मुख्य समाचार
 

बिहार में चमकी बुखार का ​कहर, मौत का सिलसिला अब भी जारी


SHRADDHA SAHU 12/06/2019 10:36:03
53 Views

Patna. बिहार के मुजफ्फरपुर समेत 5 जिलों में चमकी बुखार का कहर दिन ब दिन बढ़ता ही जा रहा है। पिछले 24 घंटे में करीब 12 बच्चों की मौत हो गयी है। जानकारी के मुताबित अब तक वहां 36 बच्चों की मौत चुकी है और अभी भी जिले के विभिन्न अस्पतालों में 124 बच्चों का इलाज चल रहा है। बिगड़ते हालातों को देख केंद्र सरकार ने एक उच्च-स्तरीय टीम का गठन किया है । एक्यूट एंसेफलाइटिस (एईएस) और गया में जापानी एंसेफलाइटिस (जेई) के बढ़ते मामलों पर लगाम लगाने में राज्य सरकार की मदद करेगी।

12-06-2019104042Violenceoffe1

मुजफ्फरपुर के सिविल सर्जन डॉ.शैलेश प्रसाद ने बताया कि बीमार बच्चों में से अधिकांश हाइपोग्लाइसीमिया (खून में चीनी की कमी) से ग्रसित है जिसके कारण अब तक 36 बच्चों की मौत हो चु​की है। इनमें से 26 बच्चे मुजफ्फरपुर के हैं। प्रदेश के पांच जिलों-मुजफ्फरपुर, सीतामढी, शिवहर, वैशाली, पूर्वी चंपारण के विभिन्न अस्पतालों में अब भी 124 बच्चों का इलाज चल रहा है। 

12-06-2019104105Violenceoffe2

मुजफ्फरपुर के जिलाधिकारी आलोक रंजन घोष ने स्वास्थ्य विभाग के सभी चिकित्सा पदाधिकारियों को अंतिम चेतावनी देते हुए कहा है कि बच्चों के इलाज में किसी तरह की लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी। इलाज को लेकर तत्परता होनी चाहिए और साथ ही जमीनी स्तर पर आम आवाम को जागरूक करने का कार्य भी करें।

घोष ने निर्देश दिया कि सभी आंगनवाड़ी सेविका, सहायिका, आशा और एएनएम को वार्ड स्तर पर जागरूकता कार्यक्रम में तत्काल उनकी सहभागिता सुनिश्चित कराये जाऐं। बैठक में उपस्थित सिविल सर्जन ने अपील की है कि यदि बच्चे में ऐसा कोई लक्षण दिखाई दे तो तत्काल उसे नजदीक के अस्पताल में पहुंचाएं। घोष ने सिविल सर्जन को निर्देश दिया कि घर-घर मे ओआरएस उपलब्ध करावें।

स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव संजय कुमार ने बताया कि 80 प्रतिशत मामले एईएस के नही बल्कि हाइपोग्लाइसीमिया के हैं। उन्होंने बताया कि स्वास्थ्य सेवा के प्रधान निदेशक के नेतृत्व में एक टीम स्थिति का जायजा लेने के लिए मुजफ्फरपुर गयी जो कि पटना लौट आएगी।

पटना के इंदिरा गांधी आयुर्विज्ञान संस्थान में मंगलवार को आयोजित एक कार्यक्रम में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि हाल में मुजफ्फरपुर में जिन बच्चों की मृत्यु हुयी है, वह बहुत ही दुखद है। हमलोगों को इससे काफी पीड़ा और तकलीफ हुई। उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य विभाग ने अपनी एक टीम इसके लिये भेजी है और इसके लिये किये जा रहे उपायों का भी जायजा लेगी। इसके लिये जागरूकता अभियान चलाने की भी जरूरत है ताकि अपने बच्चों की हिफाजत लोग अच्छे ढंग से कर सकें।

यह भी पढ़े..बिहार के इन 136 बीएड कॉलेजों की मान्यता होगी रद्द

Web Title: Violence of fever fever in Bihar, Bihar still continues ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया