आधा दर्जन आयुक्तों के पद ​रिक्त,फिर ​शासन में सब ठीक कैसे


LEKHRAM MAURYA 16/06/2019 13:08:05
68 Views

16-06-2019132528Thepostsofh

LUCKNOW. प्रदेश के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले पदों पर कई माह से तैनाती न होने से विभागीय काम काज के अलावा सरकारी योजनाओं के क्रियान्ययन पर भी प्रभाव पड़ रहा है। प्रदेश में कृषि उत्पादन आयुक्त का पद पिछले डेढ़ माह से खाली चल रहा है। कृषि से जुड़े एक दर्जन विभागों की मॉनिटरिंग भी एपीसी ही करता है। शासन में मुख्य सचिव के बाद एपीसी ही सबसे प्रभावशाली होता है। चकबंदी आयुक्त का पद भी पिछले कई माह से खाली पड़ा है। इस पद का अतिरिक्त चार्ज अपर मुख्य सचिव राजस्व रेणुका कुमार के पास है। अपर मुख्य सचिव बेसिक शिक्षा का प्रभार वह पहले से देख रही हैं। रेणुका पर तीन—तीन प्रभार का असर तीनों ही विभागों के काम काज पर पड़ रहा है ग्राम्य विकास आयुक्त का पद अरसे से खाली चल रहा है। जबकि यह ग्रामीण क्षेत्र के विकास पर नजर रखने और निचले स्तर के अधिकारियों की मॉनिटरिंग की जिम्मेदारी इसी पद के अधिकारी के पास होती है। इस पद का प्रभार अपर आयुक्त मनरेगा के पास है। गन्ना आयुक्त की जिम्मेदारी प्रमुख सचिव गन्ना विकास एवं चीनी उद्योग संजय भूसरेड्डी के पास बनी हुई है। दुग्ध आयुक्त का प्रभार भी अर्से से प्रमुख सचिव दुग्ध विकास के पास है। एनसीआर आयुक्त का पद भी पिछले महीने खाली हो गया। इस पद का प्रभार स्थानिक आयुक्त प्रभात कुमार सारंगी को दिया गया है। औद्योगिक विकास आयुक्त की जिम्मेदारी स्वयं मुख्य सचिव देख रहे हैं। 

Web Title: The posts of half a dozen commissioners are vacant, then how is all right in governance ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)

कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया