क्रिकेट के बाद अब राजनीति की पिच पर भी पाकिस्तान को लग सकता है ये तगड़ा झटका


RAJNISH KUMAR 18/06/2019 19:24:36
51 Views

New Delhi, भारत और पाकिस्तान के बीच विश्वकप मुकाबले में एक बार फिर टीम इंडिया ने भारत को मात दे दी। भारत ने खेल की पिच पर पाकिस्तान को तगड़ा झटका दिया है, लेकिन अब राजनीति की पिच पर भी पाकिस्तान को बड़ा झटका लग सकता है। मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक, ये झटका मोदी सरकार के प्रयासों से पड़ोसी मुल्क को लग सकता है। आइए जानें आखिर पाक के लिए वो मुसीबत क्या है।

18-06-2019192637pakistankola1

जम्मू कश्मीर के पुलवामा जिले में बड़ा आतंकवादी हमला हुआ था। इसमें सीआरपीएफ के जवानों की शहादत हो गई थी। इसके बाद मोदी सरकार ने एयर स्ट्राइक तो की थी, लेकिन राजनीति की पिच पर भी पाकिस्तान की पोल खोल दी थी। मोदी सरकार ने पाकिस्तान पर आतंकियों की फंडिंग करने का दावा कर अन्तरराष्ट्रीय मंच पर पड़ोसी मुल्क को ब्लैक लिस्ट करने की मांग कर दी थी।

मोदी सरकार की ये मुहिम रंग ला सकती है। पहले ही जैश ए मोहम्मद संगठन को पाकिस्तान में बैन करवाकर भारत आधी लड़ाई जीत चुका था। अब आतंकवादियों की फंडिंग पर भी मोदी सरकार को विजय मिल सकती है। 16 से 21 जून को होने वाली फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स की बैठक में पाक को ब्लैकलिस्ट किया जा सकता है। इसकी वजह मोदी सरकार की ओर बताया गया कारण है जो जैश-ए-मोहम्मद और लश्कर-ए-तैयबा जैसे आतंकी संगठनों पर एक्शन लेने में नाकामी है।

18-06-2019192643pakistankola2

मोदी सरकार की मुहिम रंग लाई तो पाकिस्तान ब्लैक लिस्ट हो जाएगा। 16 से 21 जून के बीच ओरलैंडों में ये फैसला हो सकता है। अगर ऐसा हुआ तो पहले से ही कंगाल हो चुके पाकिस्तान के सामने और बड़ी मुसीबत आ जाएगी।

इसकी वजह है कि ब्लैक लिस्ट में आने के बाद कोई भी बड़ी संस्था पाक को पैसा नहीं देगी और इमरान सरकार के सामने डिफॉल्टर घोषित होने का खतरा मंडरा जाएगा। बैठक में पाक को ब्लैक लिस्ट करने का प्रस्ताव लाया जा सकता है। इस बीच पाकिस्तान एक बार फिर से इस मीटिंग में अपने बचाव के लिए जवाब तैयार कर रहा है। 

 

 

Web Title: pakistan ko lag sakta hai bada jhatka ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया