मुख्य समाचार
हंगामे की भेंट चढ़ा विधानसभा के मानसून सत्र का पहला दिन  प्रियंका को लेकर चुनार पहुंची पुलिस; सैकड़ों की संख्या में कांग्रेस समर्थक मौजूद नारेबाजी जारी लखनऊ में शिवसेना का सदस्यता अभियान शुरू  जिला पंचायत सदस्य पर प्लाट कब्जाने का आरोप, एंटी भूमाफिया पोर्टल पर शिकायत  टैंपो चालकों ने किया हंगामा, भाजपा सांसद के पुत्र के करीबियों और पुलिस पर लगा वसूली का आरोप  फोरम के आदेश की नाफरमानी लखनऊ डीएम को पड़ी भारी, वेतन रोकने के आदेश अजय कुमार लल्लू बोले - जमीनी विवाद नहीं, सामूहिक नरसंहार है घोरावल कांड जमीनी विवाद नहीं, सामूहिक नरसंहार है घोरावल कांड : अजय कुमार लल्लू सुरक्षा प्रबंध सराहनीय हैं, लेकिन मेरी सुरक्षा का दायरा कम से कम रखें : प्रियंका वाड्रा
 

आम महोत्सव में दशहरी के अलावा 25 किस्मों की आइसक्रीम भी


LEKHRAM MAURYA 21/06/2019 00:21:15
70 Views

LUCKNOW. केंद्रीय उपोष्ण बागवानी संस्थान में आम की 25 किस्मों की आइसक्रीम आम महोत्सव में एक नव व्यवसायी को स्थापित करने में सहयोग के लिए प्रदर्शित करेगा। प्रदर्शन ही नहीं आप इनका स्वाद भी ले सकेंगे। इसका मुख्य उद्देश्य आइसक्रीम बनाने के लिए आम की उपयुक्त किस्मों की जानकारी इकट्ठा करना है।

21-06-2019004403ApartfromDus1

आम की किस्म का असर उससे बनी आइसक्रीम के रंग, खुशबू और बहुत सी खूबियों पर पड़ता है, जिसके कारण कुछ किस्मों की आइसक्रीम तो बहुत ही बेहतरीन होती है और आप उन्हें जरुर पसंद करेंगे। 15 आम की किस्मों की आइसक्रीम बनाने के बाद यह पाया गया कि आइसक्रीम के रंग एवं स्वाद में बिना रसायनों के प्राकृतिक विविधता उत्पन्न की जा सकती है।  

आमतौर पर मार्केट में कृत्रिम रंग और खुशबू का प्रयोग करके बनी आम की आइसक्रीम उपलब्ध है। यह आइसक्रीम बहुतायत से मार्केट में बिक रही है, परंतु रसायनों के प्रयोग से स्वास्थ्य पर प्रभाव से अनजान ग्राहक खा भी रहे हैं। ऐसे में आम के गूदे का प्रयोग स्वास्थ्यकारक आइसक्रीम बनाने के लिए एक अच्छा प्रयास है।

आम के गूदे के प्रसंस्करण में व्यवसायिक रूप से प्रगति संतोषजनक नहीं 

 

उत्तर भारत में आम का अच्छा एवं सस्ता गूदा आम के मौसम के अलावा मिलना कठिन है और सीजन बाद इसके उपलब्ध न होने के कारण वर्षभर आइसक्रीम बनाने का सवाल ही नहीं उठता है। वैसे भारत के दूसरे आम उत्पादक क्षेत्रों में आम के गूदे की कई फैक्ट्रियां हैं, परंतु मलिहाबाद और यहां तक कि पूरे उत्तर भारत में आम के गूदे के प्रसंस्करण के क्षेत्र में व्यवसायिक रूप से संतोषजनक प्रगति नहीं हुई है। संस्थान आइसक्रीम के लिए उपयुक्त किस्म खोजने के लिए यह प्रयास पहली बार कर रहा है।

आम महोत्सव के दौरान विभिन्न किस्मों की आइसक्रीम के ऊपर जानकारी एकत्र करके उसके विश्लेषण से उपयोगी वैज्ञानिक तथ्य प्राप्त होंगे। इस जानकारी को ध्यान में रखकर आइसक्रीम उद्योग के लिए चुनिन्दा आमों के गूदे के परिक्षण के लिए तकनीकी विकसित करने में सहायता मिलेगी। इस जानकारी को किसानों के लिए व्यवसाय के रूप में परिवर्तित करने के लिए वैज्ञानिकों को शोध का अवसर प्राप्त होगा। संस्थान के पास विश्व के आम की किस्मों का सबसे बड़ा संकलन है, साथ ही साथ बहुत सारी संकर किस्में भी उपलब्ध है। इस विविधता में आइसक्रीम के लिए बहुत ही उपयुक्त किस्में छांटना सरल हो जाएगा, क्योंकि विभिन्न प्रकार की आइसक्रीम के स्वाद को चख कर उपभोक्ता की प्रतिक्रिया समझना पहला और आवश्यक चरण है।

मुसलाहुद्दीन का प्रयास समाज को दे सकता है मौसमी रोजगार 

इस कार्य में संस्थान के साथ कंधे से कंधा मिलाकर प्रयास के लिए भदवाना ग्राम निवासी 22 वर्षीय युवक मुसलाहुद्दीन सामने आया। उसने इस कार्य की शुरुआत संस्थान के सहयोग से तब की जब दशहरी का गूदा बाज़ार में फल न होने के कारण मिलना मुश्किल था। संस्थान ने दशहरी आम के गूदे को भंडारित करने के लिए तकनीक का प्रयोग करके गूदे को एक वर्ष तक बिना क्वालिटी खराब हुए भंडारित किया और इस नवयुवक ने विभिन्न तरह से इसका प्रयोग करके अच्छी क्वालिटी की आइसक्रीम बिना कृत्रिम रंग और खुशबू के बनाई, जिसको गांव और शहर दोनों में ही खूब पसंद किया गया। 

नवयुवक से इस कार्य में इतनी रुचि लेने का कारण पूछा गया तो उसका सीधा सा जवाब यह था ​​कि​ आम की किस्मों के लिए प्रसिद्ध मलिहाबाद से कुछ ऐसा कार्य किया जाए, जिससे बागों में पैदा हो रही छोटी दशहरी का किसानों को सही दाम दिलाने में सहायता मिल पाए। उसकी संस्थान से अपेक्षा विभिन्न स्तर पर तकनीकी के मानकीकरण में वैज्ञानिक मार्गदर्शन प्राप्त करने की थी।

21-06-2019004730ApartfromDus3

बिना कृत्रिम रंग और खुशबू के बनाई गई आम की आइसक्रीम को सभी ने सराहा। संस्थान द्वारा प्राप्त किए हुए दशहरी के गूदे से सैकड़ों आइसक्रीम बनाई गई और इनको समाज के कई वर्गों द्वारा स्वाद के आधार पर मूल्यांकन कराया गया। सभी ने आम के प्राकृतिक रंग एवं खुशबू को पसंद किया। इस सराहना ने नवयुवक को उत्साहित किया और संस्थान से आम की 25 किस्मों का गूदा आम महोत्सव में विभिन्न किस्म की आइसक्रीम के रूप में प्रदर्शित किया जायगा। 

संस्थान को इस कार्य में तकनीकी जानकारी एकत्रित करने में सहायता मिलेगी। इस शोध से यह भी संभावना है कि आइसक्रीम के लिए कुछ विशेष किस्में चिन्हित हो जाए और उनका उपयोग करके उत्तम क्वालिटी की आइसक्रीम की ब्रांडिंग की जा सके। मलिहाबाद और उसके आसपास के क्षेत्र में दशहरी का दबदबा है और बागों में बड़े आकार के फलों के पैसे तो अच्छे मिल जाते हैं परंतु छोटे आकार के आम ओने पौने दाम में बिक जाते हैं। कभी कभी किसान बड़े आमों के साथ छोटे आम भी पेटी में लगाकर अधिक पैसा कमाने की कोशिश करते हैं परंतु इससे व्यावसायिक रूप से अच्छा नहीं माना जाता है। यदि दशहरी के छोटे फलों का उपयोग करके आइसक्रीम के लिए मांग बढ़ाई जाए तो बागवानों की आय बढ़ाई जा सकती है।

सस्ते दाम पर आम के मौसम के बाद आइसक्रीम के लिए गूदा उपलब्ध करने के लिए संस्थान तकनीकी विकसित करने में  प्रयासरत है। इस क्षेत्र में खाद्य प्रसंस्करण मंत्रालय के सहयोग से आम के गूदे, विशेषकर दशहरी को प्रोत्साहित करने के लिए तकनिकी जानकारी प्रदान करके आइसक्रीम व्यवसाई स्थापित करना मुख्य उद्देश्य है। आइसक्रीम बनाने में आम के गूदे की काफी खपत हो सकती है। 

मलिहाबाद में दशहरी के अलावा अन्य किस्मे बहुत छोटे स्तर पर उगाई जाती है यद्यपि किस्मे संख्या में बहुत ज्यादा है परंतु उन का उत्पादन इतना अधिक नहीं है कि गूदा अधिक मात्रा में उपलब्ध हो सके। ऐसी दशा में दशहरी  किस्म का सबसे अधिक उपयोग करना सार्थक होगा क्योंकि इसकी उपलब्धता भी आसान है और साथ ही साथ इसके अंदर बहुत सी खासियत है।

इन खूबियों को उजागर करना वैज्ञानिकों एवं व्यवसाई का मुख्य उद्देश होना चाहिए। अवध आमउत्पादक एवं बागवानी समिति, मलिहाबाद को सहयोग करके आम की आइसक्रीम के अतिरिक्त गूदे के अन्य उपयोग के लिए संस्थान प्रयास कर रहा है ताकि भविष्य में मलिहाबाद और आसपास के क्षेत्र में छोटे स्तर प्रसंस्करण करके आम के गूदे का मूल्य वर्धन सफलतापूर्वक किया जा सकें।

Web Title: Apart from Dussehra, 25 varieties of ice cream in the mango festival ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया