मुख्य समाचार
सोनभद्र: सीएम के दौरे को पुलिस ने कसा शिकंजा, पूर्व विधायक समेत कार्यकर्ताओं की गिरफ्तारी  सोशल मीडिया पर कहर ढा रहीं हॉट एक्ट्रेस ईशा गुप्ता, देखें सिजलिंग तस्वीरें लखनऊ: मुठभेड़ में टिंकू नेपाली सरगना समेत तीन गिरफ्तार, दो सिपाही जख्मी मलाइका की सिजलिंग फोटो देख खुद पर काबू नहीं रख पाए आर्जुन कपूर, कर दिया ऐसा कमेंट... यूपी में बदमाशों के हौसले बुलंद, भाजपा नेता को गोलियों से भूना दो पुलिस कर्मियों की हत्या कर भागे कैदियों में एक को मुठभेड़ में पुलिस ने किया ढेर बाढ़ और बारिश से बेस्वाद हुई दाल, टमाटर हुआ लाल, इन सब्जियों के बढ़े 50 फीसदी दाम मॉब लिंचिंग पर सपा सांसद का बड़ा बयान, कहा- पाकिस्तान न जाने की सजा भुगत रहे हैं मुसलमान अब इस दिग्गज ने की प्रियंका के नाम की वकालत बाढ़ से बेहाल असम-बिहार, ताजा तस्वीरों में देखें तबाही का मंजर पीड़ितों ने कौन सा अपराध किया जो उन्हें मुझसे मिलने से रोका जा रहा : प्रियंका AKTU : यूपीएसईई – 2019 की काउंसलिंग का तीसरा चरण आज से शुरु ICC के फैसले से सदमे में जिम्बाब्वे की टीम प्लेसमेंट ड्राइव में 5 से 7 लाख के पैकेज के साथ आई कंपनी, 120 छात्र-छात्राओं ने किया प्रतिभाग मंचीय कविता के आखिरी स्तम्भ थे नीरज : लक्ष्मी नारायण चौधरी एजाज खान के अरेस्ट होने के बाद ट्वीटर पर छाए मीम्स- यूजर्स बोले... ग्रामीण क्षेत्रों में भी किया जाना चाहिए मैंगो फूड फेस्टिवल का आयोजन : डिप्टी सीएम दिनेश शर्मा तेजबहादुर की याचिका पर पीएम मोदी को नोटिस
 

जानिए सीजेआई गोगोई ने क्यों लिखे पीएम मोदी को तीन पत्र 


DEEP KRISHAN SHUKLA 22/06/2019 10:07 AM
41 Views

New Delhi. सुप्रीम कोर्ट में लगे लंबित मामलों के अंबार को लेकर सीजेआई ने पीएम मोदी को तीन पत्र लिखकर दो संवैधानिक संशोधनों का अनुरोध किया है। इन पत्रों में प्रमुख रूप से सुप्रीम कोर्ट में न्यायाधीशों की संख्या बढ़ाने और जजों की सेवा निवृत्ति की आयु 62 से बढ़ा कर 65 वर्ष करने की बात कही गयी है। 

Know why CJI Gogoi wrote three letters to PM Modi
भारत के मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को तीन पत्र लिखे हैं। इन पत्रों में उन्होंने सुप्रीम कोर्ट में लंबित मामलों की लम्बी चौड़ी फेहरिस्त का हवाला दिया है। 
इसके साथ ही उन्होंने प्रधानमंत्री प्राथमिकता के आधार पर दो संविधान संशोधनों की गुजारिश भी की है। 
उन्होंने अपने पत्र में कहा कि सुप्रीम कोर्ट में जजों की संख्या वर्तमान में मात्र 31 है जो लंबित मामलों को देखते हुए नाकाफ ही लिहाजा इसे बढ़ाया जाना अत्यंत आवश्यक है। 
दूसरी मांग में उन्होंने उच्च न्यायालयों के न्यायाधीशों के सेवानिवृत्ति की आयु बढ़ाकर 65 वर्ष करने की बात कही है। 
वर्तमान में हाई कोर्ट के जज 62 वर्ष की आयु में सेवा निवृत्त होते हैं। अपने तीसरे पत्र में सीजेआई रंजन गोगोई ने सुप्रीम कोर्ट और हाई कोर्ट के सेवा निवृत्त न्यायाधीशों के कार्यकाल की पुरानी परंपरा को पुनर्जीवित करने की मांग की है। 

Know why CJI Gogoi wrote three letters to PM Modi
इसके पीछे उनका तक है कि इससे लंबित मामलों का निपटारा किया जाना आसान हो जाएगा। इसके लिए उन्होंने संविधान के अनुच्छेद 128 और 224ए का हवाला दिया है। 
उन्होंने अपने पत्र में कहा कि सुप्रीम कोर्ट में मात्र 31 न्यायाधीश है जबकि लंबित मामलों की संख्या 58669 है नए मामलों के आने से यह संख्या निरंतर बढ़ती जा रही है। 
मुख्य न्यायाधीश के मुताबिक ने सुप्रीम कोर्ट में न्यायाधीशों की संख्या 31 से बढ़ाकर 37 की जानी चाहिए।
  

यह भी पढ़ें...जम्मू कश्मीर में होगा परिसीमन, लद्दाख में 8 विधानसभा सीटें बढ़ाने की तैयारी

 

 

 

 

Web Title: Know why CJI Gogoi wrote three letters to PM Modi ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया