मुख्य समाचार
UPTET : हाईकोर्ट के आदेश को सुप्रीम कोर्ट ने किया निरस्त, 1 लाख से ज्यादा शिक्षकों को मिली राहत अखिलेश यादव ने योगी सरकार पर बोला करारा हमला, कहा- नौजवानों की जिन्दगी में ... फतेहपुर में प्रतिबंधित मांस मिलने पर बवाल, मदरसे पर पथराव साक्षी मामले पर मालिनी अवस्थी का बड़ा बयान, लड़कियां जीवन साथी चुनें लेकिन... यूपी पुलिस को मिली बड़ी सफलता, दो इनामी बदमाश किए ढेर वरिष्ठ पत्रकार बरखा दत्त ने कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल पर लगाए गम्भीर आरोप, मचा घमासान अंतिम संस्कार की चल रही थी तैयारी, अचानक युवक की खुली आंखे और फिर जो हुआ... सरकारी आवास के मोह पॉश में जकड़े दो पूर्व मंत्रियों को गहलोत सरकार ने दिया जुर्माने का झटका सलमान संग फिल्मों में डेब्यू कर सुपरस्टार बनीं कटरीना का नहीं है कोई क्राइम रिकॉर्ड 149 साल बाद बन रहा गुरू पूर्णिमा पर चंद्र दुर्लभ योग सपा नेता अखिलेश यादव की गोली मारकर हत्या, सियासत में भूचाल बच्चों में गुणवत्तापरक शिक्षा के साथ अच्छे संस्कार भी जरूरी : ब्रजेश पाठक  रवि किशन ने राहुल को दी नसीहत, सीरियस नहीं हुए तो राजनीति से करियर खत्म योगी सरकार शिक्षा के क्षेत्र में सरकारी नहीं असरदार कार्य कर रही है : उप मुख्यमंत्री जय श्रीराम न बोलने पर बागपत में मौलाना की पिटाई सावन की पूर्णिमा व अमावस्या पर होगी भव्य गंगा आरती पहले दूसरे जाति की लड़की से की शादी, फिर बेइज्जती के डर से पत्‍नी की करवा दी हत्या
 

तीन तलाक पर विपक्ष भी राजी,जल्द बनेगा कानून


RAGHVENDRA CHAURASIA 14/06/2019 15:32 PM
25 Views

New Delhi. तीन तलाक विधेयक पर समर्थन करने के लिए विपक्ष राजी हो गया है। उम्मीद है कि तीन तलाक विधेयक जल्द ही कानून में परिवर्तन हो जाएगा। 17 वीं लोकसभा का पहला सत्र सोमवार से शुरू हो रहा है। बजट सत्र में तीन तलाक विधेयक के कानून में बदल जाने के आसार बन रहे हैं। केंद्रीय मंत्रिमंडल द्वारा बुधवार को पारित विधेयक में कांग्रेस की अधिकतर आपत्तियों का निराकरण कर दिया गया है। 

Consideration on three divorces, will soon become law

कांग्रेस सहित अन्य विपक्षी दलों ने किया समर्थन

तीन तलाक विधेयक को समर्थन देने के लिए कांग्रेस सहित अन्य विपक्षी दलों ने समर्थन देने का एलान किया है। अब ऐसे में राज्यसभा में एनडीए का बहुमत न होने के बावजूद यह बिल दोनों सदनों से पारित होने की संभावना है। ​वहीं पिछली एनडीए सरकार के विधेयक में चार बिंदुओं पर विपक्ष को आपत्ति थी। पहली कि विवाह व तलाक को आपराधिक मामला बना दिया गया। दूसरे,इस अपराध की एफआईआर कोई भी दर्ज कर सकता था,यहां तक कि पुलिस भी स्वत:संज्ञान ले सकती थी। तीसरी आपत्ति इसे गैरजमानती अपराध बनाने पर और सबसे बड़ी आपत्ति थी कि तलाक पर मर्द तो जेल भेज दिया जाएगा। मगर पत्नी—बच्चों का भरण-पोषण कैसे होगा? नए विधेयक में तीन बातों का समाधान हो गया है।
 

 

Web Title: Consideration on three divorces, will soon become law ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया