अभियुक्त गिरफ्तार, अन्य की तलाश जारी आर्थिक सुस्ती पर रघुराम राजन ने जताई चिंता, कहा-सरकार जल्द करे सुधार अभी-अभी: नहीं रहे कांग्रेस के ये दिग्गज नेता, पार्टी में मचा कोहराम
 

पिता से बोले थे युवराज- मर भी गया तो चाहता हूं WC मेरे हाथ में हो


SUJEET KUMAR 12/06/2019 09:51:23
269 Views

New Delhi. टीम इंडिया के हरफनमौला खिलाड़ियों में से एक युवराज सिंह ने क्रिकेट के सभी प्रारूपों से संन्यास ले लिया है। संन्यास लेने के बाद उनके पिता योगराज सिंह ने अपने बेटे से संबंधित कई राज खोले हैं। उन्होंने कहा कि जब युवराज को कैंसर हुआ तो मैं अकेले कमरे में रोया था। साथ ही उन्होंने बताया कि युवराज ने उनसे कहा था कि अगर वो मर भी गया तो वो उसके हाथ में वर्ल्ड कप की ट्रॉफी देखेंगे। 

12-06-2019095820yuvrajsinghr1

संन्यास की घोषणा पर युवराज ने कहा था कि इस फैसले को लेकर मैंने पिता के साथ बैठकर बातें कीं। हमने काफी चर्चा की और फिर यह फैसला लिया कि अब क्रिकेट के तीनों फॉर्मेट को अलविदा कह देना चाहिए। 

युवराज के पिता योगराज ने एक मीडिया हाउस से इंटरव्यू में कहा, युवराज तब छह साल का था जब मैं उसे सेक्टर-16 के स्टेडियम लेकर गया था, जहां मैं अभ्यास करता था। वहां पेस अकादमी हुआ करती थी और मैं युवराज को बिना हेलमेट के बल्लेबाजी करने को कहता था। 

युवराज के पिता ने कहा, वो स्टेडियम में रोज डेढ़ घंटे दौड़ा करता था। मुझे याद है कि मेरी मां जब अपनी जिंदगी से जूझ रही थी तब उन्होंने मुझसे कहा था कि मैं इतनी कड़ी ट्रेनिंग से युवराज की जिंदगी बर्बाद कर रहा हूं, तब जिंदगी में पहली बार मुझे अपने बेटे के साथ इस तरह का बर्ताव करने पर पछतावा हुआ। 

युवराज के कैंसर के बारे में योगराज ने कहा, जब उसे कैंसर हुआ तो मैं काफी रोया। मैंने भगवान से कहा था कि यह कहानी ऐसे खत्म नहीं हो सकती। मैं अपने कमरे में अकेला रोया। मैं उसके सामने नहीं रोया। उसने मुझसे कहा था कि पापा अगर मैं मर भी गया तो मैं चाहता हूं कि आप और यह पूरा देश मेरे हाथों में वर्ल्ड कप ट्रॉफी देखें। 

युवराज के अपने पिता से रिश्ते ज्यादा अच्छे नहीं रहे हैं, लेकिन हाल ही में युवराज ने कहा था कि उन्होंने कुछ दिन पहले ही अपने पिता से बात कर सभी मुद्दों को खत्म कर दिया है। योगराज ने भी कहा कि हाल ही हमें इन दोनों ने सभी कड़वाहट को खत्म किया है और अब दोनों के रिश्ते अच्छे हैं। 

 

Web Title: yuvraj singh retirement father Yograj Singh ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया